लाइव टीवी

मुंबई मेयर का चुनाव नहीं लड़ेगी BJP, बोली- 2022 में अपने दम पर हासिल करेंगे बहुमत

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 11:45 AM IST
मुंबई मेयर का चुनाव नहीं लड़ेगी BJP, बोली- 2022 में अपने दम पर हासिल करेंगे बहुमत
बीजेपी नेता आशीष सेलार ने कहा है कि हमारे पास नंबर नहीं हैं. 2022 में अपने दम पर हम बहुमत हासिल करेंगे.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता आशीष शेलार (Ashish Shelar) ने कहा है कि बीजेपी मुंबई मेयर (Mumbai Mayor) का चुनाव नहीं लड़ेगी और न ही किसी विपक्षी दल से गठबंधन करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 11:45 AM IST
  • Share this:
मुंबई. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता आशीष शेलार (Ashish Shelar) ने कहा है कि बीजेपी मुंबई मेयर (Mumbai Mayor) का चुनाव नहीं लड़ेगी और न ही किसी विपक्षी दल से गठबंधन करेगी. बीजेपी के नेतृत्व वाले केंद्र की एनडीए सरकार से शिवसेना (Shiv Sena) के अलग होने के बाद मुंबई मेयर के चुनाव को लेकर चर्चाओं का दौर जारी था. हालांकि बीजेपी के नेता ने स्थिति को स्पष्ट कर दिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक आशीष शेलार ने कहा, 'बीजेपी मुंबई मेयर का चुनाव नहीं लड़ेगी क्योंकि हमारे पास संख्या बल नहीं है. हम विपक्षी दल के साथ कोई गठबंधन नहीं करना चाहते हैं. 2022 में हम अपने दल पर बहुमत हासिल करेंगे.'




227 सीटों वाली महानगरपालिका में 2017 में चुनाव के बाद शिवसेना के पास 84 सीटें थी जबकि बीजेपी के पास 82 सीटें थी. हालांकि दोनों दलों के बीच तल्खी के कारण बीजेपी ने शिवसेना के साथ सरकार बनाने से मना कर दिया था और शिवसेना को बाहर से सपोर्ट करके सरकार में ना रहने का फैसला किया था. हर ढाई-ढाई साल पर मुंबई का मेयर चेंज होता है जिसे मुंबई में चुने हुए पार्षद मेयर को चुनते हैं. 2017 में हुए मेयर पद के चुनाव के लिए शिवसेना के विश्वनाथ महादेश्वर मेयर बने थे जबकि बीजेपी के सरकार में ना आने के कारण शिवसेना की ही शुभांगी वरलीकर उप मेयर बनी थी.

शिवसेना और बीजेपी के रिश्ते खराब
Loading...

अब जब बीजेपी और शिवसेना के बीच फिर से रिश्ते खराब हो गए हैं. ऐसे में कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी मेयर पद शिवसेना से छीन सकती है और इसके लिए वह बाकायदा लामबंदी कर सकती है. लेकिन आशीष शेलार ने मेयर चुनाव को लेकर बीजेपी की स्थिति को साफ कर दिया है. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी और शिवसेना के बीच गतिरोध शुरू हो गया था. शिवसेना बीजेपी से सत्ता में बराबर की भागीदारी और ढाई-ढाई साल के लिए सीएम पद की मांग कर रही थी. इसी को लेकर दोनों दलों में सहमति नहीं बन पाई और शिवसेना ने बीजेपी की नेतृत्व वाली केंद्र की एनडीए से अलग होने का फैसला कर लिया.

ये भी पढ़ें-

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर आज सोनिया गांधी से मिलेंगे शरद पवार

महाराष्ट्र के नए सत्ता समीकरण में सभी को कैसे याद आए बालासाहेब ठाकरे!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 11:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...