लाइव टीवी
Elec-widget

महाराष्ट्र: BJP ने राष्ट्रपति शासन लगने के लिए शिवसेना को ठहराया जिम्मेदार

भाषा
Updated: November 12, 2019, 11:35 PM IST
महाराष्ट्र: BJP ने राष्ट्रपति शासन लगने के लिए शिवसेना को ठहराया जिम्मेदार

  • भाषा
  • Last Updated: November 12, 2019, 11:35 PM IST
  • Share this:
मुंबई. बीजेपी (BJP) ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में 19 दिन के राजनीतिक गतिरोध के बाद राष्ट्रपति शासन (President's Rule) लगने के लिए शिवसेना (Shiv Sena) के 'हठ' को उसका नाम लिए बिना जिम्मेदार ठहराया है. बता दें कि राष्ट्रपति शासन मंगलवार शाम में लागू हुआ जब राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने केंद्र को एक रिपोर्ट भेजकर कहा कि उनके तमाम प्रयासों के बावजूद वर्तमान स्थिति में एक स्थिर सरकार का गठन असंभव है.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुधीर मुनगंतीवार (Sudhir Mungantiwar) ने बीजेपी की कोर समिति की एक बैठक के बाद कहा, 'राष्ट्रपति शासन लगना जनादेश का अपमान है और यह कुछ लोगों के हठ के कारण हुआ है जिन्होंने उस जनादेश का अपमान किया. हम उभर रही राजनीतिक स्थिति पर नजदीकी नजर रखे हुए हैं.'

महाराष्ट्र विधानसभा के पिछले महीने हुए चुनाव में बीजेपी 105 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी. शिवसेना ने 56 सीटें, एनसीपी ने 54 सीटें और कांग्रेस ने 44 सीटें जीती थीं. चुनाव परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित हुए थे.

हालांकि शिवसेना ने यह कहते हुए सरकार बनाने के लिए बीजेपी को समर्थन देने से इनकार कर दिया कि अमित शाह नीत पार्टी मुख्यमंत्री पद शिवसेना के साथ साझा करने के वादे से पीछे जा रही है. राज्यपाल के आमंत्रण पर बीजेपी ने रविवार को सरकार बनाने से इनकार करते हुए कहा कि उसके पास जरूरी संख्याबल नहीं है.

मुनगंटीवार ने उद्धव ठाकरे नीत पार्टी द्वारा कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाने के प्रयासों का उल्लेख करते हुए कहा, 'एक स्पष्ट जनादेश के बावजूद हमने अपनी सहयोगी की तरह वैकल्पिक संभावनाएं नहीं तलाशी, जिसने चुनाव परिणाम के बाद अन्य विकल्पों के बारे में बातें की.' उन्होंने सवाल किया, 'यदि उन्हें सरकार बनाने को लेकर विश्वास था तो वे समर्थन का पत्र लेने में क्यों असफल रहे.'

शिवसेना के नेता जब तय समयसीमा में राज्यपाल से राजभवन में मुलाकात करने गए तो वे कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन पत्र पेश करने में असफल रहे. इसके बाद राज्यपाल ने तीसरी सबसे बड़ी पार्टी एनसीपी को सरकार बनाने के लिए दावा पेश करने के लिए के लिए आमंत्रित किया. हालांकि शाम में राष्ट्रपति शासन लग गया.

इस बीच बीजेपी विधायक दल के नेता देवेंद्र फडणवीस ने उम्मीद जताई कि राज्य में जल्द ही एक स्थिर सरकार बनेगी. उन्होंने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने कहा, 'एक स्पष्ट जनादेश के बावजूद सरकार नहीं बन पाई और राष्ट्रपति शासन लगाना पड़ा. यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं उम्मीद करता हूं कि राज्य को जल्द ही स्थिर सरकार मिलेगी.'
Loading...

 

इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए जो भी जरूरी होगा वह करेंगे कि उनकी पार्टी राज्य में सरकार बना ले. उन्होंने कहा, 'मैं एक नई बीजेपी सरकार बनने के लिए जो भी जरूरी होगा करूंगा लेकिन मैं (तौर तरीके) चर्चा नहीं करूंगा.'

ये भी पढ़ें-

महाराष्‍ट्र में बदलते सियासी समीकरण पर बोले संजय निरुपम- जल्‍द चुनाव के लिए रहें तैयार

शिवसेना के हालात ऐसे, लड़ियो-झगड़ियो और छोटी बहू के गले पड़ियो: दुष्यंत चौटाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 11:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...