लाइव टीवी
Elec-widget

महाराष्ट्र: बीजेपी का शिवसेना पर तंज- कांग्रेस के साथ हिंदुत्व का एजेंडा कैसे फिट होगा?

भाषा
Updated: November 13, 2019, 8:16 PM IST
महाराष्ट्र: बीजेपी का शिवसेना पर तंज- कांग्रेस के साथ हिंदुत्व का एजेंडा कैसे फिट होगा?
शिवसेना अक्सर खुद को हिंदुत्ववादी दल के रूप में पेश करती है (फाइल फोटो)

बीजेपी (BJP) नेता और केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे (Raosaheb Danve) ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम में अपने हिंदुत्व के एजेंडे को कैसे फिट करती है.’

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सत्ता के लिए चला संघर्ष राष्ट्रपति शासन के साथ खत्म हो गया. राज्य में 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लग गया है. हालांकि शिवसेना (Shiv sena), एनसीपी-कांग्रेस (NCP-Congress) के साथ सरकार बनाने के लिए बातचीत कर रही है. इस बीच बीजेपी (BJP) ने बुधवार को शिवसेना पर ‘हिंदुत्व’ (Hindutva) को लेकर तंज कसा. बीजेपी ने कहा कि शिवसेना विपरीत विचारधारा वाले दलों कांग्रेस और एनसीपी के साथ महाराष्ट्र में सरकार बनाने की संभावनाएं तलाश रही है. ऐसे में कांग्रेस के साथ हिंदुत्व का एजेंडा कैसे फिट होगा?

वरिष्ठ बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने कहा, ‘ये शिवसेना पर है कि वह कांग्रेस के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम (सीएमपी) में अपने हिंदुत्व के एजेंडे को कैसे फिट करती है.’ उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस, जो 150 साल पुरानी पार्टी है, जाहिर तौर पर (सरकार में) वह अपने एजेंडा को आगे बढ़ाएगी.

खुद को हिंदुत्ववादी दल के रूप में पेश करती है शिवसेना
बता दें, शिवसेना अक्सर खुद को हिंदुत्ववादी दल के रूप में पेश करती है, और यही वह वैचारिक धरातल है, जो उद्ध‍व ठाकरे की पार्टी और बीजेपी को आपस में जोड़ता है. ठाकरे ने मंगलवार रात को कहा कि अगर सरकार बनती है तो कांग्रेस और एनसीपी की तरह शिवसेना को भी न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर स्पष्टता चाहिए.

अब शिवसेना के पास बहुमत साबित करने के लिए पर्याप्त समय
दानवे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का बचाव करते हुए कहा, ‘राज्यपाल के खिलाफ आपत्ति करना सही नहीं है. उन्होंने केवल संवैधानिक अधिकारों का उपयोग किया.’ उन्होंने कहा कि चूंकि अब राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है, इसलिए अब शिवसेना के पास बहुमत साबित करने के लिए पर्याप्त समय है. उन्होंने कहा, ‘अगर शिवसेना के पास आंकड़े हैं तो वह कभी भी दावा कर सकते हैं.’ अपनी पार्टी की रणनीति के बारे में उन्होंने कहा कि जनादेश का सम्मान किया जाना चाहिए और अगर ऐसा नहीं होता है तो बीजेपी विपक्ष में बैठेगी.

बता दें, हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी 105 सीटों के साथ सबसे बड़े दल के तौर पर उभरी लेकिन 145 के बहुमत के आंकड़े से 40 सीट दूर रह गई. बीजेपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ने वाली शिवसेना को 56 सीटें मिलीं. वहीं एनसीपी ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटों पर जीत दर्ज की.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 7:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com