लाइव टीवी

CAA Protest: मुंबई से शुरू हुई 3 हजार किमी की गांधी शांति यात्रा, राजघाट तक पहुंचेगी
Mumbai News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 9, 2020, 2:49 PM IST
CAA Protest: मुंबई से शुरू हुई 3 हजार किमी की गांधी शांति यात्रा, राजघाट तक पहुंचेगी
यशवंत सिन्हा ने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में गांधी शांति यात्रा की शुरुआत की.

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) ने गुरुवार को नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में गांधी शांति यात्रा की शुरुआत की. यात्रा को एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 2:49 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (National Citizenship Register) के विरोध में गुरुवार को 'गांधी शांति यात्रा' की शुरुआत की गई. पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) ने गुरुवार को नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में गांधी शांति यात्रा की शुरुआत की. 3000 किलोमीटर लंबी इस यात्रा को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. यह यात्रा मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया से शुरू की गई.

सीएए को वापस लेने की मांग की
इस यात्रा में वंचित बहुजन अघाड़ी के प्रकाश अंबेडकर और अन्य नेता शामिल हुए. पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा सीएए को वापस लेने और दिल्ली के जेएनयू हमले जैसी 'सरकार प्रायोजित हिंसा' की उच्चतम न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश द्वारा न्यायिक जांच कराने की मांग को लेकर गुरुवार को मुंबई से शुरू हो चुकी बहुराज्यीय यात्रा का नेतृत्व कर रहे हैं.

कुछ कदम जो सरकार ने उठाए हैं, उससे देश की एकता को चोट पहुंची है: शरद पवार



यात्रा के शुभारंभ के अवसर पर शरद पवार ने कहा कि, कुछ कदम जो सरकार ने उठाए हैं, उससे देश की एकता को चोट पहुंची है...अल्पसंख्यकों से लेकर पिछड़े वर्ग तक में, हर कोई डर में है या इतना सक्षम नहीं है कि वह यह बता पाएं कि वह कहां से आए हैं, कहां रह रहे हैं और कहां जाना है? ऐसे में लोगों को कि उन्हें अलग तरह के कैंप में रखा जाएगा... ऐसी नौबत आएगी...

पवार बोले, गांधी जी का रास्ता ही सबसे सही और योग्य है
शरद पवार ने कहा कि, जो छात्र इस कानून के विरोध में सड़क पर शांति से आना चाहते थे, उन पर अपनी ताकत का गलत इस्तेमाल कर हुकूमत उन्हें खत्म कर देने की कोशिश कर रहा है. जेएनयू में जो हुआ उससे नौजवानों को ठेस लगी है और पूरे देशभर की अलग-अलग यूनिवर्सिटीज में इसका विरोध जारी है...ऐसे में इससे निपटने के लिए गांधी जी का रास्ता ही सबसे सही और योग्य है जो नौजवानों का मार्गदर्शन करेगा...



दिल्ली के राजघाट पर समाप्त होगी यह यात्रा
सिन्हा ने मुंबई में पत्रकारों से कहा कि 'गांधी शांति यात्रा' के दौरान सरकार से यह मांग भी की जाएगी कि वह संसद में घोषणा करे कि राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) नहीं कराई जाएगी.' यात्रा महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा से होकर 30 जनवरी को दिल्ली के राजघाट पर समाप्त होगी. इस दौरान तीन हजार किलोमीटर का सफर तय किया जाएगा.

ये बड़े नेता भी हुए शामिल
यात्रा में किसान संगठनों समेत विभिन्न संगठनों के हिस्सा लेने की संभावना है. संवाददाता सम्मेलन में सिन्हा के साथ महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण, पूर्व सांसद शत्रुघ्न सिन्हा और विदर्भ से कांग्रेस नेता आशीष देशमुख मौजूद थे.

ये भी पढ़ें -  

दिल्ली: पटपड़गंज की फैक्ट्री में लगी भीषण आग, एक शख्स की मौत

BJP नेता सीपी सिंह के बिगड़े बोल, कहा- राहुल गांधी ‘नकली गांधी’ हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 11:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर