लाइव टीवी

NCP प्रमुख शरद पवार से बोले छगन भुजबल, अजित पवार को माफ कर देना चाहिए

भाषा
Updated: November 26, 2019, 10:42 PM IST
NCP प्रमुख शरद पवार से बोले छगन भुजबल, अजित पवार को माफ कर देना चाहिए
छगन भुजबल (Chhagan Bhujbal) ने कहा अजित भाई पवार के चलते आज महाविकास अघाड़ी मजबूत हुई है, इसलिए शरद पवार (Ajit Pawar) को उनकी गलती माफ कर देनी चाहिए.

छगन भुजबल (Chhagan Bhujbal) ने कहा अजित भाई पवार के चलते आज महाविकास अघाड़ी मजबूत हुई है, इसलिए शरद पवार (Ajit Pawar) को उनकी गलती माफ कर देनी चाहिए.

  • भाषा
  • Last Updated: November 26, 2019, 10:42 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस की सरकार बनवाने वाले एनसीपी नेता अजित पवार को मनाने के लिए शरद पवार (Sharad Pawar) का परिवार और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता लगातार कोशिश कर रहे थे. मंगलवार को अजित ने डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया. अजित पवार को लेकर एनसीपी के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल ने पार्टी चीफ शरद पवार से भतीजे को माफ करने की सिफारिश की.

छगन भुजबल ने कहा कि अजित पवार के चलते आज महाराष्ट्र विकास अघाडी मजबूत हुई है, इसलिए शरद पवार को उन्हें माफ कर देना चाहिए. सूत्रों के मुताबिक, यही वजह है कि मंगलवार दोपहर उन्होंने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और इसी के साथ चार दिन पुरानी भाजपा की देवेंद्र फडणवीस सरकार का पतन हो गया.

शरद पवार ने खुद अपने भतीजे से सुबह फोन पर बात की
बताया जाता है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने खुद अपने भतीजे से सुबह फोन पर बात की और भाजपा के साथ गठबंधन एवं उपमुख्यमंत्री पद पर बने रहने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा. उन्होंने बताया कि अजित पवार ने सुबह ही शरद पवार की बेटी एवं अपनी चचेरी बहन सुप्रिया सुले के पति सदानंद सुले से दक्षिण मुंबई के होटल में मुलाकात की. सूत्रों ने कहा, ‘दादा (अजित पवार को लोग इस नाम से पुकारते हैं) ने सुले के साथ मंगलवार की सुबह होटल में चर्चा की’.

सदानंद सुले से मुलाकात के बाद अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री पद से दे दिया इस्तीफा
सदानंद सुले से मुलाकात के बाद अजित पवार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के आधिकारिक बंगले ‘वर्षा’ गए, जहां भाजपा की कोर समिति की बैठक हुई. बैठक के बाद अजित पवार ने निजी कारणों से इस्तीफा दे दिया. इस घटनाक्रम का नतीजा यह हुआ कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने उच्चतम न्यायालय की निगरानी में महाराष्ट्र विधानसभा में होने वाले शक्ति परीक्षण से एक दिन पहले ही अपना बहुमत खो दिया और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी अपना इस्तीफा दे दिया.

चार दिनों से अजित पवार को मनाने की कोशिश की जा रही थी
Loading...

उल्लेखनीय है कि 23 नवंबर की सुबह तत्कालीन राकांपा विधायक दल के नेता अजित पवार ने पार्टी की नीति का उल्लंघन करते हुए भाजपा सरकार को समर्थन करने का फैसला किया. हालांकि, पवार परिवार और राकांपा के वरिष्ठ नेता पिछले चार दिनों से उन्हें मनाने की लगातार कोशिश कर रहे थे.

इन नेताओं ने अजित पवार को मनाने की कोशिश की
सुप्रिया सुले ने शनिवार को अजित पवार को राकांपा में लौटने के लिए भावनात्मक अपील की थी. अजित के भतीजे रोहित पवार ने भी बारामती विधायक से फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया था. सूत्रों ने बताया कि राकांपा नेता जयंत पाटिल, दिलीप वलसे पाटिल, सुनील तटकरे और छगन भुजबल भी लगातार अजित पवार को मनाने की कोशिश कर रहे थे.

छगन भुजबल ने कहा था, परिवार टूटना नहीं चाहिए
छगन भुजबल ने पत्रकारों से कहा था, ‘हम (अजित पवार को मनाने की) कोशिश कर रहे हैं, परिवार टूटना नहीं चाहिए.’ दिलीप वलसे पाटिल ने भी कहा कि राकांपा को भरोसा है कि अजित पवार भाजपा से गठबंधन का फैसला बदलेंगे. राकांपा के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा, ‘हमारी अजित पवार के साथ संक्षिप्त चर्चा हुई है.’ इससे पहले दिन में अजित पवार पुलिस स्मारक में 26/11 मुंबई हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम से दूर रहे जिसमें राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और देवेंद्र फडणवीस भी शामिल हुए.

ये भी पढे़ं - 

उद्धव ठाकरे बोले- सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं कभी मुख्यमंत्री बनूंगा

महाराष्ट्र में बीजेपी के कालीदास कोलंबकर ने ली प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 10:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...