होटल कारोबारी की हत्‍या के प्रयास मामले में छोटा राजन दोषी करार, सज़ा का ऐलान कल

News18Hindi
Updated: August 20, 2019, 3:35 PM IST
होटल कारोबारी की हत्‍या के प्रयास मामले में छोटा राजन दोषी करार, सज़ा का ऐलान कल
मुंबई की एक विशेष अदालत ने होटल व्यवसायी बीआर शेट्टी की हत्या के प्रयास के लिए राजेंद्र निखलजे उर्फ छोटा राजन को दोषी ठहराया है.

मुंबई की एक विशेष अदालत ने होटल व्यवसायी बीआर शेट्टी की हत्या के प्रयास के लिए राजेंद्र निखलजे उर्फ छोटा राजन को दोषी ठहराया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2019, 3:35 PM IST
  • Share this:
दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को अदालत ने एक मामले में दोषी ठहराया है. मुंबई की एक विशेष अदालत ने होटल व्यवसायी बीआर शेट्टी की हत्या के प्रयास के मामले में राजेंद्र निखलजे उर्फ छोटा राजन को दोषी करार दिया है. सजा का ऐलान बुधवार को किया जाएगा. बता दें कि साल 2012 में होटल व्यवसायी बीआर शेट्टी की हत्या कर दी गई थी.




स्‍पेशल कोर्ट ने छोटा राजन को आपराधिक षड्यंत्र (साजिश) रचने, हत्या, हत्या के प्रयास और वर्ष 2012 के बीआर शेट्टी शूटआउट मामले में हथियार अधिनियम के तहत दोषी ठहराया है. इस मामले में मुंबई अपराध शाखा ने आरोप पत्र (चार्जशीट) दायर किया था.

कौन है छोटा राजन
Loading...

छोटा राजन (नाना के नाम से भी मशहूर) मुंबई अंडरवर्ल्ड क्राइम सिंडिकेट का बॉस रहा है. साथ ही वो अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का भी करीबी रह चुका है. छोटी-मोटी चोरियां और शराब तस्करी से अपराध की दुनिया में प्रवेश करने वाले छोटा राजन ने पहले राजन नायर के लिए काम किया, जिसे बड़ा राजन के नाम से भी जानते हैं. बड़ा राजन की मौत से बाद छोटा राजन ने गैंग की कमान संभाली. इसके बाद वो दाऊद से जुड़ गया और उसके इशारे पर मुंबई में काम करने लगा. वर्ष 1988 में वो भारत से दुबई चला गया था.

छोटा राजन ने लंबे समय तक दाऊद इब्राहिम के गैंग में काम किया था. लेकिन बाद में मतभेदों के चलते राजन ने दाऊद से अलग होकर अलग गैंग बना ली थी (फाइल फोटो)


मतभेद के चलते दाऊद से अलग हो गया था छोटा राजन
छोटा राजन कई आपराधिक केसों में वॉन्टेड है, जिनमें जबरन वसूली, हत्या, तस्करी, मादक पदार्थों की तस्करी और फिल्म फाइनेंस शामिल हैं. वो 17 हत्‍या और हत्‍या के प्रयास से जुड़े मामले में आरोपी है. 1993 के मुंबई बम ब्लास्ट की आतंकी घटना के बाद छोटा राजन दाऊद से अलग हो गया था. राजन के बढ़ते प्रभाव से भारत में डी कंपनी का काम संभाल रहे सौत्या, छोटा शकील और शरद शेट्टी अच्छा महसूस नहीं कर रहे थे. खबरों के मुताबिक उन्होंने दाऊद को राजन के खिलाफ भड़काना शुरू कर दिया.

अपने खिलाफ साजिश से छोटा राजन दाऊद गैंग के अंदर चल रही गतिविधियों से असुरक्षित महसूस करने लगा था. उसे अपनी जान का खतरा भी सताने लगा था. इस वजह से उसने भारतीय अधिकारियों से निवेदन किया कि उसे दुबई से बाहर किसी और देश में जाने की इजाजत दी जाए. वो किसी और देश में नाम बदलकर रहना चाहता था. इसके बदले उसने भारतीय अधिकारियों को अंडरवर्ल्ड सिंडिकेट के बारे में जानकारियां साझा करने की पेशकश की थी.

ये भी पढ़ें- 

प्रोफेसर से सीएम तक कुछ ऐसा था जगन्नाथ मिश्रा का सियासी सफर

पैतृक गांव से होगा पूर्व CM जगन्नाथ मिश्रा का अंतिम संस्कार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 20, 2019, 2:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...