'12th फेल' का CM फडणवीस ने किया विमोचन, सचिन तेंदुलकर भी कर चुके तारीफ

यह किताब उस लड़के की कहानी है जो एक छोटे से कस्बे से आता है और बारहवीं में फेल हो जाता है. उसके दोस्त, घर वाले सभी मजाक उड़ाते हैं लेकिन वह हौसला रखता है और दिल्ली जाकर यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करता है.

Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 11:58 AM IST
'12th फेल' का CM फडणवीस ने किया विमोचन, सचिन तेंदुलकर भी कर चुके तारीफ
सीएम देवेंद्र फडणवीस ने किया किताब 12th. फेल का विमोचन.
Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 11:58 AM IST
महाराष्ट्र: आईपीएस अधिकारी डॉ. मनोज शर्मा की नई किताब 'ट्वेल्थ फेल' का महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विमोचन किया. यह शर्मा के जीवन पर लिखी गई ऑटो बॉयोग्राफी है. खास बात है कि इस किताब की तारीफ खुद पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी कर चुके हैं और इसे एक प्रेरणादायक किताब बताया है.

यह किताब उस लड़के की कहानी है जो एक छोटे से कस्बे से आता है और बारहवीं में फेल हो जाता है. उसके दोस्त, घर वाले सभी मजाक उड़ाते हैं लेकिन वह हौसला रखता है और दिल्ली जाकर यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करता है. कुछ समय बाद वह महाराष्ट्र कैडर का आईपीएस अधिकारी बनता है और फिर कई जिलो में एसपी रहने के बाद मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त का प्रभार संभालता है.

डॉ. मनोज शर्मा बताते हैं कि मुंबई में आने के बाद लगातार उन बच्चों और मां बाप से मुलाकात होती थी जो बारहवी में 80% पाने के बाद भी हतास थे. मां बाप को बच्‍चे के अच्छे स्कूल में दाखिला ना मिलने का डर सताता था क्योंकि बिना अच्छा कालेज मिले नौकरी न मिलने का डर था.

वे कहते हैं कि उन बच्चो और परिवार वालों से मिलने के बाद उन्हें अपनी ऑटो बॉयेग्राफी लिखने की सूझी जो उन बच्चों और परिवार वालों के लिए सहायक हो सकती है जो कम नंबर पाने या फेल होने से डिप्रेशन में चले गए थे.

इसलिए लिखी गई ये किताब
मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के बिलगांव से आने वाले मनोज शर्मा कभी भी बहुत अच्‍छे अंक लाने वाले छात्रों में नही थे  लेकिन अपनी मेहनत से उन्होने ये मुकाम हासिल किया. ट्वेल्थ फेल बुक के लेखक अनुराग पाठक हैं. अनुराग पाठक कहते हैं कि बुक लिखने के पीछे तीन महत्वपूर्ण कारण थे.

पहला ये कि मुख्‍य चरित्र किसी धनाढ्य परिवार से नही था. उसे बेसिक सुविधाएं भी बहुत मुश्किल से मिलीं. दूसरा बोर्न इंटेलिजेंस जैसी कोई चीज़ नही होती. मेहनत करने पर योग्यता आ सकती है और तीसरा ये कि मनोज के अफेयर को इस किताब में बताया गया है. वह प्यार करके भी आगे बढता है और उसकी पत्नी भी महाराष्ट्र कैडर की आईआरएस अधिकारी बन जाती है.
Loading...

ये भी पढ़ें

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 11:54 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...