होम /न्यूज /महाराष्ट्र /महाराष्ट्र-कर्नाटक जमीन विवाद में अब कूदी कांग्रेस, बोली-जमीन महाराष्ट्र की

महाराष्ट्र-कर्नाटक जमीन विवाद में अब कूदी कांग्रेस, बोली-जमीन महाराष्ट्र की

कांग्रेसी नेता सचिन सावंत

कांग्रेसी नेता सचिन सावंत

महाराष्ट्र के कांग्रेसी नेता सचिन सावंत (Sachin Sawant) ने मंगलवार को सख्त लहजे में कहा, विवादित जमीन महाराष्ट्र की है. ...अधिक पढ़ें

    मुंबई. महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच में हुए सीमा विवाद (Maharashtra-Karnataka Land Row) में एक नया मोड़ आ गया है. अब इस जमीनी लड़ाई में कांग्रेस (Congress) कूद पड़ी है. महाराष्ट्र के कांग्रेसी नेता सचिन सावंत (Sachin Sawant) ने मंगलवार को सख्त लहजे में कहा, विवादित जमीन महाराष्ट्र की है. इसलिए यह जमीन महाराष्ट्र को वापस मिलनी चाहिए. हालांकि महाराष्ट्र के कांग्रेसी नेता का यह स्टैंड कर्नाटक कांग्रेस इकाई से बिल्कुल उलट है.

    सावंत बोले- जिन इलाकों को लेकर विवाद, वहां बहुतायत आबादी मराठी
    सावंत ने कहा, 'हमारी प्रतिबद्धता महाराष्ट्र के लोगों के लिए है. यह जमीनी विवाद लंबे समय से ठंडे बस्ते में पड़ा है. विवादित जमीन में पड़ने वाले बेलगांव, निपानी, करवर में मराठी आबादी बहुतायत में है. इसलिए स्पष्ट तौर पर जमीन महाराष्ट्र की है. और इसलिए ये महाराष्ट्र के हिस्से में ही आनी चाहिए.'

    " isDesktop="true" id="3423171" >

    उद्धव ठाकरे ने किया था ट्वीट- विवादित जमीन वापस लेने के लिए प्रतिबद्ध
    इस सवाल पर कि उनका स्टैंड कर्नाटक कांग्रेस इकाई से बिल्कुल विपरीत है तो उनका जवाब था, 'हमारी पहली प्रतिबद्धता महाराष्ट्र की जनता से है. दरअसल, कर्नाटक और महाराष्ट्र का यह जमीनी विवाद उस वक्त चर्चा में आया जब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा था कि महाराष्ट्र सरकार कर्नाटक से विवादित जमीन वापस लेने के लिए प्रतिबद्ध है. बवाल तब और बढ़ गया जब
    डिप्टी सीएम अजित पवार ने भी बिल्कुल यही ट्वीट अपने ट्विटर हैंडल से किया. इस पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने जवाब दिया, 'कर्नाटक से महाराष्ट्र को एक इंच भी जमीन देने का प्रश्न ही नहीं उठता. उन्हें केवल राजनीतिक कारणों से बयान जारी करना बंद कर देना चाहिए.'

    (विनय देशपांडे की पूरी स्टोरी यहां क्लिक कर पढ़ी जा सकती है.)

    Tags: BS Yediyurappa, CM Uddhav Thackeray, Maharashtra

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें