उद्धव कैबिनेट में शिंदे की बेटी प्रणीति को नहीं मिली जगह, समर्थक ने सोनिया के लिए खून से लिखा पत्र

उद्धव सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से सहयोगियों में नाराजगी की खबरें आ रही हैं (File Photo)

उद्धव सरकार (Uddhav government) का पहले मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से ही सहयोगियों में नाराजगी की खबरें आ रही हैं. सरकार में सहयोगी कांग्रेस (Congress) के कुछ विधायक भी नाराज बताए जा रहे हैं. मंगलवार को एक कांग्रेसी विधायक के समर्थन ने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के लिए खून से खत लिखा है.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र के सोलापुर से तीन बार की कांग्रेस विधायक प्रणीति शिंदे (Congress MLA Praniti Shinde) को महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नेतृत्व वाली सरकार में शामिल नहीं किए जाने से वहां के पार्टी कार्यकर्ता काफी नाराज हो गए हैं. एक कार्यकर्ता ने तो खून से कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के लिए विरोध पत्र लिखा है. जबकि एक अन्य ने इस्तीफा दे दिया है.

    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 26 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्रियों को शामिल कर सोमवार को अपने मंत्रिपरिषद् का विस्तार किया था. पूर्व मुख्यमंत्री सुशील कुमार शिंदे की बेटी प्रणीति सोलापुर सिटी (मध्य) से तीसरी बार कांग्रेस विधायक निर्वाचित हुई हैं.

    सोलापुर के जिला युवा कांग्रेस के अध्यक्ष नितिन नागने ने पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को खून से पत्र लिखा और दावा किया कि प्रणीति और उनके पिता ने पार्टी के लिए काफी मेहनत की. दोनों महाराष्ट्र में पार्टी नेतृत्व के प्रति निष्ठावान रहे लेकिन पार्टी उन्हें हाशिए पर डाल रही है.

    युवा कांग्रेस के अध्यक्ष नितिन नागने ने मांग की कि पूर्व मुख्यमंत्री शिंदे को राज्यसभा के लिए नामित किया जाए और प्रणीति को राज्य सरकार में कुछ बड़ी जिम्मेदारी दी जाए.

    कांग्रेस पार्षद फिरदौस पटेल ने दिया इस्तीफा
    वहीं, अन्य घटनाक्रम में सोलापुर से कांग्रेस पार्षद फिरदौस पटेल ने महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोराट को पत्र लिखकर सूचित किया कि वह प्रणीति को मंत्री नहीं बनाए जाने की वजह से पार्टी और पार्षद पद से इस्तीफा दे रही हैं.

    कांग्रेस के पुणे दफ्तर में तोड़फोड़

     

    उद्धव मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने से नाराज कांग्रेस विधायक संग्राम थोपटे के समर्थकों ने पुणे स्थिति पार्टी कार्यालय में जमकर तोड़फोड़ की. पुलिस ने बताया कि थोप्टे के समर्थकों ने कांग्रेस भवन पर हमला किया और तोड़फोड़ की. प्रदर्शनकारियों ने थोप्टे को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने पर पार्टी नेतृत्व के खिलाफ नारेबाजी की. थोप्टे पूर्व मंत्री अनंतराव थोप्टे के बेटे हैं.

    राउत ने कहा - हमें नए चेहरों को भी देना था मौका
    शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक राउत ने कहा कि 24 अक्टूबर को राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी को समर्थन देने वाले सहयोगियों को जगह देनी थी. राज्यसभा सदस्य ने कहा, ‘हमें नए चेहरों को भी मौका देना था.’ शिवसेना ने सोमवार को हुए विस्तार के दौरान नए मंत्रिपरिषद में रामदास कदम, दिवाकर रावते, रवींद्र वाइकर, दीपक केसरकर और तानाजी सावंत जैसे अपने नेताओं को जगह नहीं दी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.