कोराना इफेक्ट: महाराष्ट्र के 4 शहर लॉकडाउन, जानिए इस दौरान क्‍या-क्‍या मिलेगा
Mumbai News in Hindi

कोराना इफेक्ट: महाराष्ट्र के 4 शहर लॉकडाउन, जानिए इस दौरान क्‍या-क्‍या मिलेगा
महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले मुंबई में हैं.

सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने कहा कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों की वजह से मुंबई, पुणे, पिंपरी चिंचवड़ और नागपुर को बंद किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 8:50 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मुंबई. देश में तेजी फैल रहे कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. कोविड-19 के चलते सीएम उद्धव ठाकरे ने मुंबई, पुणे समेत महाराष्ट्र के चार शहरों को बंद कर दिया है. इन शहरों में सब कुछ 31 मार्च तक बंद रहेगा. हालांकि, सरकार ने कहा कि लॉकडाउन से घबराने की जरुरत नहीं है, क्योंकि आवश्यक चीजें मिलती रहेंगी. आइये जानते हैं उन चीजों के बारे में.

सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों की वजह से मुंबई, पुणे, पिंपरी चिंचवड़ और नागपुर को बंद किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इन चारों शहरों के सरकारी दफ्तरों में सिर्फ 25 प्रतिशत कर्मचारी काम करेंगे. क्योंकि जितने लोग कम इकठ्ठा होंगे, उतने ही इस वायरस के कम फैलने की चांस होंगे. हालांकि कुछ चीजें मिलती रहेंगी.

राशन की दुकाने और खाने की चीजें मिलती रहेंगी
इन शहरों में खानपान यानी राशन की दुकाने खुलती रहेंगी. इस लॉकडाउन से परेशान होने की जरुरत नहीं है. क्योंकि घरों में रोजाना इस्तेमाल होने वाला सामान, राशन, तेल, साबुन, दूध आदि सामान की दुकानें खुली रहेंगी.



लोकल ट्रेन और बस सेवा चालू रहेगी


मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेनें चलती रहेंगी. इसके अलावा बस सेवाएं भी लगातार जारी रहेंगी. हालांकि कोरोना वायरस के चलते देखने को मिला है कि पिछले कुछ दिनों से लोकल ट्रेन और बसों में बहुंत कम लोग सफर कर रहे हैं.

दवाई भी मिलती रहेंगी
महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि इस बंद के दौरान चारों शहरों में मेडिकल स्टोर्स और दवा की अन्य दुकानें खुली रहेंगी. क्योंकि सबसे जरूरी चीज है, जो हमेशा उपलब्ध रहेगी. उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘ट्रेन और बसें शहर की जीवनरेखा है और उन्हें रोका नहीं जा सकता. मुझे यह कदम उठाने की सलाह दी गई. लेकिन ऐसा करने से उन कार्यस्थलों पर आवाजाही प्रभावित होगी जो शहर को आवश्यक सेवाएं मुहैया कराते हैं.

महाराष्ट्र में 52 मामले आए सामने
उन्होंने ने कहा कि अधिकांश मरीज इन शहरों से हैं और उन्होंने विदेश की यात्रा की थी. सरकारी कार्यालय में उपस्थिति को बारी-बारी से मौजूदा 50 फीसदी से 25 फीसदी तक किया जाएगा. पहले 50 फीसदी हाजिरी की घोषणा की गई थी. महाराष्ट्र में अभी तक कोरोना वायरस के 52 मामले सामने आ चुके हैं और इस सप्ताह मुंबई में एक मरीज की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें-

आयुष मंत्री बोले- कोरोना की दवाइयों के बारे में फैलाई जा रही सूचनाएं सही नहीं
First published: March 20, 2020, 7:47 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading