लाइव टीवी

मुंबई एयरपोर्ट पर चीन के अलावा अब सिंगापुर, थाईलैंड के यात्रियों की भी हो रही जांच
Mumbai News in Hindi

भाषा
Updated: February 3, 2020, 5:24 PM IST
मुंबई एयरपोर्ट पर चीन के अलावा अब सिंगापुर, थाईलैंड के यात्रियों की भी हो रही जांच
मुंबई एयरपोर्ट पर थाईलैंड और सिंगापुर के यात्रियों की भी हो रही है जांच

कोरोनावायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए अब चीन के अलावा सिंगापुर और थाईलैंड से मुंबई आ रहे यात्रियों की भी जांच की जा रही है.

  • Share this:
मुंबई. जानलेवा कोरोनावायरस  (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए अब चीन के अलावा सिंगापुर और थाईलैंड से मुंबई आ रहे यात्रियों की भी जांच की जा रही है. जिसके लिए अतिरिक्त स्वास्थ्य अधिकारी एयरपोर्ट पर तैनात किए गए हैं. महाराष्ट्र सरकार के एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने 25 स्वास्थ्य अधिकारियों का एक दल भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण (एएआई) को देने का फैसला किया है. यह दल मुंबई एयरपोर्ट पर आने वाले यात्रियों की जांच में कर्मियों की सोमवार से मदद करेगा. अधिकारी ने कहा, ‘चीन और हांगकांग से आ रहे यात्रियों की 18 जनवरी से ही जांच की जा रही है. शनिवार से हमने दो नए स्थानों सिंगापुर और थाईलैंड से आने वाले यात्रियों की भी कोरोनावायरस संबंधी जांच शुरू करने का निर्णय किया है.

एएआई के स्वास्थ्य अधिकारी अभी तक छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर कोरोना वायरस संबंधी जांच कर रहे थे. अधिकारी ने बताया कि अब क्योंकि विभिन्न देशों से लोग यहां पहुंच रहे हैं, तो त्वरित जांच के लिए अतिरिक्त कर्मियों की आवश्यकता है. उन्होंने कहा, 'एएआई ने भी राज्य सरकार से जांच के लिए अतिरिक्त कर्मियों की मांग की है. सरकार ने एक आदेश जारी किया है और पड़ोसी ठाणे जिले से स्वास्थ्य अधिकारियों को मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर जांच के लिए तैनात किया जाएगा.'

अब तक 6732 यात्रियों की जांच की गई

मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रविवार तक चीन से आने वाले कुल 6,732 यात्रियों की जांच की गई. अधिकारी ने बताया कि राज्य में अभी तक कोरोना वायरस के किसी भी मामले की पुष्टि नहीं हुई है.

क्या हैं कोरोना वायरस के लक्षण?
गौरतलब है कि कोरोनावायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है लेकिन इनमें से केवल छह विषाणु ही लोगों को संक्रमित करते हैं. इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है लेकिन ‘सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम’ (सार्स) ऐसा कोरोना वायरस है जिसके प्रकोप से 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी. इस संक्रमण से सर्वाधिक लोगों की मौत हुबेई प्रांत में हुई है. हुबेई की राजधानी वुहान में दिसंबर में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना शुरू हुआ था और अब यह संक्रमण दुनिया भर में फैल गया है.ये भी पढ़ें :-

चीन में फंसी लड़की ने वीडियो जारी कर मांगी मदद, इसी महीने होनी है शादी
जानलेवा कोरोना वायरस का असर, 30 दिन में चीन के डूबे 30 लाख करोड़ रुपये
केरल में मिला कोरोना वायरस का तीसरा मरीज, कुछ ही दिन पहले लौटा था वुहान से

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 4:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर