मुंबई क्राइम ब्रांच ने 1500 KM पीछा कर फर्जी आईपीएस अफसर को धर दबोचा

मुंबई क्राइम ब्रांच ने फर्जी आईपीएस को पकड़ने के लिए उसका 1500 किमी. पीछा किया.
मुंबई क्राइम ब्रांच ने फर्जी आईपीएस को पकड़ने के लिए उसका 1500 किमी. पीछा किया.

मुंबई क्राइम ब्रांच (Kolkata) ने आरोपी से पूछताछ की तो पता चला कि मध्यप्रदेश (Kolkata) में भी फर्जी आईपीएस (Fake IPS officer) बनकर वो लोगो के साथ ठगी को अंजाम दे चुका है. उसके ऊपर पहले से कई मामले दर्ज हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2020, 2:55 PM IST
  • Share this:
(दिवाकर सिंह)

मुंबई. मुंबई (Mumbai) के एक व्यापारी से बंदूक की नोक पर लूटपाट और फिर उसका अपहरण कर 16 लाख रुपये रंगदारी वसूलने के मामले में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने एक फर्जी आईपीएस अधिकारी (Fake IPS officer) को गिरफ्तार किया है. आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए एंटी एक्सटॉर्शन सेल ने उसका करीब 1500 किमी तक पीछा किया और धर दबोचा।

जानकारी के मुताबिक मंबई पुलिस की एंटी एक्सटॉर्शन सेल की गिरफ्त में आए फर्जी आईपीएस का नाम श्याम सुंदर सत्यनारायण शर्मा उर्फ एस एस शर्मा है.आरोपी श्याम सुंदर ने मुंबई के फाइव स्टार होटल में एक ऐसे अपराध को अंजाम दिया जो कि किसी फिल्म कहानी से कम नहीं है. गुजरात के एक व्यापारी को आरोपी ने मुंबई के चर्चगेट में स्थित एक फाइव स्टार होटल में उसके निजी व्यवसायिक विवाद को खुद के आईपीएस अधिकारी होने की बात बताकर सेटलमेंट के लिए बुलाया.



व्यापारी जब मुंबई के अम्बेसडर होटल में पहुंचा तो आरोपी का उसका असली चेहरा सामने आ गया. आरोपी ने व्यापारी को पहले तो बंदूक की नोंक पर जमकर पीटा और फिर उसे उसकी ही गाड़ी में किडनैप करके गुजरात के सूरत अपने घर ले गया. घर से व्यापारी को छोड़ने की एवज में 16 लाख की रंगदारी वसूली और फरार हो गया.
इसे भी पढ़ें :- 25000 करोड़ के कथित घोटाले में मुंबई पुलिस ने डिप्टी सीएम अजित पवार को दी क्लीन चिट

इस तरह पुलिस की गिरफ्त में आया फर्जी आईपीएस
आरोपी के फरार होते ही पीड़ित व्यापारी सूरत में शिकायत दर्ज कराने पहुंचा. वारदात की शुरुआत मुंबई से शुरू हुई थी इसलिए केस दर्जकर मुंबई क्राइम ब्रांच के एन्टी एक्सटॉर्शन सेल को जांच के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई. आरोपी की सीसीटीवी फुटेज होटल से मिलने के बाद स्केच के सहारे आरोपी के मोबाइल फोन के लोकेशन को ट्रेस करने का काम किया गया. इस दौरान आरोपी के बड़ोदा में होने की जानकारी मिली, लेकिन जैसे ही क्राइम ब्रांच की टीम वहां पहुंची तो आरोपी सूरत आ गया. टीम सूरत पहुंची तो वहां से फिर उसका लोकेशन मुंबई महाराष्ट्र के रूट पर नजर आया. इसके बाद क्राइम ब्रांच उसका लगातार पीछा करती रही, लेकिन आरोपी के फ़ोन बंद कर लेने से उसे ट्रेस करना मुश्किल हो रहा था. ऐसे में क्राइम ब्रांच की टीम दोबारा मुंबई होते हुए कर्नाटक हुबली के रूट तक पहुंच गई. सबसे अहम बात यह है कि आरोपी जिस तरह के पैटर्न को अपना रहा था, उसके पहले ही कर्नाटक हुबली के हाईवे पर पुलिस उसका इंतजार कर रही थी. जैसे ही एक लग्जरी बस आई शक की बुनियाद पर उसको रोक कर पुलिस ने तलाशी ली तो फर्जी आईपीएस अधिकारी उनकी गिरफ्त में आ गया.

इसे भी पढ़ें : रिपब्लिक टीवी ने पैसे देकर खरीदी TRP, 2 अन्य न्यूज चैनलों का भी नाम : मुंबई पुलिस

फर्राटेदार अंग्रेजी बोलता है आरोपी
क्राइम ब्रांच ने आरोपी से पूछताछ की तो पता चला कि मध्यप्रदेश में भी फर्जी आईपीएस बनकर वो लोगो के साथ ठगी को अंजाम दे चुका है. उसके ऊपर पहले से कई मामले दर्ज हैं. राजस्थान का रहने वाला शर्मा फर्राटेदार अंग्रेजी बोलता है. उसकी कद काठी भी अच्छी है और खुद को लोगों के सामने ऐसे व्यवहार करता है कि जैसे वो आईपीएस ही है. उसने इसके लिए पुलिस की वर्दी सहित स्टार भी ले रखे थे जिसे वो पहनकर लोगों को ठगता था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज