'चूहे' के जरिये आपके खाते से निकाले जा रहे पैसे! मुंबई क्राइम ब्रांच का बड़ा खुलासा

 डिजिटल पेमेंट के साथ हमें कई सावधानियां भी बरतनी चाहिए

डिजिटल पेमेंट के साथ हमें कई सावधानियां भी बरतनी चाहिए

Mumbai latest news in Hindi: यह गिरोह स्किमर मशीन के जरिए लोगों के डेबिट और क्रेडिट कार्ड को क्लोन करके उनके अकाउंट से पैसे निकालता था. इसके लिए इस गिरोह ने बकायदा कोडवर्ड भी बना रखे थे. ठगी करने वाले यह लुटेरे 'चूहा' कोडवर्ड इस्तेमाल करते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 6:40 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई अन्य इलाकों में स्किमर के जरिए क्रेडिट व डेबिट कार्ड की क्लोनिंग करके ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करने वाली मुंबई क्राइम ब्रांच (Mumbai Crime Branch) को केस में अहम कामयाबी हाथ लगी है. इस मामले की जांच के दौरान यह सामने आया है कि गिरफ्तार किए सभी आरोपी कोडवर्ड में 'चूहा' और 'बड़ा चूहा' का इस्तेमाल करके लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाते थे. इस तरह की ठगी का यह पहला मामला है.

दरअसल मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे सिंडिकेट का पर्दाफाश किया है जो स्किमर के जरिए कार्ड की क्लोनिंग करके लोगों के खाते से लाखों रुपये उड़ा देता था और उसकी खबर तक नहीं लगती थी. यह गिरोह इस धोखाधड़ी में इस्तेमाल होने वाले स्किमर सहित अन्य चीजों के लिए बाकायदा कोडवर्ड का इस्तेमाल करता था.

'चूहा' और 'बड़ा चूहा' था कोडवर्ड
इसका खुलासा क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तार किए गए सिंडिकेट के मास्टरमाइंड मोहम्मद फैज ने किया है. क्राइम ब्रांच से मिली जानकारी के मुताबिक ठगी में इस्तेमाल किए जाने वाले स्किमर यानी जिसके जरिये ग्राहक के डेबिट या क्रेडिट कार्ड का डाटा कॉपी होता था, उसे आरोपियों ने 'चूहा' कोडवर्ड नाम दिया था, जबकि मैग्नेटिक कार्ड रीडर, जिसके जरिये कार्ड में डाटा ट्रांसफर किया जाता था, उसे 'बड़ा चूहा' कोडवर्ड का नाम दिया था.
इतना ही नहीं, यह गिरोह जिन स्पॉट्स से लोगों को धोखाधड़ी का शिकार बना रहा था, उसमें मुंबई की 2 जगह और पुणे की एक जगह शामिल है. इन्हीं कोडवर्ड के जरिए यह गिरोह अब तक 1000 लोगों से लाखों रुपये की ठगी को अंजाम दे चुका है. मुंबई क्राइम ब्रांच के डीसीपी अकबर पठान ने बताया कि यह गिरोह इतनी चालाकी से लोगों को अपना शिकार बनाता था कि किसी को कुछ भनक नहीं लगती थी. मुंबई के सरदार जी होटल, इनॉर्बित मॉल में स्पाइकर जीन्स के आउटलेट और पुणे के एक आइसक्रीम पार्लर से इस तरह की ठगी को अंजाम दिया जा रहा था.



होटल में आने वाले ग्राहकों को बनाते थे ठगी का शिकार
जब कोई ग्राहक किसी होटल में परिवार के साथ खाने या कोई अन्य खरीदारी करने जाता था और वह अपना डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए जब बिल चुकाता था तो वहां पर काम करने वाला गिरोह का सदस्य पहले से अपने पास रखे स्किमर में उस कार्ड को स्वाइप कर लेता था, जिससे पूरा डाटा उसमें कॉपी हो जाता था. इसके बाद चोरी छिपे वह कार्ड के पिन को भी नोट कर लेता था. इसके बाद स्किमर में कॉपी किए गए डाटा को लैपटॉप में कॉपी किया जाता था और फिर मैगनेट कार्ड रीडर के जरिए उसका डाटा अलग-अलग कार्ड्स में ट्रांसफर करके चुराए गए पिन नंबर के जरिए पैसे निकाल लिए जाते थे. यह गिरोह खासतौर पर ऐसे लोगों को निशाना बनाता था, जो शराब के नशे में चूर होते थे.

ग्राहकों ने की थी बैंक में शिकायत
इस मामले में हो रही ठगी को लेकर कुछ ग्राहकों ने एचडीएफसी बैंक में यह शिकायत दी थी कि उनके खाते से लगातार पैसे निकाले जा रहे हैं, जबकिं उन्होंने न तो किसी को ओटीपी दिया है और न ही पिन नंबर. एचडीएफसी बैंक ने मुंबई क्राइम ब्रांच की यूनिट 9 को इसकी जानकारी दी. इस शिकायत के बाद जब क्राइम ब्रांच ने मामले की जांच शुरू की तो पता चला कि इस तरह के धोखाधड़ी को अंजाम अंधेरी पूर्व इलाके के सरदार जी होटल से दिया जा रहा है. इस जानकारी के बाद क्राइम ब्रांच ने होटल में काम करने वाले यशवंत उर्फ गुप्ता को गिरफ्तार कर कड़ी पूछताछ की तो पूरे गिरोह का पर्दाफाश हो गया.

Youtube Video


यशवंत के साथ क्राइम ब्रांच ने तीन और साथियों अजहरुद्दीन अंसारी और इश्तियाक अहमद खान और मोहमद चौधरी को गिरफ्तार कर लिया. जानकारी मिली कि इस सिंडिकेट का मास्टरमाइंड मोहम्मद फैज नाम का शख्स है. फैज की तलाश शुरू की गई और उसे दो दिन के अंदर ही क्राइम ब्रांच ने उसके 3 और साथियों के साथ धर दबोचा. फैज के पास से करीब 149 क्रेडिट कार्ड और 22 डेबिट मैग्नेटिक कार्ड सहित चूहा यानी स्किमर और बड़ा चूहा यानी मैग्नेटिक कार्ड रीडर मशीन,लैपटॉप सहित कई अन्य चीजें बरामद की गई है. डीसीपी पठान ने बताया कि फैज ही गिरोह का सरगना था और ऑर्गनाइज तरीके से अपना गिरोह चला रहा था. इस मामले में जो 8 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं, उन्हें गैंग में शामिल करने वाला फैज ही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज