लाइव टीवी

Ayodhya Verdict: फडणवीस बोले- SC के फैसले का स्वागत है, इससे लोकतंत्र मजबूत होगा

News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 10:29 PM IST
Ayodhya Verdict: फडणवीस बोले- SC के फैसले का स्वागत है, इससे लोकतंत्र मजबूत होगा
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अयोध्या के मुद्दे (Ayodhya Dispute) पर ऐतिहासिक फैसला (Historic Decision) सुनाते हुए राम मंदिर निर्माण (Ram Temple Construction) का रास्ता साफ कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 10:29 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश के सबसे पुराने केस में से एक अयोध्या (Ayodhya) विवाद मामले पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने शनिवार को महत्वपूर्ण फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अयोध्या की विवादित जमीन पर रामलला विराजमान का हक माना है. वहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने राम मंदिर (Ram Temple) पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा, ''सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत है. यह लोकशाही को मजबूत करने का निर्णय है. ये किसी का विजय और पराजय नहीं है. सभी ने निर्णय का स्वागत किया है.''

बता दें कि यूपी के अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है. इसके साथ ही राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद (Ram Janmbhoomi Babri Masjid Dispute) मामले में सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़ा (Nirmohi Akhara) तथा शिया वक्फ बोर्ड का दावा खारिज किया और मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया गया है.

उद्धव ने किया SC के फैसले का स्वागत, जल्द जाएंगे अयोध्या
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा. सभी ने फैसला स्वीकार कर लिया है. उन्होंने कहा कि- आज के दिन मैं बाल ठाकरे, अशोक सिंघल को याद कर रहा हूं. इसके साथ ही उद्धव ने ऐलान किया कि वह 24 नवंबर को अयोध्या जाएंगे.

मुंबई के मुस्लिम नेताओं ने SC के फैसले को किया स्वीकार, की शांति की अपील
मुंबई के मुस्लिम नेताओं ने शनिवार को अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार किया और अपने समुदाय के सदस्यों से शांति एवं सौहार्द बनाये रखने की अपील की. ऑल इंडिया उलेमा काउंसिल के महासचिव मौलाना महबूब दरयादी ने कहा, ‘‘हम खुश हैं कि अदालत में सुनवाई पूरी हो गई. हम कहते आ रहे हैं कि जो भी फैसला आएगा, हम स्वीकार करेंगे. हम सुप्रीम कोर्ट के अंतिम निर्णय को स्वीकार करते हैं. हम इस बात से भी खुश हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड तथा निर्मोही अखाड़े की अपील को खारिज कर दिया. हम सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मस्जिद बनाने के लिए पांच एकड़ जमीन देने की बात स्वीकार करते हैं.’’

खोजा शिया जमात के वरिष्ठ सदस्य शब्बीर सोमजी ने कहा कि उन्होंने देश के हित में फैसला स्वीकार किया है. उन्होंने कहा, ‘‘फैसला सभी समुदायों को कबूल होना चाहिए. हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करेंगे जो देश के हित में है.’’ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना सैयद अथरली ने कहा, ‘‘हमें देश में कानून व्यवस्था बनाकर रखनी चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि शांति बनी रहे. हमें सुप्रीम कोर्ट के आदेश को स्वीकार करना चाहिए.’’
Loading...

(इनपुट- अभिषेक पांडेय)

ये भी पढ़ें-

CM पद से इस्‍तीफा देने के बाद बोले फडणवीस- उद्धव ठाकरे ने फोन नहीं उठाया

महाराष्ट्र की जनता को बेसहारा नहीं छोड़ेंगे, हमारे पास सभी विकल्‍प खुले: उद्धव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 4:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...