लाइव टीवी

महाराष्ट्र: क्या प्रकाश अंबेडकर और ओवैसी की पार्टियों ने कांग्रेस-NCP को झटका दिया


Updated: October 28, 2019, 8:09 PM IST
महाराष्ट्र: क्या प्रकाश अंबेडकर और ओवैसी की पार्टियों ने कांग्रेस-NCP को झटका दिया
न्यूज़ 18 के विश्लेषण के मुताबिक प्रकाश अंबेडकर और ओवैसी की पार्टियों ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को कई सीटों पर नुकसान पहुंचाया.

महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी-शिवसेना गठबंधन (BJP-ShivSena Alliance) का दूसरी बार सरकार बनाना तकरीबन निश्चित है. यह गठबंधन भले ही सत्ता की कुर्सी तक पहुंचने में कामयाब हो गया हो लेकिन यह मानना होगा कि लोकसभा चुनाव के मुकाबले विधानसभा चुनाव में भगवा लहर को झटका लगा है.

  • Last Updated: October 28, 2019, 8:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) में भारतीय जनता पार्टी-शिवसेना गठबंधन (BJP-ShivSena Alliance) का दूसरी बार सरकार बनाना तकरीबन निश्चित है. यह गठबंधन भले ही सत्ता की कुर्सी तक पहुंचने में कामयाब हो गया हो, लेकिन यह मानना होगा कि लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) के मुकाबले विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में भगवा लहर को झटका लगा है. बीजेपी के साथ कुछ ऐसा ही हरियाणा में भी हुआ है.

विपक्षी पार्टियों के लिए ये चुनाव अस्तित्व का सवाल बन गया था क्योंकि लोकसभा चुनावों के दौरान उन्हें बुरी हार मिली थी. इन पार्टियों ने विधानसभा चनाव में अपना प्रदर्शन बेहतर किया है. हरियाणा में कांग्रेस ने 2014 के मुकाबले अपनी सीटें दोगुनी कर लीं. वहीं महाराष्ट्र में उसकी सहयोगी एनसीपी ने 15 सीटों की बढ़ोतरी की. हालांकि इस चुनाव में आइडेंटिटी पॉलिटिक्स ने राष्ट्रवाद के मुद्दे से थोड़ा ज्यादा प्रभावी तौर पर काम किया है. लेकिन क्या कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन और ज्यादा सीटें हासिल कर सकता था?

न्यूज़18 का विश्लेषण
न्यूज़18 के चुनावी विश्लेषण के मुताबिक प्रकाश अंबेडकर की पार्टी वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) और असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को कम से कम 12 सीटों पर नुकसान पहुंचाया है. हालांकि अघाड़ी पार्टी कोई सीट जीत पाने में नाकामयाब रही लेकिन उसने 4.6 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया. वहीं एमआईएम का वोट शेयर 1.4 प्रतिशत है. करीब 35 सीटों के नतीजों पर नजर डाली जाए तो पता चलेगा कि अघाड़ी पार्टी और एमआईएम ने हार-जीत के अंतर से ज्यादा वोट हासिल किए हैं.

इन सीटों में करीब 27 पर अघाड़ी पार्टी और एमआईएम ने विजयी एनडीए प्रत्याशी और दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस-एनसीपी प्रत्याशी के वोटों के अंतर से ज्यादा वोट हासिल किए. इन सीटों में चालीसगांव, अकोला पश्चिम, ओस्माबाद और जिंतूर शामिल हैं. वहीं 8 सीटों पर अघाड़ी और एमआईएम प्रत्याशी उपविजेता रहे.



उदाहरण के तौर पर चालीसगांव में बीजेपी कैंडिडेट रमेश चह्वाण को 86,515 वोट मिले वहीं एनसीपी के देशमुख राजीव अनिल को 82,228 वोट मिले. इस सीट पर अघाड़ी पार्टी को 38,429 वोट मिले. वहीं अकोला पश्चिम सीट पर बीजेपी के गोवर्घन मांगीलाल शर्मा को 73,262 वोट मिले तो कांग्रेस प्रत्याशी को साजिद खान को 70,669 वोट हासिल हुए. इस सीट पर अघाड़ी पार्टी को 20,687 वोट मिले.
Loading...

इसी तरह पुणे कैंटोनमेंट सीट पर बीजेपी प्रत्याशी को 52,160 मिले और कांग्रेस प्रत्याशी को 47,148 तो अघाड़ी पार्टी और एमआईएम को क्रमश: 10,026 और 6,041 वोट मिले. बुल्ढाना, अकोट, बालापुर, मुर्तजाप, वाशिम, कलमनूरी, औरंगाबाद सेंट्रल और बायकला में अघाड़ी पार्टी और एमआईएम ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के प्रत्याशियों को भी पीछे छोड़ दिया.

इस महीने की शुरुआत में ही न्यूज़18 ने रिपोर्ट की थी कि अघाड़ी पार्टी करीब 49 सीटों पर कांग्रेस-एनसीपी को नुकसान पहुंचा सकती है. राजनीतिक जानकारों का मानना है कि अघाड़ी पार्टी और एमआईएम ने कांग्रेस-एनसीपी के परंपरागत वोटबैंक से अपने वोटर बनाए हैं.

क्या एमएनएस ने बीजेपी-शिवसेना को नुकसान पहुंचाया?



हालांकि राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने राज्य की करीब सौ सीटों पर चुनाव लड़ा था लेकिन वो सिर्फ एक सीट जीत सकी. ये सीट कल्याण ग्रामीण की सीट है. विपक्ष के साथ मधुर संबंधों और मराठा वोटरों में राज ठाकरे के प्रभाव को देखते हुए माना जा रहा है कि उन्होंने बीजेपी-शिसेना को कुछ सीटों पर नुकसान पहुंचाया है. कम से कम पांच सीटों पर तो स्पष्ट रूप से.

अन्य पार्टियां और निर्दलीय प्रत्याशी
महाराष्ट्र में अन्य छोटी पार्टियों और निर्दलीय प्रत्याशियों ने 17 सीटों पर जीत हासिल की है. करीब 38 सीटें ऐसी हैं जहां पर इन पार्टियों या निर्दलीयों ने हार-जीत के अंतर से ज्यादा वोट हासिल किए हैं.

(फाज़िल खान की रिपोर्ट से इनपुट के साथ. पूरी स्टोरी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)

ये भी पढ़ें:

इतना सन्नाटा क्यों है भाई? दिवाली पर बाजारों में सुस्ती पर शिवसेना का कटाक्ष
PMC बैंक स्कैम के बाद अब गुडविन ज्वैलर्स फरार, लोगों के करोड़ों रुपए फंसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2019, 7:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...