लाइव टीवी

उद्धव ठाकरे सरकार में महत्वपूर्ण विभाग नहीं मिलने पर महाराष्ट्र कांग्रेस में असंतोष
Mumbai News in Hindi

भाषा
Updated: January 5, 2020, 11:39 PM IST
उद्धव ठाकरे सरकार में महत्वपूर्ण विभाग नहीं मिलने पर महाराष्ट्र कांग्रेस में असंतोष
उद्धव सरकार में विभागों का आवंटन हो चुका है (File Photo)

कांग्रेस के एक नेता ने पार्टी के अंदर व्याप्त कथित असंतोष का जिक्र करते हुए कहा कि पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ करना और पार्टी के एक महासचिव का पुतला फूंकना पहले कभी नहीं हुआ.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) नीत गठबंधन सरकार में विभागों के आवंटन में कांग्रेस (Congress) को महत्वपूर्ण विभाग नहीं मिलने को लेकर पार्टी की प्रदेश इकाई असंतोष का सामना कर रही है. पार्टी नेताओं का एक हिस्सा शिवसेना (Shiv sena) और एनसीपी (NCP) की तुलना में कम महत्वपूर्ण विभाग मिलने के लिए पार्टी के प्रदेश प्रमुख बालासाहेब थोराट को जिम्मेदार ठहरा रहा है. उनकी नाराजगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार से भी है, जो गठबंधन में एक अहम संयोजक बन कर उभरे हैं. कांग्रेस के एक नेता ने दावा किया कि उन्हें प्रदेश इकाई में एक ऐसे नेता की जरूरत है, जो पवार के सामने टिक सकें.

कांग्रेस के कुछ नेताओं ने कहा कि उन्होंने कृषि, ग्रामीण विकास, उद्योग, आवास, परिवहन और सहकारिता की सूची में से कम से कम दो विभाग मांगे थे. लेकिन सहयोगी दल शिवसेना और एनसीपी ने इस पर ध्यान देने से इनकार कर दिया. इसके बजाय संस्कृति, नमक भूमि और बंदरगाह विकास जैसे मंत्रालय कांग्रेस को दिए गए, जो पहले शिवसेना के पास थे.

कांग्रेस नेता नितिन राउत नाखुश: सूत्र
कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर नहीं किए जाने की शर्त पर कहा, "गठबंधन में शामिल तीनों दलों के बीच सत्ता साझेदारी में कांग्रेस को समुचित प्रतिनिधित्व नहीं मिला. थोराट सत्ता-साझेदारी पर चर्चा के दौरान कांग्रेस की रूचि को सामने रखने में सक्षम नहीं रहे." सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस नेता नितिन राउत लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) अपने वरिष्ठ साथी एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को दिए जाने और थोराट को राजस्व विभाग आवंटित किए जाने से नाखुश हैं. बता दें, नितिन राउत को ऊर्जा मंत्री बनाया गया है.

कांग्रेस के एक नेता ने पार्टी के अंदर व्याप्त कथित असंतोष का जिक्र करते हुए कहा कि पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ करना और पार्टी के एक महासचिव का पुतला फूंकना पहले कभी नहीं हुआ. उन्होंने कहा, "इस तरह की अनुशासनहीनता को गंभीरता से लेने की जरूरत है."

बता दें, कांग्रेस विधायक संग्राम थोपटे के कथित समर्थकों ने उन्हें (थोपटे को) राज्य मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किए जाने को लेकर पुणे में 31 दिसंबर को पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ की थी. इसके अलावा, विधायक प्रणीति शिंदे को मंत्री पद नहीं दिए जाने को लेकर नाखुश पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने सोलापुर में कांग्रेस महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे का पुतला फूंका था.

हालांकि इस घटना को लेकर महाराष्ट्र कांग्रेस के पूर्व प्रमुख माणिकाव ठाकरे ने कहा, "दोनों विधायकों (थोपटे और शिंदे) का इन घटनाओं से कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस के साथ हैं और नेतृत्व के फैसले का पालन करते हैं."केसी वेणुगोपाल से की शिकायत
इस बीच, पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कांग्रेस महासचिव (संगठन) के. सी. वेणुगोपाल को पत्र लिख कर पार्टी में अनुशासन नहीं होने के बारे में शिकायत की. पदाधिकारी ने लिखा है, "कांग्रेस के कई नेता और कार्यकर्ता इसलिए नाखुश हैं क्योंकि पार्टी के ज्यादातर फैसले एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ चर्चा करने के बाद लिए गए. यह बहुत खतरनाक है."

उन्होंने हालिया अहमदनगर जिला परिषद् चुनाव का भी उदाहरण दिया, जिसमें कांग्रेस के 23 और एससीपी के 18 सदस्य थे. कांग्रेस पदाधिकारी ने कहा कि इसके बावजूद थोराट ने कांग्रेस को उपाध्यक्ष पद से संतोष करने दिया और जिला परिषद् अध्यक्ष का पद एनसीपी को दे दिया.

महाराष्ट्र कांग्रेस को ऐसे प्रमुख की जरूरत जो पवार के सामने टिक सके
कांग्रेस के एक अन्य नेता ने कहा कि त्रिदलीय गठबंधन सरकार के तहत शिवसेना और एनसीपी अपनी कैडर क्षमता को मजबूत करेगी और उसे संगठनात्मक रूप से बेहतर बनाएगी लेकिन सोनिया गांधी नीत पार्टी (कांग्रेस) को भी पीछे नहीं छूटना चाहिए. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र कांग्रेस को एक ऐसे प्रमुख की जरूरत है जो पवार के सामने टिक सके ताकि हम राज्य में गुम नहीं हो जाएं.

हालांकि, थोराट के एक करीबी नेता ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश प्रमुख पार्टी के लिए सर्वश्रेष्ठ हासिल करने में कामयाब रहे और इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि 288 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के महज 44 विधायक हैं.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में विभागों के आवंटन के तहत उपमुख्यमंत्री और एनसीपी के वरिष्ठ नेता अजित पवार को वित्त एवं योजना विभाग दिया गया है, जबकि एनसीपी के ही अनिल देशमुख राज्य के नए गृह मंत्री बनाए गए हैं. इसके अलावा, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और पहली बार विधायक बने शिवसेना के आदित्य ठाकरे को पर्यावरण, पर्यटन एवं प्रोटोकॉल विभागों का प्रभार सौंपा गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख बालासाहेब थोराट को राजस्व मंत्रालय मिला है, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के ही अशोक चव्हाण को लोक निर्माण विभाग (जिसमें सार्वजनिक उपक्रम शामिल नहीं हैं) दिया गया. शरद पवार नीत एनसीपी को मिले ज्यादातर विभाग महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 5, 2020, 11:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर