• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • प्रदीप शर्मा शिवसेना में शामिल, उद्धव बोले-पहले गन बोलती थी, अब मन बोल रहा है

प्रदीप शर्मा शिवसेना में शामिल, उद्धव बोले-पहले गन बोलती थी, अब मन बोल रहा है

प्रदीप शर्मा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के घर मातोश्री पहुंचे जहां आधिकारिक तौर पर उनका पार्टी में प्रवेश हुआ.

प्रदीप शर्मा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के घर मातोश्री पहुंचे जहां आधिकारिक तौर पर उनका पार्टी में प्रवेश हुआ.

मुंबई पुलिस में एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर देशभर में अपनी पहचान बनाने वाले प्रदीप शर्मा ने शुक्रवार को शिवसेना ज्वाइन कर ली.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    मुंबई. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) में एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर देशभर में अपनी पहचान बनाने वाले प्रदीप शर्मा (Pradeep Sharma) ने शुक्रवार को शिवसेना (Shiv Sena) ज्वाइन कर ली. प्रदीप शर्मा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के घर मातोश्री पहुंचे जहां आधिकारिक तौर पर उनका पार्टी में प्रवेश हुआ. उद्धव ठाकरे ने कहा कि अबतक प्रदीप शर्मा की गन बोलती थी और अब उनका मन बोल रहा है.

    मिली जानकारी के मुताबिक प्रदीप शर्मा आगामी विधानसभा चुनाव में नालासोपारा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं लेकिन इस पर अभी आखिरी फैसला नहीं हुआ है. वहीं प्रदीप शर्मा ने कहा कि बुरे वक्त में और एनकाउंटर के दौर में बालासाहेब ठाकरे ने हमे हर तरह से सपोर्ट किया. और जब मुझे जनसेवा का मौका मिला है तो शिवसेना में ही मुझे प्राथमिकता मिली है और जो जिम्मेदारी मिलेगी वो पूरा करूंगा.

    35 साल की नौकरी के बाद वॉलिंटियरी रिटायरमेंट
    कुछ दिनों पहले ही प्रदीप शर्मा ने 35 साल की नौकरी से इस्तीफा दे दिया था. प्रदीप करीब 150 ऐसे मामलों से जुड़े रहे जिनसे गंभीर अपराधियों और आतंकियों का संबंध था. इसी के चलते टाइम मैग्जीन (Time Magazine) ने उन्हें कवर पेज पर जगह भी दी थी. वर्तमान में वह ठाणे एक्सटॉर्शन सेल के प्रमुख थे. उन्होंने हाल में ही अपना इस्तीफा पुलिस महानिदेशक को भेजा था जिसे राज्य के गृह विभाग ने मंजूर कर लिया था.

    विवादों से रहा है नाता
    प्रदीप शर्मा की हिरासत में 2003 में एक संदिग्‍ध आतंकवादी ख्वाजा यूनुस की मौत हो गई थी. जिसके बाद उनका स्‍थानांतरण कर दिया गया था. 2008 में माफिया के साथ संबंध और फर्जी एनकाउंटर के आरोपों के बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था. प्रदीप शर्मा ने इसके खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ी और जीती भी. 2016 में उन्हें पुलिस बल में बहाल कर दिया गया. इसके बाद 2017 में उन्होंने इकबाल कासकर को गिरफ्तार कर रंगदारी के एक बड़े रैकेट का खुलासा किया. गौरतलब है कि उनका पुलिस सेवा से औपचारिक रिटायरमेंट 2020 में होना था लेकिन उन्होंने एक साल पहले ही अपनी सेवाओं से इस्तीफा दे दिया.
    ये भी पढ़ें:

    मंत्री बने रहेंगे राधाकृष्ण विखे पाटिल लेकिन बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी ये नसीहत

    BJP में शामिल होने की अटकलों के बीच NCP नेता उदयनराजे ने पवार से की मुलाकात

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन