अब साध्वी के बयान से फडणवीस का किनारा, कहा- करकरे के लिए ऐसा कहना बिल्कुल गलत

कहा- करकरे हमारे एक उम्दा अफसर थे, मैं साध्वी के बयान का सपोर्ट नहीं करता

Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: April 20, 2019, 8:45 PM IST
Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: April 20, 2019, 8:45 PM IST
साध्वी प्रज्ञा सिंह के हेमंत करकरे पर दिए गए विवादित बयान से एक-एक कर लगभग सभी बीजेपी नेता अपना पल्ला झाड़ रहे हैं. अब इसमें फडणवीस का नाम भी जुड़ गया है. न्यूज 18 से खास बातचीत के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि करकरे हमारे एक उम्दा अफसर थे. उन्होंने देश के लिए अपनी जान दी है. जिस तरह का बयान साध्वी प्रज्ञा ने दिया है वह बिल्कुल गलत है, मैं उसका सपोर्ट नहीं करता हूं.

उन्होंने कहा कि हेमंत को शहीद का दर्जा दिया है, इसलिए वे शहीद थे, हैं और हमारे लिए हमेशा वे शहीद ही रहेंगे. यह दर्जा उनसे कोई नहीं छीन सकता है. देवेंद्र ने कहा कि साध्‍वी प्रज्ञा ने बयान वापस ले लिया है और माफी भी मांगी है लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि ऐसा कोई बयान आना ही नहीं चाहिए था.



ये भी पढ़ें- हेमंत करकरे पर टिप्पणी कर फंसी साध्वी प्रज्ञा, अब EC ने भेजा नोटिस

दुख में की बयानबाजी

देवेंद्र ने कहा कि साध्वी प्रज्ञा ने जिस तरह की प्रताड़ना झेली है और जो उनके मन में दुख है वह उसी वेग में बयानबाजी कर रही हैं लेकिन उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए. टिकट देने की बात पर उन्होंने कहा कि एनआईए ने उन्हें क्लीन चिट दी है. ऐसे में यह स्पष्ट है कि केवल वोटों की राजनीति के लिए यूपीए सरकार ने उनको फंसवाया था.

ये भी पढ़ें- शायराना अंदाज में प्रियदर्शिनी का BJP पर निशाना, 'सिंधिया जी से प्‍यार, सूट-बूट वाली सरकार से नहीं'

गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा ने हेमंत करकरे को लेकर ने कहा था, "एटीएस मुझे 10 अक्टूबर 2008 को सूरत से मुंबई लेकर गई थी. वहां मुझे 13 दिन तक बंधक बनाकर रखा गया. पुरुष एटीएस कर्मियों ने इस दौरान मुझे खूब प्रताड़ित किया. पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे को संन्यासियों का श्राप लगा और मेरे जेल जाने के करीब 45 दिन बाद ही वह 26/11 के आतंकी हमले का शिकार हो गए."एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार