उद्धव ठाकरे के घर के बाहर से किसान और उसकी नाबालिग बेटी को हिरासत में लिया

उद्धव ठाकरे के घर के बाहर हंगामा

उद्धव ठाकरे के घर के बाहर हंगामा

शिवसेना (Shiv Sena) के प्रवक्ता ने बताया कि बाद में दोनों को छोड़ दिया गया और पार्टी ने अधिकारियों से उनके मुख्यमंत्री आवास आने की वजह का पता लगाने के लिए कहा है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Udhav Thackeray) के बांद्रा स्थित आवास के सामने रविवार को एक किसान और उसकी नाबालिग बेटी को हिरासत में ले लिया गया. पुलिस (Police) ने बताया कि पिता और पुत्री बैंक संबंधी किसी समस्या के सिलसिले में ठाकरे से मिलने आए थे. शिवसेना (Shiv Sena) के प्रवक्ता ने बताया कि बाद में दोनों को छोड़ दिया गया और पार्टी ने अधिकारियों से उनके मुख्यमंत्री आवास आने की वजह का पता लगाने के लिए कहा है.



एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पड़ोसी रायगढ़ जिले के पनवेल निवासी किसान महेंद्र देशमुख अपनी 12 साल की बेटी के साथ बैंक संबंधी किसी मुद्दे के सिलसिले में मुख्यमंत्री और शिवसेना अध्यक्ष ठाकरे के आवास 'मातोश्री' पर उनसे मिलने के लिए आए थे.



पूछताछ के बाद किया रिहा

वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक निखिल कापसे ने कहा, 'जब सुरक्षा गार्डों ने देशमुख को परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी तो उन्होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री से मिलने तक बाहर बैठेंगे. इसके बाद उन्हें हिरासत में लेकर उनकी बेटी के साथ खेरवाड़ी पुलिस थाने ले जाया गया. उन्हें पूछताछ के बाद रिहा कर दिया गया'.
उन्होंने कहा, 'किसान का सरकारी बैंक में खाता है और उसको लेकर उन्हें कुछ समस्याएं थीं जिसके बारे में वह मुख्यमंत्री के साथ बात करना चाहते थे'.





सचिवालय में नहीं हो पाई थी मुलाकात

अधिकारी ने बताया, 'पूछताछ के दौरान किसान ने कहा कि वह पिछले पांच दिनों से दक्षिण मुंबई स्थित मुख्यमंत्री के अधिकारिक आवास 'वर्षा' और ‘मंत्रालय’ (सचिवालय) भी जा रहा था लेकिन ठाकरे से नहीं मिल पाया. अंत में उसने मुख्यमंत्री के बांद्रा आवास पर उनसे मिलने का निर्णय लिया'. इस बीच, शिवसेना प्रवक्ता ने कहा कि किसान को कुछ समय तक हिरासत में रखने के बाद रिहा कर दिया गया.



ये भी पढ़ें: 



'नाराज' अब्दुल सत्तार को शिवसेना ने मनाया, दिया यह विभाग



CAA के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को शिवसेना का समर्थन: संजय राउत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज