कॉलेज की फीस न भर पाने पर किसान की बेटी ने की खुदकुशी, 12 वीं में आए थे 89 फीसदी मार्क्‍स

किसान पिता ने बाकी बचे पैसों के लिए अपने खेत को भी बेचने की कोशिश की लेकिन खेत से मिलने वाले दाम से भी रूपाली की पूरी फीस नहीं भरी जा सकती थी. रूपाली पिता की दयनीय हालत को बर्दाश्‍त नहीं कर पाई और जहर खा लिया.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 12:41 PM IST
कॉलेज की फीस न भर पाने पर किसान की बेटी ने की खुदकुशी, 12 वीं में आए थे 89 फीसदी मार्क्‍स
महाराष्‍ट्र के सोलापुर में कॉलेज की फीस न भर पाने के कारण किसान की बेटी ने की खुदकुशी.
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 12:41 PM IST
महाराष्‍ट्र के सोलापुर में तंगहाली का दर्दनाक चेहरा सामने आया है. यहां एक किसान की 20 वर्षीय बेटी रूपाली रामकृष्‍ण पंवार ने इसलिए खुदकुशी कर ली क्‍योंकि उसके परिवार के पास अच्‍छे कॉलेज की फीस भरने के लिए पैसे नहीं थे. पढ़ाई में काफी तेज और होनहार रूपाली ने 24 जुलाई को अपने घर में जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर ली.

जानकारी के मुताबिक किसान पिता की बेटी रूपाली ने बायोटेक करने के लिए कोयम्‍बटूर के एक कॉलेज में दाखिले के लिए फॉर्म भरा था. 12वीं में अच्‍छे नंबर होने की वजह से उसका कॉलेज में दाखिला भी हो गया और किसान पिता ने 10 हजार रुपये भी जमा करा दिए. लेकिन सीट कन्‍फर्म हो जाने के बाद कॉलेज की फीस एक लाख 10 हजार रुपये भरने की व्‍यवस्‍था नहीं हो पाई.

किसान पिता ने बाकी बचे पैसों के लिए अपने खेत को भी बेचने की कोशिश की लेकिन खेत से मिलने वाले दाम से भी रूपाली की पूरी फीस नहीं भरी जा सकती थी. इस हालात में रूपाली ने कई बार अपने पिता से पैसों के इंतजाम को लेकर पूछा लेकिन पिता की दयनीय हालत को बर्दाश्‍त नहीं कर पाई और जहर खा लिया.

उसके चाचा रामदास पाटिल ने बताया कि रूपाली अपने पिता से बार-बार पूछती थी कि पढ़ाई में अच्‍छी होने के बाद भी वह अच्‍छे कॉलेज में नहीं पढ़ सकती.

12वीं में आए थे 89 फीसदी मार्क्‍स
रूपाली के परिजनों ने बताया कि वह शुरू से ही पढ़ने में काफी तेज थी. आगे चलकर बायोटेक्‍नोलॉजी में कुछ करना चाहती थी. यही वजह थी कि 12 वीं में उसके 89 फीसदी मार्क्‍स आए थे. वह खुद ही घर पर पढ़ती रहती थी. हालांकि अच्‍छे कॉलेज में पढ़ने का सपना लिए वह हमेशा के लिए चली गई.

ये भी पढ़ें
Loading...

मुंबई में फिर आफत की बारिश, रेलवे ट्रैकों पर भरा पानी

महाराष्‍ट्र में कृत्रिम बारिश का परीक्षण, किसानों को मिलेगी सूखे से राहत

 
First published: July 26, 2019, 12:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...