घरकुल आवास घोटाला: महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री सुरेश जैन को 7 साल की जेल, 100 करोड़ का जुर्माना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के धुले जिले की सत्र अदालत ने ‘घरकुल’ आवास घोटाले में शनिवार को पूर्व मंत्री सुरेश जैन (Suresh Jain) को 7 साल की जेल की सजा सुनाई. पूर्व मंत्री गुलाबराव देवकर (Gulabrao Devkar) को भी 5 साल की जेल की सजा सुनाई गई.

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 11:59 PM IST
घरकुल आवास घोटाला: महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री सुरेश जैन को 7 साल की जेल, 100 करोड़ का जुर्माना
महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री सुरेश जैन को 7 साल की जेल, 100 करोड़ का जुर्माना.
News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 11:59 PM IST
महाराष्ट्र (Maharashtra) के धुले जिले की सत्र अदालत ने ‘घरकुल’ आवास घोटाले में शनिवार को पूर्व मंत्री सुरेश जैन (Suresh Jain) को 7 साल की जेल की सजा सुनाई. कई करोड़ रुपये के घोटाले में शनिवार को दोषी ठहराए जाने के बाद राज्य के पूर्व मंत्रियों सुरेश जैन और गुलाबराव देवकर (Gulabrao Devkar) को क्रमश: 7 साल और 5 साल की जेल की सजा सुनाई गई. मामले में 46 अन्य आरोपियों को तीन से सात साल तक की सजा सुनाई गई है.

विशेष न्यायाधीश सृष्टि नीलकंठ ने 29 करोड़ रुपये के आवासीय परियोजना घोटाले के मामले में शिवसेना नेता सुरेश जैन को सात साल की सजा सुनाई और उन पर 100 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया. 1990 के दशक में जब वह गृह राज्य मंत्री थे, तब यह घोटाला हुआ था. देवकर को 5 साल की सजा सुनाई गई, जबकि शेष 46 दोषियों को तीन से सात साल की जेल की सजा मिली है.

नगर निगम के कुछ पूर्व पार्षद और अधिकारी भी हैं आरोपी
आरोपियों में जैन और देवकर के अलावा नगर निगम के कुछ पूर्व पार्षद और अधिकारी भी शामिल हैं. अदालत के फैसला सुनाने के तुरंत बाद अदालत में मौजूद सभी 48 आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया. जैन को मार्च 2012 में गिरफ्तार किया गया था. उच्चतम न्यायालय से जमानत मिलने से पहले वह एक साल के अधिक समय जेल में काट चुके हैं.

देवकर को मई 2012 में किया गया था गिरफ्तार
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता देवकर को मई 2012 में गिरफ्तार किया गया था. जमानत मिलने से पहले वह तीन साल जेल में रह चुके हैं. वह 1995 से 2000 के बीच जलगांव नगर परिषद में पार्षद थे. उन पर एक बिल्डर का पक्ष लेने और 29 करोड़ रुपये की अनियमितता में लिप्त होने का आरोप लगाया गया था.

जैन ने लिया था खंडेश बिल्डर्स का पक्ष
Loading...

पूर्व मंत्री सुरेश जैन ने इस योजना में घर बनाने के लिए खंडेश बिल्डर्स का पक्ष लिया था, जिन्हें घरकुल योजना के तहत घर बनाने का ठेका दिया गया था. जलगांव के पूर्व नगर आयुक्त प्रवीण गेडाम ने फरवरी 2006 में इस संबंध में शिकायत दर्ज की थी. जलगांव के बाहरी इलाके में बनाए जाने वाले 5,000 घरों में से केवल 1,500 घरों का ही निर्माण पूरा हो पाया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 11:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...