पायल तड़वी खुदकुशी केस: फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी ने मुंबई पुलिस को सौंपी DNA रिपोर्ट

भाषा
Updated: September 8, 2019, 9:43 PM IST
पायल तड़वी खुदकुशी केस: फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी ने मुंबई पुलिस को सौंपी DNA रिपोर्ट
22 मई को बीवाईएल नायर सरकारी अस्पताल की छात्रा पायल तड़वी ने खुदकुशी कर ली थी.

तीन महिला डॉक्टरों हेमा अहुजा, भक्ति मेहर और अंकिता खंडेलवाल को तड़वी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. बॉम्बे हाईकोर्ट ने पिछले महीने तीनों को जमानत दे दी थी.

  • Share this:
मुंबई. फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी (Forensic Science Laboratory) ने डॉक्टर पायल तड़वी (Payal Tadvi) के कथित आत्महत्या मामले में डीएनए (DNA) विश्लेषण संबंधी अपनी रिपोर्ट मुंबई पुलिस (Mumbai Police)को सौंप दी है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को बताया कि यह हत्या का मामला नहीं लगता है. उन्होंने कहा कि एफएसएल की साइबर शाखा एक हफ्ते के भीतर अपनी अंतिम रिपोर्ट सौंपेगी.

जातिसूचक कमेंट्स से तंग आकर की थी आत्महत्या
मुंबई के बीवाईएल नायर सरकारी अस्पताल (BYL Nair Hospital) से संबद्ध पोस्ट ग्रेजुएट (दूसरे वर्ष) की मेडिकल छात्रा, 26 वर्षीय तड़वी ने अपने वरिष्ठ सहयोगियों द्वारा जाति के नाम पर उत्पीड़न किए जाने के बाद 22 मई को आत्महत्या कर ली थी.

उपनगर कलिना स्थित एफएसएल घटनास्थल से एकत्रित किए गए नमूनों की तभी से जांच कर रही है. इनमें तड़वी का दुपट्टा जिसके जरिए उसने फांसी लगाई, उसके नाखूनों में मिले खून, मोबाइल फोन और अन्य सामग्रियां शामिल हैं.

अधिकारी ने बताया, 'डीएनए का विश्लेषण कर रही शाखा ने दो दिन पहले पुलिस अपराध शाखा को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी. हम उसके फोन में मिले सुसाइड नोट को पहले ही जमा कर चुके हैं और डीएनए विश्लेषण के बाद यह आत्महत्या का ही मामला लगता है, हत्या का नहीं. हमने उस दुपट्टे की भी जांच की जिसके सहारे उसने आत्महत्या की थी. साइबर शाखा तड़वी के मोबाइल फोन से और जानकारियां जुटाने की कोशिश कर रही है.'

एफएसएल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'हमें पता चला है कि वह कितने व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ी हुईं थी, किसके साथ चैट करती थी. हम ई-मेल के ब्यौरों की भी जांच कर रहे हैं और उन सोशल नेटवर्किंग साइट की सूचना भी खंगालने की कोशिश कर रहे हैं जिन पर उसने अपने फोन से लॉग-इन किया था.'

इससे पहले तड़वी के मोबाइल फोन की फॉरेंसिक जांच में कथित सुसाइड नोट की तस्वीरें मिली थीं. सुसाइड नोट में कथित तौर पर इस बात का उल्लेख था कि तीन वरिष्ठ महिला डॉक्टर तड़वी पर जातिगत टिप्पणियां करती थीं और उसे डराती-धमकाती थी.
Loading...

आरोपी डॉक्टरों को बॉम्बे हाईकोर्ट से मिली थी जमानत
गौरतलब है कि तड़वी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गले पर निशान मिलने की बात सामने आई तो तड़वी के परिवार के वकील नितिन सतपुते ने आरोप लगाया कि उसकी हत्या की गई थी.

इससे पहले तीन महिला डॉक्टरों हेमा अहुजा, भक्ति मेहर और अंकिता खंडेलवाल को तड़वी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. बॉम्बे हाईकोर्ट ने पिछले महीने तीनों को जमानत दे दी थी.

ये भी पढ़ें-

मुंबई: बारिश से घर का हिस्‍सा गिरा, तीन लोगों के फंसे होने की आशंका

उद्धव बोले- BJP के साथ गठबंधन अटल है, हम सत्ता चाहते हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 9:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...