अपना शहर चुनें

States

पालघर मॉब लिंचिंग: सरकार और विपक्ष आमने-सामने, एक दूसरे पर लगा रहे आरोप

पाकिस्तान में मॉब लिंचिंग के बाद भड़के दंगे
पाकिस्तान में मॉब लिंचिंग के बाद भड़के दंगे

बीजेपी (BJP) ने सरकार पर आरोप लगाया कि साधुओं की पीट-पीटकर हुई निर्मम हत्या में जुड़े आरोपी एनसीपी और कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं और सरकार को उन पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2020, 10:47 PM IST
  • Share this:
पालघर में साधुओं की निर्मम हत्या राजनीति का प्रमुख मुद्दा बन गया है. कांग्रेस, एनसीपी और बीजेपी आपस में पालघर हिंसा को लेकर आरोप-प्रत्यारोप करने लगे हैं. शुरू में साधुओं की हत्या को सांप्रदायिक रंग देने के मैसेज वायरल होने लगे बाद में सरकार द्वारा इसमें खुलासा किया गया कि इस तरीके की कोई भी घटना नहीं हुई है. यह अफवाहों के कारण मॉब लिंचिंग हुई है. इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश देने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी जिसके बाद इस घटना को लेकर पक्ष और विपक्ष के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है.

बीजेपी ने सरकार पर आरोप लगाया कि साधुओं की पीट-पीटकर हुई निर्मम हत्या में जुड़े आरोपी एनसीपी और कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं और सरकार को उन पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. तो एनसीपी की तरफ से साफ किया गया कि एनसीपी का इस तरीके का कोई भी कार्यकर्ता उसमें शामिल नहीं है और इस पर बीजेपी को राजनीति करने से बचना चाहिए. जिसके बाद कांग्रेस नेता सचिन सावंत सामने आए और उन्होंने दावा किया कि पकड़े गए आरोपियों में कई लोग बीजेपी के कार्यकर्ता हैं. कई बीजेपी के मंच पर दिखाई भी दे चुके हैं. ऐसे में बीजेपी उन कार्यकर्ताओं पर भी कार्रवाई करे.

मामले में पकड़े गए 110 आरोपी



कांग्रेस प्रवक्ता के इस बयान के बाद बीजेपी के प्रदेश सचिव संजय पांडे सामने आए और उन्होंने कहा कि सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए इस तरीके की बातें कर रही है. साधुओं की हत्या निर्मम है और इसके पीछे जो भी दोषी है उस पर कार्रवाई होनी चाहिए. किसी भी तरीके से इसे राजनीतिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए और ना ही कार्रवाई में देरी होने चाहिए. कार्रवाई पूरी पारदर्शिता के साथ होनी चाहिए साधुओं की हत्या के मामले में आज एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से भी मिला जिसमें महामंडलेश्वर विश्वेश्वरानंद गिरी जी सहित दूसरे संत शामिल थे.
सभी ने साधुओं की हत्या में आरोपियों को कड़ी कार्रवाई करने की मांग की सरकार ने आश्वस्त किया है कि इस तरीके की कोई भी घटना महाराष्ट्र में नहीं होनी चाहिए यह दुखद है. जो भी आरोपी पकड़े गए हैं उन सभी के ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी इस मामले में 110 आरोपी पकड़े गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज