लाइव टीवी

बॉम्बे हाईकोर्ट ने भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपियों की जमानत याचिका खारिज की

भाषा
Updated: October 15, 2019, 4:04 PM IST
बॉम्बे हाईकोर्ट ने भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपियों की जमानत याचिका खारिज की
हाईकोर्ट ने जमानत याचिका खारिज की (फाइल फोटो)

हाईकोर्ट ने आरटीआई कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज, अरूण फरेरा और वर्नन गोंजाल्विस को जमानत देने से मंगलवार को इनकार कर दिया.

  • Share this:
मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने नक्सलियों के साथ संपर्क और पुणे के भीमा कोरेगांव (Bhima Koregaon) में जाति आधारित हिंसा को कथित तौर पर भड़काने के आरोप में गिरफ्तार आरटीआई कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज, अरूण फरेरा (Arun Ferreira) और वर्नन गोंजाल्विस को जमानत देने से इनकार कर दिया है. मंगलवार को न्यायमूर्ति सारंग कोटवाल ने तीनों कार्यकर्ताओं की जमानत याचिकाओं को अस्वीकार कर दिया.




बता दें कि पिछले वर्ष अगस्त में पुणे पुलिस ने आरोपियों को पहले नजरबंद किया था. पुणे की एक सत्र अदालत द्वारा उनकी जमानत याचिकाएं ठुकराने के बाद 26 अक्टूबर, 2018 को उन्हें हिरासत में ले लिया गया था. तभी से ये तीनों कार्यकर्ता जेल में हैं. उन्होंने पिछले वर्ष हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. पुलिस ने तीनों आरोपियों और कई अन्य के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम और भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है.

भीमा कोरेगांव गांव में हिंसा भड़क गई थी
Loading...

बता दें कि 31 दिसंबर, 2017 को पुणे के भीमा कोरेगांव में ऐलगार परिषद का आयोजन हुआ था, इसके अगले दिन 1 जनवरी, 2018 को यहां हिंसा भड़क गई थी. इसके बाद जनवरी 2018 में इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने आरोप लगाया कि आरोपियों के माओवादियों के साथ संपर्क हैं और वो सरकार का तख्तापलट करने की योजना बना रहे हैं. हालांकि, तीनों आरोपियों का दावा है कि इस मामले में, इस आरोप के समर्थन में पुलिस के पास कोई सबूत नहीं है कि वो और अन्य कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ युद्ध जैसे हालात बना रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 

शर्मनाक! रात में सो रही 13 साल की बेटी से पिता ने की रेप की कोशिश

अयोध्या: SC का निर्देश-UP सुन्नी वक्फ बोर्ड के प्रमुख को सुरक्षा दे योगी सरकार 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 2:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...