Home /News /maharashtra /

पुलवामा आतंकी हमले से कैसे बचा सीआरपीएफ का यह जवान, जानने के लिए पढ़ें

पुलवामा आतंकी हमले से कैसे बचा सीआरपीएफ का यह जवान, जानने के लिए पढ़ें

कहते हैं कि ज़िन्दगी और मौत ऊपर वाले के हाथों में होती है. ऊपर वाले ने कुछ ऐसा किया कि पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ की 76वीं बटालियन में तैनात एक जवान की जान बच गई. महाराष्ट्र के रहने वाले इस जवान का नाम है ठका बेलकर.

    कहते हैं कि ज़िन्दगी और मौत ऊपर वाले के हाथों में होती है. ऊपर वाले ने कुछ ऐसा किया कि पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ की 76वीं बटालियन में तैनात एक जवान की जान बच गई. महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के पारनेर गांव में रहने वाले इस जवान का नाम है ठका बेलकर. इनकी उम्र 28 वर्ष है. ठका सीआरपीएफ की 76 बटालियन के सैनिक हैं. यह बटालियन जम्मू कश्मीर में तैनात है. 14 फरवरी को ठका अपने साथियों के साथ कश्मीर जाने के लिए एचआर 49 एफ 0637 नंबर की बस में बैठे, लेकिन बस रवाना होने से पहले ऐसा कुछ हुआ जिसे ठका कभी नहीं भुला पाएंगे.

    आपको बता दें कि ठका की शादी इसी महीने होनी है, शादी के लिए ठका ने छुट्टी कि अर्जी दी थी, मगर छुट्टी मंजूर नहीं हुई तो उन्हें बटालियन के साथ ड्यूटी पर जाने की सूचना मिली. छुट्टियों के बारे में कोई जवाब नहीं मिलने से ठका कश्मीर जाने के लिए अपने साथियों के साथ बस में बैठे, तभी अचानक उन्हें छुट्टी मंजूर हो जाने का संदेश मिला.

    ठका ने बस में बैठे अपने साथियों को इसकी जानकारी दी और उन्हें सैल्यूट कर बस से उतर गए और गांव लौटने की तैयारी शुरू कर दी. दोपहर करीब सवा तीन बजे उसी बस पर पुलवामा में आतंकियों ने हमला किया जिसमें देश के 40 जवान शहीद हो गए. कुछ ही घंटों पहले जिन साथियों ने ठका को शादी की शुभ कामनाएं दी थीं वे साथी अब इस दुनिया में नहीं हैं.

    शादी के लिए छुट्टियां मंजूर हो जाने से पिछले हफ्ते पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ की 76 बटालियन का एक जवान ड्यूटी पर नहीं था इसलिए उसकी जान बच गई. ठका के पिता बाबाजी बेलकर ने कहा कि, “ठका पिछले 4 सालों से सेना में काम कर रहे हैं. इसी महीने में उसकी शादी होनी है. 14 तारीख को वे उसी बस में थे जिस बस पर आतंकी हमला हुआ. हमें रात करीब 8 बजे रिश्तेदारों के फोन आए तब हमें हमले की जानकारी मिली. हमने ठका को फोन किया तो उसने छुट्टी के बारे में बताया. यह बहुत ही दर्दनाक हमला है और जो शहीद हुए हैं वे भी हमारे बच्चे ही थे.”

    रिपोर्ट - आशीष दीक्षित

    Tags: CRPF, Jammu kashmir news, Maharashtra, Pulwama, Pulwama attack, Terrorist attack

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर