• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • IL&FS घोटाला: राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ED दफ्तर, सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई

IL&FS घोटाला: राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ED दफ्तर, सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई

कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुंबई के ईडी दफ्तर के बाहर से लेकर तकरीबन 500 मीटर तक पुलिसबल तैनात किया गया है. एहतियात के तौर पर कई रास्ते बंद कर दिये गये हैं. साथ ही दादर, एमआरए, मरीन ड्राइव और शिवाजी पार्क थाना क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है.

कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुंबई के ईडी दफ्तर के बाहर से लेकर तकरीबन 500 मीटर तक पुलिसबल तैनात किया गया है. एहतियात के तौर पर कई रास्ते बंद कर दिये गये हैं. साथ ही दादर, एमआरए, मरीन ड्राइव और शिवाजी पार्क थाना क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है.

कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुंबई के ईडी दफ्तर के बाहर से लेकर तकरीबन 500 मीटर तक पुलिसबल तैनात किया गया है. एहतियात के तौर पर कई रास्ते बंद कर दिये गये हैं. साथ ही दादर, एमआरए, मरीन ड्राइव और शिवाजी पार्क थाना क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है.

  • Share this:
    महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray) आईएलएंडएफएस घोटाला (IL&FS Scam) मामले में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) के सामने पेश हुए हैं. राज ठाकरे अब से थोड़ी देर पहले लगभग साढ़े ग्यारह बजे मुंबई में बल्लार्ड पियर स्थित ईडी दफ्तर पहुंचे. एमएनएस कार्यकर्ताओं के यहां बड़ी संख्या में जमा होने के अंदेशे और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए यहां बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया है.



    ईडी दफ्तर के बाहर से लेकर तकरीबन 500 मीटर तक पुलिस के जवान तैनात किये गये हैं. साथ ही कई रास्ते भी बंद कर दिये गये हैं. इसके अलावा मुंबई के‌ चार थाना क्षेत्रों- दादर, एमआरए, मरीन ड्राइव और शिवाजी पार्क में धारा 144 लगा दी गई है. पुलिस ने एहतियात के तौर पर एमएनएस नेता संदीप देशपांडे को हिरासत में ले लिया है.



    बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने राज ठाकरे को कोहिनूर सीटीएनएल इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी में आईएलएंडएफएस द्वारा 450 करोड़ रुपये से अधिक के लोन और इक्विटी निवेश से संबंधित कथित अनियमितताओं की जांच के सिलसिले में तलब किया है.

    राज ठाकरे के समर्थन में आए भाई उद्धव ठाकरे
    वहीं राज ठाकरे को मिले ईडी के समन पर उनके चचेरे भाई और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा कि ‘मुझे जांच से किसी ठोस नतीजे की उम्मीद नहीं है.’

    क्या है पूरा मामला?
    आईएलएंडएफएस ने कोहिनूर सीटीएनएल को लोन दिया था और इक्विटी इन्वेस्टमेंट भी किया था. सीटीएनएल ने लोन पेमेंट में डिफॉल्ट कर दिया. सीटीएनएल में राज ठाकरे भी पार्टनर थे. हालांकि, बाद में वो अपना शेयर बेचकर कंपनी से बाहर हो गए थे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज ठाकरे ने उसी साल अपने शेयरों को बेचा जब आईएलएंडएफएस ने घाटे में सीटीएनएल के शेयर बेचे थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज