लाइव टीवी

क्या बीजेपी नेता एकनाथ खडसे बगावत की राह पर हैं?

News18Hindi
Updated: December 10, 2019, 1:24 PM IST
क्या बीजेपी नेता एकनाथ खडसे बगावत की राह पर हैं?
बीजेपी नेता एकनाथ खडसे आज उद्धव ठाकरे से मुलाकात करेंगे.

आखिर क्यों भूपेंद्र यादव और चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) की तमाम कोशिशों के बाद भी शरद पवार (Sharad Pawar) से मिलकर आज उद्धव ठाकरे से मिलने जा रहे हैं बीजेपी नेता एकनाथ खडसे?

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 10, 2019, 1:24 PM IST
  • Share this:
मुंबई. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कद्दावर नेता एकनाथ खडसे (Eknath Khadse) द्वारा पार्टी नेतृत्व पर तीखा प्रहार हो रहा है. खडसे समर्थकों की माने तो लगभग 40 साल पार्टी के लिए काम करने के बाद भी पार्टी द्वारा बार-बार अपमानित किया जा रहा है. इससे एकनाथ खडसे नाराज चल रहे हैं. इस बीच जब एकनाथ खडसे एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) से मिले तो राजनीतिक गलियारों में चर्चा हो गई कि एकनाथ खडसे पार्टी छोड़ सकते हैं. एकनाथ खडसे आज महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) से मुंबई में मुलाकात करने वाले हैं. सोमवार को शरद पवार से मुलाकात करने के तुरंत बाद वह मुंबई लौट गए थे और आज वह मुख्यमंत्री ठाकरे से मिलने जा रहे हैं.

खडसे द्वारा बागी तेवर अपनाने के बाद विधानसभा चुनाव में उनका टिकट काटा गया था, लेकिन पार्टी में गलत संदेश जा रहा यह नजर आते ही बीजेपी ने उनकी बेटी को टिकट दिया था. लेकिन खडसे समर्थकों का आरोप है कि पार्टी के अंदरूनी नेताओं ने खडसे के खिलाफ काम किया और उनकी बेटी को 1800 मतों से पराजित होना पड़ा. एकनाथ खडसे समर्थकों का कहना है कि पार्टी के लिए 40 साल काम किया और उत्तर महाराष्ट्र में पार्टी को जमीन से आसमान तक पहुंचाया. पिछले छह दशक में लगातार दो सांसद उत्तर महाराष्ट्र से भेजे फिर भी पार्टी बार-बार अपमानित कर रही है. इसी गुस्से की वजह से वह कल दिल्ली आए थे.

दिल्ली में शरद पवार से की थी मुलाकात
दिल्ली में शरद पवार के साथ लगभग 45 मिनट उनकी मुलाकात हुई. उसके बाद तुरंत वह बिना बोले मुंबई के लिए निकल गए थे. लेकिन घर पर जब उनसे पूछा गया तब उन्होंने कहा कि वे अभी मुंबई जा रहे हैं और मुंबई में जाकर उद्धव ठाकरे से मुलाकात करेंगे. साथ ही ये भी कहा कि अगर उन्हें पार्टी छोड़ना है तो रात के अंधेरे में कोई निर्णय नहीं लेंगे. खडसे ने ये भी कहा कि वे पत्रकारों को बुलाकर सभी के सामने अपना निर्णय बताएंगे. उन्हें कोई रोक नहीं सकता. कहने की जरूरत नहीं है कि इन शब्दों ने उनका रुख स्पष्ट कर दिया है. इसी कारण पार्टी के बड़े नेता उपेंद्र यादव और चंद्रकांत पाटिल को उनको मनाने में लगाया गया. लेकिन अभी जब उन्होंने शरद पवार से मुलाकात कर ली और उद्धव ठाकरे से मिलने जा रहे हैं, इसका मतलब उन्होंने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है.

राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक, अब सिर्फ ये देखना होगा कि वे पार्टी कब छोड़ते हैं और राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) का दामन कब थामते हैं. यहां ये भी उल्लेख करने लायक है कि एकनाथ खडसे महाराष्ट्र में बड़े ओबीसी नेता हैं. जिस समाज से वे आते हैं उस समाज का बड़ा मतदान उत्तर महाराष्ट्र में होता है. बीजेपी को इन्हीं मतदाताओं को लेकर चिंता है. माना जा रहा है कि इसी कारण भूपेंद्र यादव और चंद्रकांत पाटिल चाहते हैं कि एकनाथ खडसे पार्टी नहीं छोड़ें.

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 1:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर