महाराष्ट्र में बीजेपी के कालीदास कोलंबकर ने ली प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ
Mumbai News in Hindi

महाराष्ट्र में बीजेपी के कालीदास कोलंबकर ने ली प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ
महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के कालीदास कोलम्बकर को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है.

महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा में नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के कालीदास कोलम्बकर (Kalidas Kolumbkar) को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 9:13 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा में नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के विधायक कालीदास कोलम्बकर (Kalidas Columbkar) को प्रोटेम स्पीकर चुना गया है. वे महाराष्ट्र विधानसभा के लिए आठ बार निर्वाचित हो चुके हैं.

महाराष्ट्र के राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कालीदास कोलंबकर को प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ दिलाई. कालीदास कोलम्बकर ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वे बुधवार को महाराष्ट्र विधानसभा में नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाएंगे.
बुधवार को सुबह 8 बजे से नई विधानसभा का पहला सत्र आयोजित किया जाएगा. इसी सत्र में प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलम्बकर विधानसभा में विधायकों को शपथ ग्रहण कराएंगे.

महाराष्ट्र विधानसभा में नवनिर्वाचित विधायकों को दिलाएंगे शपथ
इससे पहले राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने बीजेपी के वरिष्ठ विधायक कालिदास कोलंबकर को प्रोटेम स्पीकर चुन लिया. इसके बाद तय कार्यक्रम के अनुसार वे बुधवार को नवनिर्वाचित विधायकोंं को शपथ दिलाएंगे.



विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा में शामिल हो गए थे कांग्रेस विधायक कालिदास कोलंबकर
महाराष्ट्र में इसी साल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस के विधायक कालिदास कोलंबकर ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफा दे कर वे भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए और बीजेपी से जीत कर आए हैं.

दिल्ली से आया इस्तीफे का आदेश!
बीजेपी सूत्रों की मानें तो सुप्रीम कोर्ट का बहुमत परीक्षण के लिए समय सीमा तय करना और उसके बाद अजित पवार का शरद पवार से मिलने जाना इन दोनों घटनाओं के बाद दिल्ली में बैठा बीजेपी का आलाकमान सक्रिय हो गया. आनन-फानन में बीजेपी अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और महाराष्ट्र के हालात के बारे में उन्हें जानकारी दी. तीनों नेताओं ने यह फैसला लिया कि जब अजित पवार शरद पवार से मिल रहे हैं इसका मतलब साफ है कि बीजेपी सरकार के पास बहुमत नहीं है. इसके बाद केंद्रीय नेतृत्व ने फडणवीस को तुरंत इस्तीफा देने का निर्देश दिया.

ये भी पढ़ें - 

'चुनाव से पहले शिवसेना ने कहा था- उसके साथ जाएंगे, जो हमें CM की पोस्ट देगा'

उद्धव ठाकरे का CM बनना तय, महाराष्ट्र विकास आघाडी के नेता चुने गए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज