अपना शहर चुनें

States

11 साल पहले महिला को मारा, पुलिस को चकमा देने के लिए बदला नाम और धर्म, अब हुई गिरफ्तारी

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

Mumbai Crime News: भीमराव रामपुरे ने अपना नाम बदलकर रियाज़ शेख रख लिया है. उसे मुंबई के भिवंडी इलाके से गिरफ्तार किया गया. जबकि साल 2010 में वो अपनी पत्नी और बेटी के साथ कुर्ला ईस्ट में रहता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 8:00 AM IST
  • Share this:
मुंबई. ये कहानी किसी बॉलीवुड की फिल्म की तरह है. पहले मारपीट, फिर अपराधी का चकमा देकर फरार होना और आखिर में पुलिस की जासूसी. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) की इस केस में थ्रिलर का बड़ा ही जबरदस्त तड़का है. दिसंबर 2010 में मुंबई के नेहरू नगर इलाके में एक मजदूर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था. आरोप था कि उसने मुंबई के कुर्ला ईस्ट इलाके में एक महिला को बुरी तरह पीटा, लेकिन उस वक्त पुलिस आरोपी मजदूर की तलाश नहीं कर सकी. हालांकि अब 11 साल बाद पुलिस ने राजा भीमराव रामपुरे को गिरफ्तार कर लिया है. खास बात ये है कि पुलिस को चकमा देने के लिए रामपुरे ने अपना नाम और धर्म बदल लिया. आरोपी मजदूर अब 38 साल का हो चुका है.

भीमराव रामपुरे ने अपना नाम बदलकर रियाज़ शेख रख लिया है. उसे मुंबई के भिवंडी इलाके से गिरफ्तार किया गया. जबकि साल 2010 में वो अपनी पत्नी और बेटी के साथ कुर्ला ईस्ट में रहता था. पुलिस ने बताया कि किराए के घर में रहने वाला रामपुरे बाद में सोलापुर चला गया. पुलिस के मुताबिक रामपुरे ने एक मुस्लिम महिला से शादी की थी. लिहाजा पुलिस को चकमा देने के लिए उसने अपना नाम और धर्म दोनों बदल लिया. पुलिस ने इस मजदूर के पास से पैन और आधार कार्ड जब्त किए हैं और दोनों पर इनका अधिकारिक नाम मोहम्मद रियाज़ शेख है.

क्या है पूरा मामला?
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक नेहरु नगर पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर दानेश्वर पाटिल ने बताया कि साल 2010 में रामपुरे दो और मजदूरों के साथ एक महिला के घर में रिनोवेशन का काम कर रहा था. पैसे को लेकर महिला से इनकी बहस हो गई. जिसके बाद गुस्से में इन तीनों ने बांस और लकड़ी के डंडे से महिला की पिटाई कर दी. दो मजदूरों को पुलिस ने अप्रैल 2011 में गिरफ्तार कर लिया था. जबकि रामपुरे का पता नहीं चल सका था. पुलिस अब उस महिला की भी तलाश कर रही है जिसने 11 साल पहले इनके खिलाफ शिकायत की थी.
ऐसे हुई गिरफ्तारी


दरअसल पिछले दिनों पुलिस अपने इलाके के अपराधियों का लिस्ट खंगाल रही थी. इसी दौरान किसी और अपराधी का पता लगाने के लिए पुलिस की टीम वात्सल्यबाई नगर गई. पुलिस तलाशी के दौरान एक ऐसे घर में पहुंच गई जहां रामपुरे 11 साल पहले रहता था. पूछाताछ के दौरान यहां के लोगों ने पुलिस को रामपुरे के बारे में बताया. रामपुरे का नाम सुनते ही पुलिस के कान खड़े हो गए. इसके बाद पुरानी फाइल खंगाली गई. इसके बाद पुलिस को पता लग गया कि वो कहां रहता है.

ये भी पढ़ें:- कोरोना वैक्सीन पर DCGI आज कर सकती है बड़ा ऐलान, 11 बजे बुलाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस

घर से किया गिरफ्तार
भिवंडी में उसके घर पर पहुंचने के बाद पुलिस को पता चला कि वो उल्लास नगर में काम करता है. लेकिन हर 15 दिन में एक बार वो अपरने बीवी और बेटी से मिलने के लिए घर आता है. इसके बाद पुलिस ने घात लगाकर उसे गिरफ्तार कर लिया. कोर्ट में पेशी के बाद पुलिस को रामपुरे की रिमांड मिल गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज