सोलापुर लोकसभा सीट: त्रिकोणीय है मुकाबला, शिंदे के सामने गृहक्षेत्र बचाने की चुनौती

सोलापुर लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्‍मीदवार सुशील कुमार शिंदे
सोलापुर लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्‍मीदवार सुशील कुमार शिंदे

कांग्रेस ने पूर्व मुख्‍यमंत्री और दो बार के सांसद सुशील कुमार शिंदे को उतारा है वहीं बीजेपी ने मौजूदा सांसद शरद बनसोडे का टिकट काटकर धार्मिक गुरु जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य को उतारकर लिंगायत समुदाय को लुभाने की कोशिश की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2019, 2:22 PM IST
  • Share this:
सोलापुरी चादर, तौलिया, भारतीय बीड़ी-सिगरेट के लिए मशहूर सोलापुर महाराष्‍ट्र का पांचवा सबसे बड़ा शहर है. इसके साथ ही जनसंख्‍या की दृष्टि से इसका भारत में 49वां नंबर है. यह महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री सुशील कुमार शिंदे का गृहक्षेत्र भी है. लिहाजा सोलापुर लोकसभा सीट खास मायने रखती है. 1971 से लेकर अब तक यह सीट कांग्रेस या बीजेपी दोनों पार्टियों के ही हाथों में रही है.

लोकसभा चुनाव 2019 में इस सीट पर इसलिए भी लोगों की नजर है क्‍योंकि यहां त्रिकोणीय मुकाबला है. जहां कांग्रेस ने पूर्व मुख्‍यमंत्री और दो बार के सांसद सुशील कुमार शिंदे को उतारा है वहीं बीजेपी ने मौजूदा सांसद शरद बनसोडे का टिकट काटकर धार्मिक गुरु जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य को उम्‍मीदवार बनाया है. कहा जा रहा है कि बीजेपी ने धार्मिक गुरु जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य को चुनावी मैदान में उतारकर लिंगायत समुदाय को लुभाने की कोशिश की है. दरअसल सोलापुर सीट पर लिंगायत और दलितों की संख्या काफी ज्यादा है. ऐसे में जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य के सहारे बीजेपी को फायदा मिल सकता है.

प्रकाश आंबेडकर
प्रकाश आंबेडकर




इसके साथ ही वंचित बहुजन अघाड़ी पार्टी से प्रकाश आंबेडकर भी यहां से ताल ठोक रहे हैं. हालांकि प्रकाश आंबेडकर अकोला सीट से भी चुनाव मैदान में हैं. जानकारों का कहना है कि प्रकाश यहां इन दोनों प्रत्‍याशियों को कड़ी टक्‍कर दे सकते हैं. इन तीनों के अलावा भी 10 और उम्‍मीदवार मैदान में हैं. जिनमें से 6 निर्दलीय प्रत्‍याशी हैं. सोलापुर लोकसभा सीट पर दूसरे चरण में 18 अप्रैल को मतदान हो चुका है.
मोदी लहर में बीजेपी ने छीन ली थी सीट
2014 में मोदी लहर के चलते यह सीट शिंदे के हाथ से चली गई थी. उस दौरान बीजेपी के शरद बंसोड ने 5,17,879 वोट हासिल करके पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे को हराया था. शरद को 5,17,879 वोट मिले थे जबकि शिंदे के खाते में 3,68,205 वोट आए थे. इस दौरान बसपा और आम आदमी पार्टी ने भी चुनाव लड़ा था और ये तीसरे-चौथे नंबर पर रहे थे.

लोकसभा चुनाव 2019
लोकसभा चुनाव 2019


सामाजिक ताना-बाना
सोलापुर लोकसभा के अंतर्गत 6 विधानसभाएं आती हैं. सोलापुर की विधानसभाओं का मिजाज कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के पक्ष में है. विधानसभा सीट मोहोल एनसीपी के हिस्से में है, जबकि सोलापुर शहर मध्य, अक्कलकोट और पंढरपुर से कांग्रेस, सोलापुर शहर उत्तर और सोलापुर दक्षिण से बीजेपी के विधायक हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज