वर्धा लोकसभा सीट: बीजेपी-कांग्रेस में होगा सीधा मुकाबला
Mumbai News in Hindi

वर्धा लोकसभा सीट: बीजेपी-कांग्रेस में होगा सीधा मुकाबला
वर्धा लोकसभा सीट

बीजेपी ने मौजूदा सांसद रामदास तडस को ही फिर मैदान में उतारा है. जबकि कांग्रेस-एनसीपी ने चारुलता टोकस को टिकट दी है. वहीं बहुजन समाज पार्टी ने यहां से शैलेश कुमार अग्रवाल को उतारा है.

  • Share this:
वर्धा नदी के किनारे बसा वर्धा जिला कॉटन के व्‍यापार का प्रमुख केंद्र है. इसके अलावा यह महात्‍मा गांधी के समय में स्‍वतंत्रता संग्राम अभियानों के लिए भी जाना जाता है. महाराष्‍ट्र की वर्धा लोकसभा सीट का राजनीतिक इतिहास देखें तो यह सीट प्रमुख रूप से कांग्रेस की सीट रही है. 1951 से लेकर 1989 तक यहां से लगातार कांग्रेस ने जीत दर्ज की. हालांकि बीजेपी इस सीट पर 1996 में जाकर जीत हासिल कर सकी. उसके बाद 2004 में और फिर 2014 में यहां बीजेपी ने सीट झटकी. एक बार यह सीट माकपा के भी हाथों में जा चुकी है.

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर बात करें तो यहां कांग्रेस और बीजेपी में कड़ा मुकाबला है. बीजेपी ने मौजूदा सांसद रामदास तडस को ही फिर मैदान में उतारा है. जबकि कांग्रेस-एनसीपी ने चारुलता टोकस को टिकट दी है. वहीं बहुजन समाज पार्टी ने यहां से शैलेश कुमार अग्रवाल को उतारा है. बता दें कि 1996 के बाद से वर्धा लोकसभा सीट पर सीधा मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच ही रहा है.

वर्धा लोकसभा सीट पर कांग्रेस बीजेपी में है मुकाबला
वर्धा लोकसभा सीट पर कांग्रेस बीजेपी में है मुकाबला




11 अप्रैल को पहले चरण में यहां मतदान हो चुका है. इस बार 61.18% फीसदी ही वोट डाले गए हैं. यह 2014 लोकसभा चुनाव से 4 फीसदी कम है.
2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने जीती सीट
पिछले चुनाव में बीजेपी के रामदास तडस ने 537518 वोट हासिल कर लोकसभा सीट जीती. इस दाैरान कांग्रेस के सागर मेघे को 321735 वोट हासिल हुए. बीएसपी के चेतन पेंडम तीसरे नंबर पर रहे. 2009 में कांग्रेस प्रत्‍याशी दत्‍ता मेघे ने 3,52,853 के साथ यह सीट हासिल की थी. उन्‍होंने 2,56,935 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर आए बीजेपी के सुरेश वाघमरे को हराया था.

1989 तक कांग्रेस ने लगातार जीती है सीट
1989 तक कांग्रेस ने लगातार जीती है सीट


सामाजिक ताना-बाना
वर्धा लोकसभा सीट के अंतर्गत 6 विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें हिंगणघाट, आर्वी, देवली, वर्धा, अमरावती जिले के धामणगांव रेलवे और मोर्शी विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं. वर्धा, हिंगणघाट, मोर्शी विधानसभा सीटें बीजेपी के पास हैं जबकि देवली, आर्वी और धामणगांव रेलवे कांग्रेस के पास हैं.
2014 में यहां वोटरों की संख्या 15,64,553 थी. जिनमें से 10,13,445 लोगों ने अपने मतों का प्रयोग किया था. इनमें पुरुषों की संख्या 5,54,658 औैर महिला मतदाताओं की संख्या 4,58,787 थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading