महालक्ष्मी एक्सप्रेस: एक तरफ सांप तो दूसरी तरफ सैलाब, यूं बीते यात्रियों के 17 घंटे

बांढ के पानी में फंसी महासक्ष्मी एक्सप्रेस के यात्रियों के लिए वे 17 घंटे किसी बुरे सपने से कम नहीं थे. एक तरफ पीने के पानी की कमी और दूसरी तरफ उल्हास नहीं के बढ़ते जल स्तर ने लोगों की सांसें अटका दी थी.

News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 3:26 PM IST
महालक्ष्मी एक्सप्रेस: एक तरफ सांप तो दूसरी तरफ सैलाब, यूं बीते यात्रियों के 17 घंटे
महालक्ष्मी एक्सप्रेस में फंसे यात्रियों की 17 घंटे तक सांसें अटकी रही.
News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 3:26 PM IST
महाराष्ट्र में हो रही भारी बारिश के बीच शनिवार को बांढ के पानी में फंसी महासक्ष्मी एक्सप्रेस के यात्रियों के लिए वे 17 घंटे किसी बुरे सपने से कम नहीं थे. एक तरफ पीने के पानी की कमी और दूसरी तरफ उल्हास नहीं के बढ़ते जल स्तर ने लोगों की सांसें अटका दी थी. जब एनडीआरएफ, नेवी, एयरफोर्स और स्थानीय प्रशासन की मदद से लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा गया, तब उनकी जान में जान आई.

रेस्क्यू ऑपरेशन से पहले लोगों के लिए ये 17 घंटे काटने मुश्किल थे. उल्हास नदी का बढ़ता हुआ जल स्तर खतरे की घंटे बजा रहा था. इसी बीच सुनसान रेलवे ट्रैक पर खड़ी महालक्ष्मी एक्सप्रेस में एक सांप आ गया. इसे देखकर यात्रियों में हड़कंप मच गया. बाद में बड़ी मुश्किल से सांप को ट्रेन से बाहर निकाला गया.

स्थानीय लोगों ने निभाई बचाव कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका
मुंबई और कोल्हापुर के बीच चलने वाली महालक्ष्मी एक्सप्रेस शनिवार को ठाणे के पानी में फंस गई थी. राहत और बचाव कार्य के लिए टीम मुंबई से पहुंचती, उससे पहले स्थानीय लोग बचाव कार्य में जुट गए. आसपास के गांवों के लोगों ने राहत कार्य में पूरा योगदान दिया. स्थानीय इलाके की जानकारी होने के नाते उन्होंने बाहर से पहुंची टीम के साथ मिलकर पूरे ऑपरेशन को प्लान करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

खाने पीने की व्यवस्था भी की
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आसपास के गांवों से 100 से अधिक लोग लगातार मदद में जुटे रहे. किसी ने ये नहीं देखा कि समय कितना लग रहा है? बस सबकी चाहत थी कि लोगों को सुरक्षित बचा लिया जाए. स्थानीय लोग राहत एवं बचाव कार्य में तो लगे ही थी. इसके अलावा यात्रियों के लिए खाने पीने की व्यवस्था भी कर रहे थे. बदलापुर से कई लोग चाय, बिस्कुट, फल और खाने की अन्य वस्तु लेकर पहुंचे थे.

अंतत: तमाम परेशानियों और मुश्किल के उन 17 घंटों के बाद स्थानीय लोग, प्रशासन, एनडीआरएफ और सेना की मदद से सभी को सुरक्षित बचा लिया गया. अब वे सभी अपने मंजिल पर पहुंच चुके हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-

साक्षी मिश्रा की तरह इस लड़की ने की लव मैरेज, वीडियो अपलोड कर की यह अपील

तस्वीरों में देखिए बिहार की 'साक्षी मिश्रा' की अदाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 28, 2019, 2:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...