लाइव टीवी

गन्ने के सीजन में न लेनी पड़े छुट्टी इसलिए 30,000 महिलाओं ने निकलवाया गर्भाशय, मंत्री ने CM को लिखा पत्र
Mumbai News in Hindi

भाषा
Updated: December 26, 2019, 12:15 PM IST
गन्ने के सीजन में न लेनी पड़े छुट्टी इसलिए 30,000 महिलाओं ने निकलवाया गर्भाशय, मंत्री ने CM को लिखा पत्र
महाराष्ट्र सरकार के मंत्री ने 3000 महिलाओं के अपना गर्भाशय निकलवाने की घटना पर सीएम उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है (News18 क्रिएटिव)

मुख्यमंत्री को मंगलवार को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि माहवारी (Menstruation) के दिनों में बड़ी संख्या में महिला मजदूर काम नहीं करती हैं. काम से अनुपस्थित (Absent) रहने के कारण उन्हें मजदूरी नहीं मिलती है. ऐसे में पैसों की हानि से बचने के लिए महिलाएं अपना गर्भाशय (Uterus) ही निकलवा दे रही हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: December 26, 2019, 12:15 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में मंत्री नितिन राउत (Nitin Raut) ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को एक पत्र लिखा है. पत्र के माध्यम से उन्होंने अनुरोध किया है कि वह मजदूरी के काम से छुट्टी लेने से बचने के लिए गन्ना श्रमिक महिलाओं (Sugarcane Labor Women) द्वारा अपना गर्भाशय (Uterus) निकलवाने की घटनाओं पर रोक लगाएं.

नितिन राउत (Nitin Raut) का कहना है कि मध्य महाराष्ट्र (Maharashtra) के मराठवाड़ा क्षेत्र (Marathwada Area) में बड़ी संख्या में गन्ना श्रमिक (Sugarcane Labor) हैं जिनमें खासी संख्या महिलाओं की है.

क्या है वजह
मुख्यमंत्री को मंगलवार को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि माहवारी (Menstruation) के दिनों में बड़ी संख्या में महिला मजदूर काम नहीं करती हैं. काम से अनुपस्थित (Absent) रहने के कारण उन्हें मजदूरी नहीं मिलती है. ऐसे में पैसों की हानि से बचने के लिए महिलाएं अपना गर्भाशय ही निकलवा दे रही हैं, ताकि माहवारी ना हो और उन्हें काम से छुट्टी ना लेनी पड़े.



कांग्रेस (Congress) नेता राउत का कहना है कि ऐसी महिलाओं की संख्या करीब 30,000 है. राउत का कहना है कि गन्ने का सीजन छह महीने का होता है. इन महीनों में अगर गन्ना पेराई फैक्टरियां प्रति महीने चार दिन की मजदूरी देने को राजी हो जाएं तो इस समस्या का समाधान निकल सकता है.

मंत्री ने किया ये अनुरोध
कांग्रेस नेता राउत ने अपने पत्र में ठाकरे से अनुरोध किया है कि वह मानवीय आधार पर मराठवाड़ा क्षेत्र की इन महिला गन्ना मजदूरों की समस्या के समाधान के लिए संबंधित विभाग (Concerned Departments) को आदेश दें.

नितिन राउत के पास पीडब्ल्यूडी (PWD), आदिवासी मामले, महिला एवं बाल विकास, कपड़ा, राहत एवं पुनर्वास मंत्रालय विभाग हैं. महाराष्ट्र की ठाकरे नीत गठबंधन सरकार में शिवसेना (Shiv Sena) के अतिरिक्त कांग्रेस और राकांपा (NCP) भी शामिल हैं.

यह भी पढ़ें:

#HumanStory: उस गांव की कहानी, जहां ज्यादातर औरतों की कोख नहीं है

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 26, 2019, 10:47 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर