लाइव टीवी

महाराष्ट्र : फिर लगे आदित्य ठाकरे के पोस्टर, लिखा मेरा विधायक, मेरा सीएम

एएनआई
Updated: November 5, 2019, 8:24 AM IST
महाराष्ट्र : फिर लगे आदित्य ठाकरे के पोस्टर, लिखा मेरा विधायक, मेरा सीएम
शिवसेना के एक समर्थक ने मातोश्री के बाहर पोस्टर लगाकर आदित्य को अपना मुख्यमंत्री बताया.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) के परिणाम आने के 11 दिन हो चुके हैं लेकिन अब भी भाजपा (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच सरकार बनाने की सहमति नहीं बन पाई है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में भाजपा (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद के लिए चल रही लड़ाई अब पोस्टर तक पहुंच गई है. सोमवार को एक शिवसैनिक ने उद्धव ठाकरे के घर 'मातोश्री' (Matoshree) के बारह आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) की फोटो वाला पोस्टर (Posters) लगाया, जिसमें लिखा है, 'मेरा विधायक, मेरा मुख्यमंत्री'. पोस्ट के बारे में कहा जा रहा है कि शिवसेना के समर्थक हाजी हालिम खान ने लगवाया है.

बता दें कि आज महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) के परिणाम आने के 11 दिन हो चुके हैं लेकिन अब भी भाजपा और शिवसेना के बीच सरकार बनाने पर सहमति नहीं बन पाई है. इस बार महाराष्ट्र में शिवसेना मुख्यमंत्री का पद लेना चाहती है लेकिन भाजपा इसके लिए तैयार नहीं है. महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना मुख्यमंत्री के पद से कम पर मामने के लिए तैयार नहीं है.



एनसीपी के साथ सरकार बनाने की चर्चा गर्म
Loading...

बता दें कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए एनसीपी चीफ शरद पवार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से सोमवार को मुलाकात की थी. इसके बाद पवार ने कहा था कि कांग्रेस-एनसीपी के पास सरकार बनाने के नंबर नहीं हैं, साथ ही शिवसेना के साथ सरकार बनाने पर कोई चर्चा नहीं हुई है. हालांकि सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में एनसीपी-शिवसेना के बीच ढाई-ढाई साल सीएम फ़ॉर्मूले पर सरकार बनाने पर चर्चा हुई है. ऐसी अटकलें हैं कि पवार वापस महाराष्ट्र लौटकर शिवसेना को ये ऑफर दे सकते हैं और कांग्रेस इस सरकार को बाहर से समर्थन दे सकती है.

कांग्रेस ने भी रखी है शर्त
सूत्रों के मुताबिक सोनिया गांधी को शरद पवार के इस प्रस्ताव पर एतराज नहीं है लेकिन कांग्रेस की तरफ से कुछ शर्तें रखी गई हैं. सोनिया गांधी ने कहा कि शिवसेना को पहले NDA से संबंध तोड़ने की घोषणा करनी होगी. इसके अलावा विवादित मुद्दों पर शिवसेना की राय अतिवादी न हो, इसकी ज़िम्मेदारी पवार की होगी. कांग्रेस को पूरे देश मे राजनीति करनी है लिहाजा उसके मत को ध्यान में रखकर ही शिवसेना और उसके नेताओं को आगे बयानबाजी करनी होगी.

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र का महाभारत: सरकार गठन के मामले में अब गेंद शिवसेना के पाले में

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 8:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...