लाइव टीवी

चुनाव लड़ने के लिए मेरी बेटी को किया गया मजबूर: एकनाथ खडसे

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 6:13 PM IST
चुनाव लड़ने के लिए मेरी बेटी को किया गया मजबूर: एकनाथ खडसे
एकनाथ खडसे ने दावा किया कि विधानसभा चुनाव में मेरी जीत सुनिश्चित थी लेकिन मुझे टिकट नहीं दिया गया.

एकनाथ खडसे ने आरोप भी दोहराया कि उनकी बेटी रोहिणी खडसे और पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे को इस साल अक्टूबर में प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान हराने के पीछे कोई साजिश थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 6:13 PM IST
  • Share this:
मुंबई. परोक्ष रूप से महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) पर निशाना साधते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे (Eknath Khadse) ने गुरुवार को कहा कि मौजूदा प्रदेश पार्टी नेतृत्व में ‘ईर्ष्या और द्वेष’ के लक्षण दिखते हैं. दूसरे कार्यकाल में महज 80 घंटे तक मुख्यमंत्री रह पाने के लिए देवेंद्र फडणवीस पर कटाक्ष करते हुए खडसे ने कहा कि समय-समय पर, चमत्कार होता रहता है.

उन्होंने अपना यह आरोप भी दोहराया कि उनकी बेटी रोहिणी खडसे और पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे को इस साल अक्टूबर में प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान हराने के पीछे कोई साजिश थी. उन्होंने कहा कि भाजपा के विकास के लिए जिन लोगों ने काम किया उनकी उपेक्षा की जा रही है और पार्टी में उनका अपमान हो रहा है.

भाजपा से नाखुश नहीं
हालांकि, खडसे ने कहा कि वह भाजपा से नाखुश नहीं हैं. पूर्व मंत्री खडसे, बीड जिले के पर्ली में एक कार्यक्रम से पहले मीडिया से बात कर रहे थे. यहां पर भाजपा के दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की जयंती पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया. मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे भी कार्यक्रम में मौजूद थीं.

खडसे ने कहा कि गोपीनाथ मुंडे नेक और उदार नेता थे. हालांकि, मौजूदा पार्टी नेतृत्व में ईर्ष्या और द्वेष का भाव है. उन्होंने कहा कि हमने कुछ लोगों पर भरोसा किया, लेकिन उन्होंने हमसे छल किया. एक महीने में ही महाराष्ट्र में 80 घंटे के मुख्यमंत्री हुए. समय-समय पर चमत्कार होता रहता है.

मेरी जीत सुनिश्चित थी लेकिन मुझे टिकट नहीं
उन्होंने दावा किया कि विधानसभा चुनाव में मेरी जीत सुनिश्चित थी लेकिन मुझे टिकट नहीं दिया गया. इसके उलट मेरी बेटी चुनाव नहीं लड़ना चाहती थी, लेकिन उसे लड़ने के लिए मजबूर किया गया. खडसे ने कहा कि एक समय भाजपा का मजाक बनाया जाता था कि यह उच्च जातियों और कारोबारियों की पार्टी है, लेकिन वह गोपीनाथ मुंडे थे जिन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग समुदाय के लोगों को पार्टी से जोड़ने का काम किया. उन्होंने ओबीसी के कई नेताओं को उभरने और जगह बनाने में मदद की.ये भी पढ़ें- 

महाराष्ट्र में हुआ मंत्रालयों का बंटवारा, शिवसेना को गृह विभाग, NCP को वित्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 6:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर