राज्यपाल कोटे से MLC बनेंगे उद्धव ठाकरे, CM की कुर्सी की टेंशन होगी दूर!
Mumbai News in Hindi

राज्यपाल कोटे से MLC बनेंगे उद्धव ठाकरे, CM की कुर्सी की टेंशन होगी दूर!
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashra) मंत्रिमंडल ने उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) का नाम राज्यपाल कोटे से MLC के रूप में सिफारिश करने का फैसला किया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashra) मंत्रिमंडल ने गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) का नाम राज्यपाल के कोटे से राज्य विधान परिषद (MLC) के सदस्य के रूप में सिफारिश करने का फैसला किया है. मंत्रिमंडल की बैठक में फैसले के समय उद्धव ठाकरे मौजूद नहीं थे. हालांकि अब देखना ये होगा कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) सरकार द्वारा भेजे उद्धव ठाकरे के नाम पर मुहर लगाते हैं या फिर नहीं? बता दें कि वर्तमान में उद्धव किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं.

गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव से पहले विधान पार्षद राहुल नार्वेकर और राम वडकुटे के एनसीपी छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के बाद विधान परिषद में राज्यपाल के कोटे से दो सीटें खाली हैं. इन दोनों रिक्त सीटों का कार्यकाल मध्य जून तक है.

राज्यपाल कोटे से एमएलसी बनाने की सिफारिश
महाराष्ट्र के संसदीय कार्य मंत्री अनिल परब ने बताया कि राज्यपाल के कोटा से विधान पार्षद के तौर पर उद्धव ठाकरे के नाम की सिफारिश का फैसला मंत्रिमंडल की बैठक में हुआ. उन्होंने कहा, ‘‘राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से दो रिक्त सीटों में से एक पर उद्धव ठाकरे को नियुक्त करने का आग्रह किया गया है.’’



राज्य सचिवालय में उपमुख्यमंत्री अजित पवार की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में ठाकरे उपस्थित नहीं थे. अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने संवाददाताओं को बताया कि ठाकरे को बैठक में शिरकत नहीं करने की सलाह दी गयी थी कि क्योंकि मंत्रिमंडल विधान पार्षद के तौर पर नियुक्ति के लिए उनके नाम की सिफारिश करने वाला था.



उद्धव ठाकरे के पास मई तक का समय
संविधान के अनुच्छेद 164 (चार) में कहा गया है कि लगातार छह महीने तक मंत्री अगर किसी सदन के सदस्य नहीं रहते हैं तो उन्हें अवधि खत्म होने पर मंत्री पद छोड़ना होता है. उद्धव ठाकरे के मामले में छह महीने की अवधि 28 मई को खत्म होने वाली है क्योंकि उन्होंने पिछले साल 28 नवंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी .

कोरोना के चलते चुनाव स्थगित
विधायकों के कोटा से विधान परिषद की नौ सीटें 24 अप्रैल से रिक्त है और उद्धव ठाकरे द्विवार्षिक चुनाव के दौरान एक सीट पर विधान पार्षद चुने जाने वाले थे. कोरोना वायरस के संक्रमण और राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण चुनाव आयोग ने चुनाव स्थगित कर दिया था.

ये भी पढ़ें :- धारावी में पैर पसार रहा कोरोना, हुई तीसरी मौत, अब तक 14 लोग संक्रमित
First published: April 9, 2020, 6:23 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading