राज्यपाल से अलग-अलग मिले BJP-शिवसेना नेता, फडणवीस ने कही ये बात

शिवसेना नेता के बाद सीएम देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की.

शिवसेना नेता के बाद सीएम देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की.

दिवाली (Diwali) के बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) में राजनीतिक हलचलों का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच खींचतान जारी है. इसी बीच दोनों दोनों दल के नेताओं ने राज्यपाल से मुलाकात की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2019, 12:18 PM IST
  • Share this:
मुंबई. दिवाली (Diwali) के बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) में राजनीतिक हलचलों का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच खींचतान जारी है. इसी बीच दोनों दल के नेता राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) से मिलने राज भवन पहुंचे. सोमवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (CM Devendra Fadnavis) और शिवसेना नेता दिवाकर राउते (Diwakar Raote) ने राज्यपाल से मुलाकात की. हालांकि दोनों नेताओं ने इसे दिवाली के मौके पर हुई एक औपचारिक मुलाकात बताया.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद शिवसेना 50-50 के फॉर्मूले पर अड़ी है. इसमें उसकी एक मुख्य मांग सीएम पद को लेकर भी है. शिवसेना का कहना है कि दोनों दल से ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री बनेंगे. बीजेपी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि पार्टी मुख्यमंत्री पद साझा करने के लिए राजी नहीं है. बीजेपी को उम्मीद थी कि पार्टी अपने दम पर बहुमत का आंकड़ा प्राप्त कर लेगी. लेकिन पार्टी जादुई आंकड़े 145 से काफी पीछे रह गई. हालांकि चुनाव पूर्व बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के पास 288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत है. लेकिन शिवसेना बीजेपी से सरकार में अपनी स्थिति को लेकर स्पष्ट जवाब चाहती है.
दिवाली की शुभकामनाएं देने गए राजभवनदोनों नेताओं की राज्यपाल से मुलाकात को लेकर यह भी चर्चा चल रही है कि दोनों ने सरकार बनाने के लिए दावा पेश किया है. हालांकि शिवसेना और बीजेपी ने इसे नकार दिया है. उनका कहना है कि दिवाली के मौके पर हम राज्यपाल को शुभकामनाएं देने के लिए राजभवन गए. वहीं एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक, मुलाकात का एजेंडा तय नहीं था. हो सकता है कि सीएम फडणवीस ने राज्य के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्वय से राज्यपाल को अवगत कराया हो और सरकार बनाने को लेकर अपनी स्थिति बताई.




बीजेपी लिखित में दे आश्वासन
शनिवार को शिवसेना ने अपनी अन्य मांगों के साथ-साथ कहा था कि वे चाहती है कि बीजेपी उसे लिखित में 'सत्ता में बराबरी' का हक देने का आश्वासन दे और मुख्यमंत्री पद का कार्यकाल बराबर समय के लिए उसके साथ बांटे. शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में अपने स्तंभ 'रोकटोक' में संजय राउत ने लिखा, 'शिवसेना ने इस बार कम सीटें जीती हैं. साल 2014 की 63 के मुकाबले 56 सीटें जीती हैं, लेकिन उसके पास सत्ता की चाबी है.'

ये भी पढ़ें-

महाराष्‍ट्र: निर्दलीय विधायकों को अपने खेमे में करने में जुटी BJP-शिवसेना

शिवसेना बोली- उद्धव के हाथों में है महाराष्ट्र में सत्ता का रिमोट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज