• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • राज ठाकरे की पार्टी ने उद्धव सरकार के समर्थन में नहीं किया वोट, अपनाई यह स्‍ट्रैटजी

राज ठाकरे की पार्टी ने उद्धव सरकार के समर्थन में नहीं किया वोट, अपनाई यह स्‍ट्रैटजी

राज ठाकरे की पार्टी MNS के एकमात्र विधायक ने उद्धव सरकार के समर्थन में वोट नहीं किया. (फाइल फोटो)

राज ठाकरे की पार्टी MNS के एकमात्र विधायक ने उद्धव सरकार के समर्थन में वोट नहीं किया. (फाइल फोटो)

राज ठाकरे की पार्टी मनसे (MNS) ने ट्रस्‍ट वोट में हिस्‍सा नहीं लिया. इस तरह राज की पार्टी के एकमात्र विधायक ने उनके चचेरे भाई उद्धव ठाकरे की सरकार के समर्थन में वोट नहीं किया. मनसे तटस्‍थ रही.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्‍ट्र विधानसभा के विशेष सत्र में उद्धव ठाकरे की सरकार ने 169 विधायकों के साथ विश्‍वासमत हासिल कर लिया है. उद्धव सरकार ने विपक्ष BJP के बहिष्‍कार के बीच बहुमत प्रस्‍ताव जीत लिया है. इस बीच, विधानसभा में ट्रस्‍ट वोट को लेकर लाए गए प्रस्‍ताव पर वोटिंग के दौरान उद्धव ठाकरे के चचेरे भाई राज ठाकरे की पार्टी ने इस प्रक्रिया में हिस्‍सा ही नहीं लिया. राज ठाकरे की पार्टी महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (MNS-मनसे) के एकमात्र विधायक ने किसी भी पक्ष में वोट नहीं डाला. मनसे न्‍यूट्रल (तटस्‍थ) रही. इसके अलावा असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM और भाकपा भी तटस्‍थ बनी रही. इस तरह सदन की कार्यवाही में हिस्‍सा लेने वाली तीन पार्टियों के चार विधायकों ने वोट डालने के बाजय तटस्‍थ रहना बेहतर समझा.

    मनसे के अलावा ये पार्टियां भी रहीं तटस्‍थ
    राज ठाकरे की पार्टी मनसे अकेली पार्टी नहीं है, जिसने उद्धव सरकार की ओर से लाए गए बहुमत परीक्षण के प्रस्‍ताव पर हुई वोटिंग से अलग रही. MNS के अलावा ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम और भाकपा (भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी) भी तटस्‍थ रही. इसका मतलब यह हुआ कि इन दलों के विधायकों ने ट्रस्‍ट मोशन के न तो पक्ष में और न ही विपक्ष में वोट डाला. न्‍यूज एजेंसी 'ANI' के अनुसार, मनसे के एक, AIMIM के दो और भाकपा के एक विधायकों ने वोटिंग के बजाय न्‍यूट्रल रहना ही उचित समझा. इस तरह कुल चार विधायक तटस्‍थ रहे. इन्‍होंने न तो पक्ष और न ही विपक्ष में वोट डाला.

    उद्धव के शपथ ग्रहण में शामिल हुए थे राज ठाकरे
    मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शपथ ग्रहण में हिस्‍सा लेने के लिए चचेरे भाई राज ठाकरे को भी न्‍योता
    दिया था. पारिवारिक कार्यक्रमों को छोड़ दें तो यह पहला मौका था जब दोनों भाई सार्वजनिक मंच
    पर एक साथ नजर आए थे. इसके बाद सियासी गलियारों की दोनों भाइयों के बीच राजनीतिक सुलह
    की अटकलबाजियां तेज हो गई थीं. हालांकि, ट्रस्‍ट वोट के दौरान मनसे के तटस्‍थ रहने से इन
    कयासबाजियों को विराम लगता दिख रहा है.

    यह भी पढ़ें :-


    महाराष्ट्र विधानसभा में उद्धव सरकार ने साबित किया बहुमत, पक्ष में पड़े 169 मत
    उद्धव का फडणवीस को जवाब, शिवाजी के नाम पर शपथ लेना गुनाह, तो यह बार-बार करूंगा
    जानिए महाराष्ट्र के सीएम उद्धव के परिवार के बारे में, जहां हर शख्स है खास

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज