लाइव टीवी

महाराष्ट्र: सरकार गठन को लेकर गवर्नर की आखिरी कोशिश, सफल नहीं तो लग सकता है राष्ट्रपति शासन

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 11:54 PM IST
महाराष्ट्र: सरकार गठन को लेकर गवर्नर की आखिरी कोशिश, सफल नहीं तो लग सकता है राष्ट्रपति शासन
राज्यपाल की तरफ से राज्य में सरकार बनाने की यह आखिरी कोशिश की गई है?

महाराष्ट्र (Maharashtra) के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने NCP को सरकार बनाने के लिए आमंतत्रित किया है. सरकार गठन को कोशिश को लेकर ये उनका आखिरी दांव है. क्योंकि राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी सरकार बनाने से इनकार कर चुकी है और शिवसेना समर्थन पत्र नहीं दे पाई है. अगर एनसीपी भी सरकार बनाने में फेल होती है तो राष्ट्रपति शासन ही विकल्प बचेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 11:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने को लेकर रस्साकशी सोमवार को पूरे दिन जारी रही. विधानसभा चुनाव में दूसरी बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी शिवसेना (Shiv Sena) को भी राज्यपाल की तरफ से झटका लगा. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने शिवसेना को सरकार बनाने के लिए और समय देने से इनकार कर दिया. शिवसेना द्वारा समर्थन पत्र नहीं सौंपने के बाद राज्यपाल ने राज्य की तीसरी बड़ी पार्टी एनसीपी (NCP) को न्योता भेज दिया. राज्यपाल से मुलाकात में एनसीपी नेताओं ने समय मांगा है. मुलाकात के बाद एनसीपी नेता जयंत पाटिल ने कहा है कि हम अपनी सहयोगी पार्टी से बातचीत करेंगे. ऐसे में माना जा रहा है कि राज्यपाल की तरफ से राज्य में सरकार बनाने की यह आखिरी कोशिश की गई है. अगर एनसीपी भी राज्य में सरकार बनाने से इनकार कर देती है तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लगना लगभग तय है!

महाराष्ट्र की कुर्सी को लेकर जंग जारी
बता दें कि राज्य में नई सरकार के गठन को लेकर सोमवार को पूरे दिन मुंबई से लेकर दिल्ली और जयपुर तक अफवाहों का बाजार गर्म रहा. कभी खबर आती कि एनसीपी-कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन पत्र सौंप दिया है तो अगले ही पल खबर आ जाती कि अभी सरकार में शामिल होने को लेकर बातचीत जारी है. सोमवार को पूरा दिन इसी में बीत गया. शाम तक कोई फैसला नहीं हो पाया. सोमवार को शिवसेना प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात तो की, लेकिन इस मुलाकात के बाद बात बनने के बजाए और बिगड़ गई.

Maharashtra assembly elections, Devendra Fadnavis, Uddhav Thackeray, Shiv Sena, BJP
नई सरकार के गठन को लेकर सोमवार को पूरे दिन मुंबई से लेकर दिल्ली और जयपुर तक अफवाहों का बाजार गर्म रहा.


राज्यपाल कोश्यारी से मुलाकात के बाद शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'अभी तक एनसीपी और कांग्रेस का समर्थन नहीं मिला है. हमने राज्यपाल से दो दिन का समय मांगा लेकिन राज्यपाल महोदय ने वक्त देने से इनकार कर दिया है. लेकिन, राज्यपाल ने सरकार बनाने को लेकर हमारे दावे को अभी तक खारिज नहीं किया है.'

कांग्रेस के कई बड़े नेता सरकार बनाने के खिलाफ
वहीं कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक कई वरिष्ठ नेता शिवसेना के साथ सरकार बनाने के खिलाफ हैं. हालांकि, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि हमारी शरद पवार से बातचीत हुई है, मंगलवार को मुंबई में इस मसले पर एक बार फिर से बातचीत होगी. सोमवार को कांग्रेस और एनसीपी के बीच कई दौर की बातचीत में भी अबतक रुख स्पष्ट नहीं हो पाया है. इससे पहले खबर आई थी कि शिवसेना को कांग्रेस और एनसीपी बाहर से समर्थन दे सकती है.
Loading...

महाराष्ट्र, भाजपा, शिवसेना, मुख्यमंत्री, भगत सिंह कोश्यारी, कांग्रेस, राकांपा, विधानसभा चुनाव, Maharashtra, BJP, Shiv Sena, Chief Minister, Bhagat Singh Koshyari, Congress, NCP, Assembly elections,
कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक कई वरिष्ठ नेता शिवसेना के साथ सरकार बनाने के खिलाफ हैं.


महाराष्ट्र में राज्यपाल द्वारा शिवसेना को दी हुई समयसीमा खत्म हो चुकी है. कांग्रेस और एनसीपी ने अभी तक समर्थन पर कोई फैसला नहीं लिया है. ऐसी खबर आ रही है कि कांग्रेस के दो नेता मंगलवार को महाराष्ट्र में शरद पवार से मिलने के लिए जाएंगे, क्योंकि शरद पवार ने भी अभी तक शिवसेना को समर्थन की चिट्ठी नहीं सौंपी है. पवार से मुलाकात के बाद दोनों पार्टियां तय करेंगी कि शिवसेना के समर्थन में पत्र देना है या नहीं.

शिवसेना को राज्यपाल ने और वक्त देने से किया इनकार
इससे पहले महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना ने एनसीपी की शर्तों को मानते हुए ही सोमवार को केंद्र में बीजेपी के साथ अपना गठबंधन तोड़ने का फैसला किया था. इसी कड़ी में मोदी सरकार में शिवसेना के एकलौते मंत्री अरविंद सावंत ने सोमवार को इस्तीफा देने की घोषणा भी की थी. सावंत मोदी सरकार में भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय के मंत्री थे.

Maharashtra
क्या राज्य की ताजा हालात राष्ट्रपति शासन की ओर बढ़ रहा है.


सोमवार को ये भी खबर आई थी कि कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित कांग्रेसी विधायकों से बात की है. सभी विधायकों ने सोनिया गांधी से महाराष्ट्र में बनने वाली नई सरकार में शामिल होने की इच्छा जताई है, लेकिन शाम तक भी जब कांग्रेस का समर्थन पत्र शिवसेना को नहीं मिला तो आदित्य ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए साफ कर दिया है अभी तक न ही कांग्रेस और न ही एनसीपी की ही समर्थन पत्र शिवसेना के पास आया.

ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या राज्य के ताजा हालात राष्ट्रपति शासन की ओर बढ़ रहे हैं. क्योंकि राज्यपाल ने सबसे पहले बड़े दल के तौर पर बीजेपी की भी सरकार बनाने का न्योता दिया, लेकिन बीजेपी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया. बीजेपी के इनकार करने के बाद दूसरी सबसे पार्टी के तौर पर शिवसेना को भी न्योता भेजा गया, लेकिन शिवसेना भी तय समयसीमा के अंदर पत्र नहीं दे पाई. ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि अब राज्यपाल केंद्र सरकार को राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश भेज सकते हैं.

ये भी पढ़ें: 

Ayodhya Verdict: जानिए क्या था अयोध्या मसले पर इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला

Ayodhya Verdict: जानिए कौन हैं वो 5 जज, जिन्होंने देश के सबसे बड़े मुकदमे का ऐतिहासिक फैसला सुनाया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 9:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...