महाराष्ट्र : मुंबई, ठाणे समेत कई इलाकों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश के आसार, IMD का अलर्ट
Mumbai News in Hindi

महाराष्ट्र : मुंबई, ठाणे समेत कई इलाकों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश के आसार, IMD का अलर्ट
मुंबई, ठाणे समेत कई इलाकों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश की संभावना (फाइल फोटो)

IMD मुंबई केंद्र के उपमहानिदेशक केएस होसालिकर ने कहा कि मुंबई, पालघर, ठाणे, रायगढ़ और रत्नागिरी में शुक्रवार और शनिवार को भारी बारिश (Heavy Rain) होने की संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2020, 10:10 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) के कई जिलों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश (Heavy Rain) होने की संभावना है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुंबई केंद्र के उपमहानिदेशक केएस होसालिकर ने मुंबई, पालघर, ठाणे, रायगढ़ और रत्नागिरी में शुक्रवार और शनिवार को भारी बारिश  (Heavy Rain) होने की चेतावनी जारी की है. उन्होंने कहा कि भारी बारिश के साथ तेज हवाएं भी चल सकती हैं.

राज्‍य के विदर्भ क्षेत्र के लिए अगले 24 घंटों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है. IMD मुंबई के डिप्टी डायरेक्‍टर जनरल केएस होसालिकर ने ट्वीट करके बताया कि मुंबई और ठाणे में पिछले 24 घंटों में 120 MM बारिया रिकॉर्ड की गई है. मौसम विभाग के अनुसार, रायगढ़ जिले से सटी माथेरान ऑब्‍जवेटरी में 122 मिमी बारिश दर्ज की गई. इसी क्रम में अलीबाग वेदर स्‍टेशन ने 24 घंटे में 49 मिमी बारिश हुई, जबकि रत्‍नागिरी और कोंकण कोस्‍ट में 83 मिमी बारिश दर्ज की गई.






अगले 4-5 दिन भारी बारिश की संभावना
होसालिकर ने मंगलवार को भी ट्वीट किया था, ‘एन बे’ पर 19 अगस्त को निम्न दबाव क्षेत्र बनने से और इसके पश्चिम की ओर आगे बढ़ने से, महाराष्ट्र, गोवा, गुजरात में अगले चार-पांच दिनों में भारी से बेहद भारी बारिश होने की संभावना है. कोंकण, मध्य महाराष्ट्र, मुंबई, ठाणे में भी 21-22 को भारी बारिश हो सकती है.’ आईएमडी ने इन राज्यों में अलर्ट जारी किया है.

गोदावरी नदी का पानी खतरे के निशान से ऊपर
वहीं, गोदावरी नदी के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के कारण गुरुवार को नदी के जलस्तर में फिर से वृद्धि होने लगी है और पानी खतरे के निशान के करीब पहुंच रहा है. सूत्रों के अनुसार नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से आंध्र प्रदेश के दोव्लेश्वरम स्थित सर आर्थर कॉटन बराज में पानी का प्रवाह बढ़ सकता है. दूसरी ओर कृष्णा नदी भी पूरे उफान पर है और श्रीशैलम जलाशय लगभग पूरी तरह से भर गया है. जलाशय के सात गेट खोल दिए गए और दोनों तटों पर दो स्टेशनों में बिजली उत्पादन के बाद 3.84 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था.

नागार्जुन सागर बांध में भी शुक्रवार सुबह तक जलस्तर बढ़ने का अनुमान है. बुधवार देर रात पड़ोसी तेलंगाना के भद्राचलम में गोदावरी का जलस्तर चेतावनी स्तर से लगभग 43 मीटर नीचे गिर गया था. लेकिन भारी बारिश के बाद इसमें फिर से वृद्धि हो गयी और यह खतरे के निशान के करीब पहुंच गया. केंद्रीय जल आयोग के पूर्वानुमान के अनुसार बाढ़ का पानी गुरुवार देर रात खतरे के स्तर को छू लेगा. पूर्व और पश्चिम गोदावरी जिलों के दर्जनों गांव अब भी बाढ़ की चपेट में हैं. जल स्तर घटने से लोगों को कुछ राहत मिली थी. लेकिन भारी बारिश के कारण स्थिति के और गंभीर होने की आशंका पैदा हो गयी है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सूत्रों ने कहा कि दोनों जिलों में राहत शिविर काम कर रहे हैं और बाढ़ का खतरा पूरी तरह से खत्म होने तक वे चालू रहेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज