लाइव टीवी

महाराष्ट्र LIVE: शरद पवार बोले- संजय राउत कैसे जुटाएंगे 175 विधायक? देखना चाहता हूं अमित शाह की महारत

News18Hindi
Updated: November 6, 2019, 3:24 PM IST
महाराष्ट्र LIVE: शरद पवार बोले- संजय राउत कैसे जुटाएंगे 175 विधायक? देखना चाहता हूं अमित शाह की महारत
महाराष्ट्र की सत्ता का सबसे बड़ा खिलाड़ी शरद पवार ने भी अपना पासा फेंक दिया है.

महाराष्ट्र (maharashtra) में नई सरकार बनाने की कोशिशों के बीच एनसीपी ने मंगलवार को कहा था कि अगर शिवसेना बीजेपी के साथ गठबंधन खत्म करने का ऐलान कर देती है, तो महाराष्ट्र में एक नए राजनीतिक विकल्प पर विचार किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2019, 3:24 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में नई सरकार को लेकर सस्पेंस बरकार है. नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) ने एक बार साफ किया कि वह महाराष्ट्र सरकार में हिस्सेदार नहीं बनने जा रहे हैं. शरद पवार ने कहा कि बीजेपी और शिवसेना (Shiv Sena) को सरकार गठन का जनादेश मिला है. सरकार बनाने की जिम्मेदारी इन दोनों पार्टियों की ही है. कांग्रेस और एनसीपी मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी. वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत से हुई मुलाकात को लेकर पूछे गए सवाल पर पवार ने कहा कि राउत से सियासी समीकरण को लेकर कोई बात नहीं हुई.

शरद पवार ने कहा, 'अगर हमारे पास बहुमत होता, तो हम किसी का इंतजार नहीं करते. कांग्रेस और एनसीपी 100 का आंकड़ा पार नहीं कर पाए... हम एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर काम करेंगे.’

बीजेपी और शिवसेना के पास शासन करने का जनादेश होने का जिक्र करते हुए एनसीपी प्रमुख ने कहा, 'उन्हें जल्द से जल्द सरकार बना राज्य को संवैधानिक संकट से बचाना चाहिए. उन्हें हमें लोगों द्वारा दिए जनादेश को पूरा करने की अनुमति देनी चाहिए.’

इस बीच कांग्रेस भी सरकार बनाने की कोशिशों में लगी है. सुबह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलने उनके घर पहुंचे. अब सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे दोपहर बाद मुंबई पहुंच रहे हैं.

यहां पढ़ें, महाराष्ट्र की राजनीतिक हलचल का लाइव अपडेट्स...

>> इस बीच बीजेपी के सहयोगी रामदास अठावले का कहना है कि चाहे एनसीपी का समर्थन लेना पड़े या दोबारा चुनाव में जाना पड़े, शिवसेना को सीएम पद नहीं दिया जाएगा.

>>एनसीपी नेता शरद पवार से मुलाकात के बाद संजय राउत ने पत्रकारों से कहा, पवार देश और महाराष्ट्र के वरिष्ठ नेता हैं. वह राज्य की मौजूदा राजनीतिक हालात को लेकर चिंतित हैं. मुलाकात के दौरान हमारे बीच इसी मुद्दे पर बात हुई.'
Loading...

>>इससे पहले एनसीपी ने मंगलवार को कहा था कि अगर शिवसेना बीजेपी के साथ गठबंधन खत्म करने का ऐलान कर देती है, तो महाराष्ट्र में एक नए राजनीतिक विकल्प पर विचार किया जा सकता है. एनसीपी से जुड़े सूत्रों ने बताया था कि उनकी पार्टी शिवसेना के साथ बातचीत आगे बढ़ाने से पहले चाहती है कि केंद्र सरकार में शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत इस्तीफा दें.

>>नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार से मुलाकात के बाद संजय राउत अब उद्धव ठाकरे से मिलने मातोश्री पहुंचे हैं.



>>इससे पहले कांग्रेस नेता अहमद पटेल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलने पहुंचे. अभी तक ये साफ नहीं हो पाया है कि दोनों नेताओं की मुलाकात की असल वजह क्या रही. हालांकि, मौजूदा हालात को देखते हुए ये माना जा रहा है कि महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर ही ये मुलाकात हुई है.



>>गडकरी से मुलाकात करके निकले अहमद पटेल से पत्रकारों ने इस बाबत सवाल किया, तो उन्होंने महाराष्ट्र को लेकर किसी भी चर्चा से साफ इनकार किया और कहा कि वह किसानों की समस्या को लेकर गडकरी से मिलने उनके घर गए थे.

अहमद पटेल
नितिन गडकरी के घर के बाहर कांग्रेस नेता अहमद पटेल


>> सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे आज दोपहर मुंबई पहुंच सकते हैं.

>>माना जा रहा है कि अगर 9 नवंबर तक महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर कोई हल नहीं निकलता है, तो वहां पर राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है. बता दें कि महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन की आखिरी तारीख 9 नवंबर है.

>>शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) का कहना है कि चुनाव से पहले जो प्रस्ताव दिया गया था, हम उसी प्रस्ताव पर राज़ी होंगे. पार्टी को कोई नया प्रस्ताव मंजूर नहीं है. महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोशिशों के बीच संजय राउत एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मिलने के लिए रवाना हुए है.

>>संजय राउत ने कहा, 'महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी-शिवसेना के बीच 50-50 फॉर्मूले पर सहमति बनी थी. इस प्रस्ताव के बाद ही दोनों पार्टियां का गठबंधन हुआ था. अब चुनाव बाद बीजेपी अपने वादों से पीछे हट रही है.

 


क्या है 50-50 फॉर्मूला?
दरअसल, महाराष्ट्र चुनाव से पहले बीजेपी और शिवसेना के बीच एक राजनीतिक 'डील' हुई थी. इसके तहत पांच साल की सरकार में ढाई साल का सीएम पद बीजेपी के पास और बाकी ढाई साल का सीएम पद शिवसेना के पास रहेगा. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने विधानसभा चुनाव नतीजे आने के बाद ही बीजेपी को 50-50 फॉर्मूले की याद दिलाई थी. ठाकरे ने साफ शब्दों में कहा था- 'लोकसभा चुनाव में अमित शाह और देवेंद्र फडणवीस के साथ जो तय हुआ था, उससे न कम और न ज्यादा चाहिए. उससे एक कण भी अधिक मुझे नहीं चाहिए.'

विधानसभा में किसको कितनी सीटें?
महाराष्ट्र की 288 सीटों वाले विधानसभा में बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, एनसीपी को 54, कांग्रेस को 44 और अन्य को 29 सीटें मिली हैं. सरकार बनाने के लिए बहुमत का आकंड़ा 146 है. इस तरह से बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के पास बहुमत के आंकड़े हैं, लेकिन सीएम पद और 50-50 फॉर्मूले पर बात नहीं बन पाने के कारण अभी तक नई सरकार का गठन नहीं हो पाया है. (PTI इनपुट के साथ)

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 10:14 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...