लाइव टीवी

खडसे का आरोप- चुनाव में मुझे टिकट नहीं देने के पीछे फडणवीस और महाजन का हाथ
Mumbai News in Hindi

भाषा
Updated: January 2, 2020, 6:21 PM IST
खडसे का आरोप- चुनाव में मुझे टिकट नहीं देने के पीछे फडणवीस और महाजन का हाथ
एकनाथ खडसे ने लगाने गंभीर आरोप

एकनाथ खडसे ने का कहा है कि विधानसभा चुनाव के लिए उन्हें टिकट नहीं देने के पीछे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पार्टी नेता गिरीश महाजन का हाथ है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में सत्ता गवाने के बाद बीजेपी के खेमें में खलबली मच गई है. आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है इसी कड़ी में अब पार्टी के सीनियर लीडर एकनाथ खडसे ने पूर्व मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया है. एकनाथ खडसे ने का कहा है कि विधानसभा चुनाव के लिए उन्हें टिकट नहीं देने के पीछे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पार्टी नेता गिरीश महाजन का हाथ है. खडसे ने यह बात बुधवार को एक मराठी समाचार चैनल से बातचीत के दौरान कहीं. उन्होंने कहा कि कुछ लोग उनका राजनीतिक करियर खत्म करना चाहते हैं.

खडसे ने कहा, ‘भाजपा की प्रदेश कोर समिति के सदस्यों ने मुझे बताया कि देवेंद्र फडणवीस और गिरीश महाजन ने जलगांव जिले में मुक्तैनगर विधानसभा सीट से मुझे टिकट दिए जाने का विरोध किया था. उन्होंने मुझे टिकट दिए जाने की भाजपा की केंद्रीय समिति की इच्छा को भी नजरअंदाज किया.’


राज्य के पूर्व मंत्री ने दावा किया, ‘नाम नहीं बताने की शर्त पर कोर समिति के कुछ सदस्यों ने मुझे यह जानकारी दी’.

इस मामले में लगे थे अनियमितता के आरोप



जमीन सौदे में अनियमितता के आरोपों को लेकर खडसे ने 2016 में भाजपा के नेतृत्व वाली तत्कालीन राज्य सरकार से इस्तीफा दे दिया था, उस वक्त वह राज्य में राजस्व मंत्री थे और फडणवीस के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में सबसे वरिष्ठ मंत्री थे.  इसके बाद मंत्रिमंडल में उनकी कभी वापसी नहीं हो पाई और पिछले साल अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें टिकट भी नहीं दिया.

पार्टी ने बेटी को दिया था टिकट
हालांकि पार्टी में विरोध का स्वर फूटते देख  बीजेपी ने खडसे के बजाय उनकी बेटी रोहिणी खडसे को मुक्तैनगर से टिकट दिया, लेकिन वह शिवसेना के बागी चंद्रकांत पाटिल से हार गईं.

'खत्म कर देना चाहते हैं मेरा राजनीतिक कॅरियर'
खडसे ने एक समाचार चैनल से कहा, ‘अब तक हुए तमाम घटनाक्रमों को देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ लोग मेरे खिलाफ हैं और मेरा राजनीतिक कॅरियर खत्म कर देना चाहते हैं. प्रदेश बाजेपी ने उन लोगों को टिकट दिया जिनका कोई जनाधार नहीं था और इसी कारण हमलोग बुरी तरह पिछड़ गए.' उन्होंने कहा, ‘महाराष्ट्र से भाजपा के वरिष्ठ नेताओं जैसे कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को भी चुनाव प्रचार के लिए बहुत कम बार बुलाया गया.'




ये भी पढ़ें-

शरद पवार के सहयोगी रहे NCP नेता डीपी त्रिपाठी का निधन, लंबे समय से थे बीमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 5:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर