लाइव टीवी
Elec-widget

शपथ ग्रहण: उद्धव ठाकरे ने PM मोदी को भेजा न्योता, आएंगे नहीं लेकिन फोन पर दी बधाई

News18Hindi
Updated: November 27, 2019, 11:24 PM IST
शपथ ग्रहण: उद्धव ठाकरे ने PM मोदी को भेजा न्योता, आएंगे नहीं लेकिन फोन पर दी बधाई
उद्धव ने पीएम मोदी को फोन कर शपथ ग्रहण समारोह में आने का न्योता दिया. (File Photo)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन कर कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 11:24 PM IST
  • Share this:
मुंबई. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं. शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोरों पर हैं. वहीं उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए न्योता भेजा है. उद्धव ठाकरे ने खुद पीएम मोदी को फोन भी किया और उन्हें कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता दिया. हालांकि पीएम मोदी ने आने में असमर्थता जताते हुए फोन पर ही उद्धव ठाकरे को शुभकामनाएं दीं.

इससे पहले आदित्य ठाकरे, अपने पिता उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह का न्योता देने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को न्योता देने के लिए 10 जनपथ, दिल्ली पहुंचे. वहीं महाराष्ट्र के सीएम पद की शपथ लेने जा रहे उद्धव ठाकरे ने खुद पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को फोन कर कार्यक्रम में आने का न्योता दिया. बता दें, आदित्य ठाकरे वरली विधानसभा सीट से शिवसेना के विधायक हैं.

पीएम मोदी को भेजा गया निमंत्रण पत्र


आदित्य ने सोनिया-मनमोहन से मुलाकात कर दिया न्योता

आदित्य ठाकरे ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की और उन्हें शपथ ग्रहण समारोह में आने का न्योता दिया. इसके साथ ही आदित्य ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की और उन्हें भी समारोह में आने का न्योता दिया.

उद्धव ने किया पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को फोन
सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र के होने वाले मुख्यमंत्री, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को खुद फोन कर कार्यक्रम में आने का न्योता दिया है. वहीं पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के आवास से बाहर निकले शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमने सोनिया गांधी और डॉ. मनमोहन सिंह से मुलाकात की क्योंकि उनका मार्गदर्शन और आशीर्वाद आवश्यक है. अब हम मुंबई लौट रहे हैं.
Loading...

सोनिया गांधी को बुके भेंट करते हुए आदित्य ठाकरे


केवल एक ही डिप्टी सीएम होगा
मुंबई में आयोजित शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी के विधायकों की बैठक से बाहर निकले एनसीपी नेता प्रफुल पटेल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि महाराष्ट्र में केवल एक डिप्टी सीएम होगा, और वो भी एनसीपी से ही होगा.



उद्धव ठाकरे होंगे महाराष्ट्र के 18वें मुख्यमंत्री
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे गुरुवार को महाराष्ट्र के 18वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगे. वह मनोहर जोशी और नारायण राणे के बाद इस पद पर काबिज होने वाले शिवसेना के तीसरे नेता हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित होने के एक महीने बाद उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

महाराष्ट्र के 4 बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं शरद पवार
एनसीपी प्रमुख शरद पवार नए गठजोड़ के वास्तुकार के तौर पर देखे गए, जो खुद चार बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. शरद पवार 18 जुलाई 1978 को पहली बार मुख्यमंत्री बने थे, जब उन्होंने प्रगतिशील लोकतांत्रिक मोर्चा गठबंधन के तहत नई सरकार के गठन के लिए कांग्रेस सरकार गिरा दी थी. हालांकि, यह गठबंधन सरकार 17 फरवरी 1980 तक सत्ता में रही, जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इसे भंग कर दिया.

आदित्य ठाकरे ने मनमोहन सिंह से भी मुलाकात कर उन्हें शपथ ग्रहण समारोह में आने का निमंत्रण दिया.


शरद पवार ने गिरा दी थी 4 बार मुख्यमंत्री रहे वसंतदादा पाटिल की सरकार
शरद पवार कांग्रेस में लौटने के बाद एक बार फिर 25 जून 1988 से तीन मार्च 1990 तक मुख्यमंत्री रहे. उनका तीसरा कार्यकाल चार मार्च 1990 से तीन 25 जून 1991 तक रहा, जब वह रक्षा मंत्री के तौर पर नरसिंह राव कैबिनेट में शामिल किए गए. उन्हें मुंबई दंगों के बाद फिर से महाराष्ट्र वापस भेज दिया गया और वह छह मार्च 1993 से 13 मार्च 1995 तक मुख्यमंत्री रहें. वहीं, कांग्रेस के (दिवंगत) नेता वसंतदादा पाटिल चार बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे. इसमें उनका सात मार्च से 17 जुलाई 1978 तक का कार्यकाल भी शामिल है, उनकी यह सरकार शरद पवार ने गिरा दी थी.

यशवंतराव चव्हाण बने थे पहले मुख्यमंत्री
वर्ष 1960 में महाराष्ट्र के गठन के बाद पहले मुख्यमंत्री यशवंतराव चव्हाण बने थे. वह करीब ढाई साल इस पद पर रहे, जिसके बाद उन्हें चीन के साथ युद्ध के बाद रक्षा मंत्री नियुक्त किया गया. राज्य के एकमात्र मुस्लिम मुख्यमंत्री ए आर अंतुले (नौ जून 1980 से 12 जनवरी 1982) रहे. उन्हें भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर इस्तीफा देना पड़ा था. मनोहर जोशी 14 मार्च 1995 से 30 जनवरी 1999 तक मुख्यमंत्री रहे थे. वहीं, नारायण राणे एक फरवरी 1999 को मुख्यमंत्री बने जब शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने जोशी की जगह उन्हें बागडोर सौंपने का फैसला किया. राणे 17 अक्टूबर 1999 तक इस पद पर रहे, जब शिवसेना-भाजपा ने समय से पहले विधानसभा चुनाव कराने का फैसला किया.

महाराष्ट्र में बीजेपी के प्रथम मुख्यमंत्री थे देवेंद्र फडणवीस
देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र में बीजेपी के प्रथम मुख्यमंत्री थे. उनके नाम दो रिकॉर्ड हैं. वह वसंतराव नाइक के बाद महाराष्ट्र के ऐसे पहले मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया. हालांकि, अपनी दूसरी पारी में मात्र चार दिन ही मुख्यमंत्री रहें. उन्होंने 23 नवंबर को शपथ ग्रहण किया और सुप्रीम कोर्ट द्वारा विधानसभा में शक्ति परीक्षण कराने का आदेश दिए जाने के बाद 26 नवंबर को इस्तीफा दे दिया. कांग्रेस नेता सुशील कुमार शिंदे, अशोक चव्हाण, (दिवंगत)विलासराव देशमुख और पृथ्वीराज चव्हाण भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. कार्यकाल की संख्या के मामले में उद्धव ठाकरे राज्य के 28 वें मुख्यमंत्री होंगे.

महाराष्ट्र विकास आघाड़ी के घटक दलों ने अपनी पसंद के मंत्रालयों पर जताया दावा
सूत्रों की मानें तो महाराष्ट्र विकास अघाड़ी के घटक दलों ने अपनी पसंद के मंत्रालयों पर दावा जताया है. कांग्रेस ने राजस्व, कृषि, महिला बाल विकास, खाद्य और नागरिक आपूर्ति, उच्च शिक्षा, आवास, जल संसाधन और ऊर्जा मंत्रालय की मांग की है. वहीं एनसीपी ने होम, वित्त, Pwd, सहकारिता, स्वास्थ्य, शिक्षा, सिंचाई एवं पर्यटन मंत्रालय की डिमांड रख दी है. शिवसेना ने सीएम पद के साथ शहरी विकास मंत्रालय, सामान्य प्रशासन विभाग, सूचना, वन एवं पर्यावरण, न्याय और कानून मंत्रालय, एक्साइज और जीएसटी, परिवहन और स्वास्थ्य मंत्रालय जैसे महत्वपूर्ण विभाग अपने पास रखने की इच्छा जताई है.

शिवसेना-एनसीपी को 15-15 और कांग्रेस को 13 मंत्री पद संभव
सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र की नई सरकार में शिवसेना-एनसीपी को 15-15 मंत्री पद मिल सकते हैं. वहीं, कांग्रेस को 13 मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष का पद दिया जा सकता है. सूत्रों ने बताया कि शिवसेना को पूरे पांच साल के लिए मुख्यमंत्री का पद मिलेगा. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. सूत्रों के मुताबिक, नई सरकार में शिवेसना को मुख्यमंत्री के अलावा 14 मंत्री पद मिल सकते हैं. जबकि एनसीपी को एक उप मुख्यमंत्री समेत 15 मंत्रीपद दिए जा सकते हैं.

महाराष्ट्र में हो सकते हैं अधिकतम 43 मंत्री
बता दें, महाराष्ट्र में अधिकतम 43 मंत्री हो सकते हैं. 288 सदस्यीय विधानसभा में मंत्रियों की संख्या 15 प्रतिशत (कुल सदस्य संख्या का) से अधिक नहीं हो सकती. मौजूदा विधानसभा में शिवसेना के 56, एनसीपी के 54 और कांग्रेस के 44 विधायक हैं.

कई राज्यों के सीएम समेत इन दिग्गजों को भेजा न्योता
उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण के लिए राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, चंद्रबाबू नायडू, एचडी देवगौडा समेत सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को न्योता भेजा है. इनके अलावा क्रिकेटर्स, फिल्म स्टार्स को निमंत्रित किया गया है. सूत्रों के मुताबिक, उद्धव ठाकरे और शरद पवार खुद कार्यक्रम में आने वाले मेहमानों को न्योता दे रहे हैं.

ड्रोन कैमरों से होगी निगरानी
शपथ ग्रहण समारोह की सुरक्षा में लगे मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि समारोह स्थल पर सुरक्षा को देखते हुए सादी वर्दी में पुलिसकर्मियों को भी तैनात किया जाएगा. साथ ही भीड़ पर नजर रखने के लिए ड्रोन और सीसीटीवी कैमरों का इस्तेमाल किया जाएगा. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने आगंतुकों और वीवीआईपी मेहमानों के वाहनों की पार्किंग जैसे मुद्दों पर भी यातायात प्रबंधन के साथ चर्चा की.

ये भी पढ़ें - 

कहां हैं राज ठाकरे, क्या उद्धव के शपथ ग्रहण में शामिल होंगे मनसे प्रमुख?

शपथ ग्रहण समारोह: सोनिया गांधी को न्योता देने दिल्ली जा रहे हैं आदित्य ठाकरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 9:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...