होम /न्यूज /महाराष्ट्र /

महाराष्ट्र शक्ति परीक्षण से पहले बीजेपी ने चला अपना अंतिम दांव

महाराष्ट्र शक्ति परीक्षण से पहले बीजेपी ने चला अपना अंतिम दांव

BJP विधानसभा अध्‍यक्ष के चुनाव में विधानसभा के पटल पर अपना गणित स्‍पष्‍ट करना चाहती है. (फाइल फोटो)

BJP विधानसभा अध्‍यक्ष के चुनाव में विधानसभा के पटल पर अपना गणित स्‍पष्‍ट करना चाहती है. (फाइल फोटो)

BJP ने विधानसभा अध्‍यक्ष पद के लिए अपना उम्‍मीदवार उतार कर रणनीति साफ कर दी है. भाजपा के इस कदम से स्‍पीकर (Assembly Speaker) पद का चुनाव भी दिलचस्‍प हो गया है.

नई दिल्‍ली. महाराष्ट्र विधानसभा में उद्धव ठाकरे के शक्ति परीक्षण में अब कुछ ही घंटे बाकी हैं, लेकिन बीजेपी ने अभी तक हार नहीं मानी है. बीजेपी ने विधानसभा में उद्धव ठाकरे के विश्वास प्रस्ताव रखने से पहले अपना अंतिम दाव चल दिया है. पार्टी ने प्रोटेम स्पीकर के मामले को राज्यपाल से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक में चुनौती देने का फैसला किया है.

क्‍या चाहती है BJP?
भाजपा के इस रुख से यह सवाल उठता है कि बीजेपी आखिर क्‍या चाहती है? दरअसल, भाजपा चाहती है कि विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा पहले से चुने गए प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलम्बर की देखरेख में हो, जबकि उद्धव सरकार दिलीप वाल्से पाटिल को प्रोटेम स्पीकर बनाकर विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा कराना चाहती है. सूत्रों की मानें तो बीजेपी ट्रस्‍ट वोट पर चर्चा से पहले विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव पर शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन से दो-दो हाथ करने की तैयारी में है. पार्टी ने विधानसभा अध्यक्ष के लिए अपनी ओर से उम्मीदवार खड़ा स्‍पीकर के चुनाव को रोचक बना दिया है.

स्पीकर का चुनाव बीजेपी के लिए अहम
आम तौर पर विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव विश्वास प्रस्ताव के पहले होता है. लेकिन, महाराष्ट्र की राजनीतिक उठा-पटक और देवेंद्र फडणवीस सरकार के विश्वासमत पर सुप्रीम कोर्ट तक मामला पहुंचने के बाद अब विधानसभा अध्‍यक्ष का पद बीजेपी के लिए अहम हो गया है. दरअसल, देवेंद्र फडणवीस के मुख्यमंत्री बनने और विश्वासमत हासिल करने से पहले ही फडणवीस द्वारा इस्तीफे देने से हुई फजीहत को बीजेपी यूं ही भुलाने के लिए तैयार नहीं है.

अपना हिसाब पूरा करना चाहती है BJP
BJP उद्धव सरकार के बहुमत परीक्षण और विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में अपना पिछला हिसाब पूरा कर लेना चाहती है. दरअसल, बीजेपी ने विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में अपनी ओर से किसान कटोरे को मैदान में उतारते हुए उन्‍हें अपना उम्‍मीदवार बनाया है. बीजेपी नेतृत्व यह साफ कर लेना चाहता है कि विधानसभा के गणित में कौन सी पार्टी या नेता बीजेपी के साथ है और कौन बीजेपी के विरोध में, ताकि समय आने पर इन आंकड़ों को अपने पक्ष में बदला जा सके.

 

ये भी पढ़ें: 

कहां रहेंगे उद्धव ठाकरे नए मातोश्री में या फिर मुख्यमंत्री आवास में
...तो NCP का ही होगा डिप्‍टी सीएम, नाम पर शरद पवार लगाएंगे अंतिम मुहर

 

Tags: BJP, Congress, Devendra Fadnavis, Maharashtra, Maharashtra Assembly Election 2019, NCP, Shiv sena, Udhav Thackeray

अगली ख़बर