दो महीने पहले चाचा शरद पवार के लिए क्यों फूट-फूट कर रोए थे अजित पवार?
Mumbai News in Hindi

दो महीने पहले चाचा शरद पवार के लिए क्यों फूट-फूट कर रोए थे अजित पवार?
एनसीपी नेता अजित पवार ने बीजेपी के साथ मिल कर महाराष्ट्र में सरकार बना ली है. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashtra) के नए उपमुख्यमंत्री (Deputy CM) अजित पवार (Ajit pawar) दो महीने पहले ही अपने चाचा और एनसीपी (NCP) चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) को लेकर फूट-फूट कर रो पड़े थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2019, 1:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में बड़ा उलटफेर हुआ है. महाराष्ट्र की राजनीति के सबसे बड़े 'योद्धा' एनसीपी (NCP) सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) के भतीजे अजित पवार (Ajit Pawar) ने ही बीजेपी (BJP) के साथ मिलकर सरकार बना ली है. महाराष्ट्र के नए उपमुख्यमंत्री अजित पवार भले ही इस समय अपने चाचा शरद पवार के खिलाफ चले गए हों, लेकिन इसी साल सितंबर महीने में अजित पवार अपने चाचा के लिए फूट-फूट कर रोए थे. सितंबर महीने में एक नाटकीय घटनाक्रम में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता अजित पवार (Ajit Pawar) ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफा देने के बाद कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अजित पवार रोने लगे थे. उन्होंने उस समय कहा था कि इस उम्र में शरद पवार (Sharad Pawar) को मेरी वजह से परेशान किया जा रहा है. मैं इन सभी बातों से आहत हूं और अस्वस्थ भी, जिसके चलते मैंने इस्तीफे का फैसला लिया.

कभी शरद पवार के लिए रोए थे अजित पवार

मीडिया के सामने 28 सितंबर को फूट-फूट कर रोने के बाद अजित पवार ने कहा था, 'शरद पवार को जिस बैंक की वजह से परेशान किया जा रहा है, उनका उस बैंक से कभी संबंध नहीं रहा. इसके बावजूद मेरे परिवार परिवार पर 25 हजार करोड़ रुपए का घोटाले का आरोप लगाया गया. शरद पवार के कारण मैं उपमुख्यमंत्री पद तक पहुंचा हूं और मेरे कारण उनकी बदनामी हो रही थी.'



महाराष्ट्र, सरकार गठन, शपथ ग्रहण, देवेन्द्र फडणवीस, Maharashtra, government formation, cm Devendra Fadnavis, देवेन्द्र फडणवीस बने सीएम, Chanakya, Maharashtra politics, ajit pawar, अजीत पवार बने डिप्टी सीएम, udhav thakre, उद्धव ठाकरे, shivsena, शिवसेना, नरेंद्र मोदी, narendra modi, शरद पवार, sharad pawar, ajit pawar profile, अजित पवार का प्रोफाइल
एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ उनके भतीजे अजित पवार

अजित पवार ने उस समय कहा था, 'मैंने अचानक से इस्तीफा देने का फैसला किया जिससे मेरे पार्टी के सभी चाहने वालों को नहीं समझ आया कि मैंने इस्तीफा क्यों दिया. लोगों को बिना बताए ऐसा निर्णय लेने पर मैं उनसे माफी मांगता हूं. विधानभवन में जाकर मैंने स्पीकर के पीए को इस्तीफा सौंपा. इस्तीफा देने का फैसला मैंने लिया था, लेकिन चुनाव से पहले ऐसा करना सही होगा या नहीं यह सवाल था.'

बता दें कि महाराष्ट्र चुनाव की घोषणा के कुछ दिन बाद ही प्रवर्तन निदेशायल (ईडी) ने शरद पवार को नोटिस भेजा था. अजित पवार उस सहकारी बैंक में संचालक थे. अजित पवार सहकारी बैंक में निर्विरोध जीते थे. बाद में कहा गया कि 1088 करोड़ का घोटाला हुआ है. बाद में एक पीआईएल में कहा गया कि 25 हजार करोड़ का घोटाला हुआ है.

अजित पवार ने तब कहा था कि बैंक में केवल 11 हजार करोड़ की ही सेविंग है. उसमें 25 हजार करोड़ का घोटाला होता तो क्या बैंक को अब पता चलता? अजित पवार ने उस समय कहा था कि बीते 30 सालों से राजनीति में हूं मैं और बैंक के अस्तित्व में आने से अबतक बैंक में कई संचालक थे जिसमें कई सारे आईएएस अधिकारी थे. अगर आप कागज़ात देखें तो आपको समझ आएगा कि बैंक के क्या हालात है. अजित पवार महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड में कई करोड़ का घोटाले में अपना और अपने चाचा शरद पवार का नाम आने से आहत थे. इसी के बाद वह फूट-फूट कर रोए थे.

ये भी पढ़ें: 

महाराष्ट्र के नए सत्ता समीकरण में सभी को कैसे याद आए बालासाहेब ठाकरे!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज