लाइव टीवी

महाराष्‍ट्र: शिवसेना के तल्‍ख तेवर- अब जीना महंगा और मरना सस्‍ता हो गया है
Mumbai News in Hindi


Updated: December 17, 2019, 8:35 AM IST
महाराष्‍ट्र: शिवसेना के तल्‍ख तेवर- अब जीना महंगा और मरना सस्‍ता हो गया है
दवा की कीमतों में वृद्धि को लेकर शिवसेना ने 'सामना' में संपादकीय के जरिये हमला बोला है. (फाइल फोटो)

महाराष्‍ट्र में सरकार बनने के बाद भी शिवसेना और BJP के बीच जारी तल्‍खी कम होने का नाम नहीं ले रही है. प्रदेश में सत्‍तारूढ़ पार्टी ने अब दवाइयों की कीमतों में वृद्धि को लेकर 'सामना' में संपादकीय (Saamana Editorial) के जरिये हमला बोला है.

  • Last Updated: December 17, 2019, 8:35 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्‍ट्र में शिवसेना की अगुआई में सरकार का गठन हो चुका है, इसके बावजूद सत्‍तारूढ़
पार्टी और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच की तल्‍खी कम होने का नाम नहीं ले रही है.
एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर उद्धव ठाकरे नेतृत्‍व में सरकार बनाने वाली शिवसेना ने दवाइयों
की कीमतें बढ़ाने को लेकर हमला बोला है. शिवसेना (Shiv Sena) ने मुखपत्र 'सामना' में

संपादकीय के जरिये केंद्र सरकार पर तीखी टिप्‍पणी की है. पार्टी दवाइयों के दाम में 50 फीसद तक
की वृद्धि के फैसले पर कहा है कि इस कदम से आम इंसान का जीना महंगा और मरना सस्‍ता हो
गया है.दरअसल, कुछ दिनों पहले दवाइयों की कीमत 50 फीसद तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया था.
इसमें कई जीवनरक्षक दवाएं भी शामिल हैं. शिवसेना ने इसको लेकर सरकार पर हमला बोला है.
'सामना' में प्रकाशित संपादकीय में लिखा गया है, 'देश में पहले से ही अनाज, सब्जियों, दूध, फल
आदि के दाम बढ़े हुए हैं. ऐसे में अब 509 दवाइयों की कीमतें बढ़ा दी गईं. इनमें छोटे बच्‍चों से
लेकर बुजुर्गों के काम आने वाली दवाइयां भी शामिल हैं. BCG टीका, क्‍लोराक्‍वाइन, डैटसोन,
विटामिन सी, मेट्रोनिशजोल जैसी लगभग 21 दवाइयों की कीमतें सीधे 50 फीसद बढ़ा दी गई हैं.'

जीवनरक्षक दवाइयों की कीमतें बढ़ने पर हमला
शिवसेना ने जीवनरक्षक दवाइयों के दाम बढ़ाने के फैसले पर हमला बोला है. 'सामना' में लिखा गया,
'डायबिटीज, हेपिटाइटिस-B, C और कैंसर की दवाइयां भी महंगी हो गई हैं. बीसीजी का टीका
छोटे बच्‍चों को लगाना आवश्‍यक होता है. महंगी हुई दवाइयों में एलर्जी, सर्दी, बुखार और मलेरिया में
ली जाने वाली दवाइयां हैं.'

आम आदमी पर बोझ?
शिवसेना ने मुखपत्र में संपादकीय के जरिये कहा है कि दवा निर्माता कंपनियों ने कीमतें बढ़ाने की
मांग की थी. राष्‍ट्रीय दवा मूल्‍य निर्धारण प्राधिकरण ने ऐसा दावा किया है. पार्टी का कहना है कि
इसमें तथ्‍य हो सकता है, लेकिन आम आदमी इस महंगाई को कैसे सहन करेगा? शिवसेना ने तीखी
टिप्‍पणी करते हुए कहा कि इस सवाल का जवाब न तो सरकार देगी और न ही दवा निर्माण
कंपनियां. 'सामना' में लिखा गया है कि दवा महंगी होने के कारण यह आम इंसान की पहुंच से दूर
हो जाएगी. इस देश में आम इंसान का जीना महंगा और मरना सस्‍ता हो गया है.

 

 

ये भी पढ़ें:  उद्धव ठाकरे ने BJP पर साधा निशाना- हिंदुत्व का बुर्का ओढ़कर अगर घाव दोगे तो...

CAA Protest: हमलावर हुए संजय राउत, कहा- असम की आग दिल्‍ली पहुंची

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2019, 8:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर