लाइव टीवी

महाराष्‍ट्र: शिवसेना का तंज- प्‍याज सुंघाकर होश में लाया जाता है, अब वह भी संभव नहीं


Updated: December 10, 2019, 8:17 AM IST
महाराष्‍ट्र: शिवसेना का तंज- प्‍याज सुंघाकर होश में लाया जाता है, अब वह भी संभव नहीं
देश में प्‍याज की आसमान छूती कीमतों को लेकर शिवसेना ने मुखपत्र 'सामना' के जरिये सरकार पर हमला बोला है. (फाइल फोटो)

शिवसेना (Shiv Sena) ने 'सामना' में संपादकीय के जरिये प्‍याज की बढ़ती कीमतों को लेकर सरकार पर तंज कसा है. महाराष्‍ट्र में सत्‍तारूढ़ पार्टी ने वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) के बयान पर भी कटाक्ष किया है.

  • Last Updated: December 10, 2019, 8:17 AM IST
  • Share this:
मुंबई. देश में बढ़ती महंगाई को लेकर हर तरफ चर्चा हो रही है. ऐसे में न तो राजनीतिक दल और न ही नेता अछूते हैं. प्‍याज की आसमान छूती कीमतों को लेकर एक ओर जहां आमलोग परेशान हैं, वहीं विपक्षी पार्टियां सरकार पर हमलावर हैं. कुछ महीनों पहले BJP की सहयोगी रही शिवसेना ने अब अर्थव्‍यवस्‍था और बढ़ती महंगाई को लेकर हमला बोला है. महाराष्‍ट्र में सत्‍तारूढ़ शिवसेना ने मुखपत्र 'सामना' में संपादकीय के जरिये हमला बोला है. इसमें लिखा गया, 'बेहोश व्‍यक्ति को प्‍याज सुंघाकर होश में लाया जाता है, लेकिन अब बाजार से प्‍याज गायब हो गया है. ऐसे में अब यह (प्‍याज सुंघाकर होश में लाना) भी संभव नहीं है.'

वित्‍तमंत्री के बयान पर भी बोला हमला
महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना ने वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्‍याज की कीमतों पर दिए गए बयान पर तीखा हमला बोला है. 'सामना' में लिखा गया, 'निर्मला सीतारमण वित्‍तमंत्री हैं, लेकिन आर्थिक नीति में उनका क्‍या योगदान है? 'मैं प्‍याज नहीं खाती, तुम भी मत खाओ' यह उनका ही ज्ञान है.' बता दें कि निर्मला सीतारमण ने बाद में प्‍याज पर दिए गए बयान से पलटते हुए कहा था कि उनके बयान को गलत तरह से पेश किया गया.

बुलेट ट्रेन को बताया बताया 'भार'

महाराष्‍ट्र में शिवसेना, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस की गठजोड़ वाली सरकार ने सत्‍ता संभालते ही मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना की समीक्षा करने की बात कही. मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने खुद भी इस बाबत बयान दिया है. अब 'सामना' में प्रकाशित संपादकीय में भी इस परियोजना को लेकर तल्‍ख टिप्‍पणी की गई है. शिवसेना ने हजारों करोड़ रुपये की इस परियोजना को 'आर्थिक भार' बढ़ाने वाला बताया है. संपादकीय में लिखा, 'बुलेट ट्रेन जैसी परियोजनाओं पर बेवजह जोर देकर आर्थिक भार बढ़ाया जा रहा है.' साथ ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन की तारीफ भी की गई है.

 ये भी पढ़ें: बिल से नागरिकता पाने वाले लोगों को 25 साल तक न मिले मताधिकार: शिवसेना सांसद

टिकट बंटवारा विवाद पर फडणवीस की सफाई, बोले- संसदीय बोर्ड ने लिया था फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 8:08 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर