CAA-NPR के खिलाफ महाराष्ट्र विधानसभा में प्रस्ताव लाने की कोई जरूरत नहीं- अजित पवार
Mumbai News in Hindi

CAA-NPR के खिलाफ महाराष्ट्र विधानसभा में प्रस्ताव लाने की कोई जरूरत नहीं- अजित पवार
मुंबई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सम्मेलन को संबोधित करते हुए अजित पवार ने यह बात कही. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashtra) के उप मुख्यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) ने NCP के सम्मेलन में कहा कि, सीएए और एनपीआर के खिलाफ विधानसभा में किसी तरह के प्रस्ताव लाने की जरूरत नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि, सीएए (CAA), एनपीआर (NPR) और एनआरसी (NRC) से महाराष्ट्र के किसी नागरिक को भयभीत होने की जरूरत नहीं है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री तथा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के वरिष्ठ नेता अजित पवार (Ajit Pawar) ने रविवार को मुंबई में कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (CAA), प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (NRC) तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) पर राज्य के लोगों को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है. उन्होंने इस मुद्दे पर ‘गलत सूचना’ फैलाने वालों की आलोचना भी की. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून और एनपीआर के खिलाफ विधानसभा में किसी तरह के प्रस्ताव लाने की जरूरत को खारिज किया.

अजित पवार ने कहा, ‘राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने जुबान दी है. कुछ लोग इस मुद्दे पर अलग तरह की बहस शुरू करना चाहते हैं.’ उन्होंने कहा कि सीएए, एनपीआर और एनआरसी से किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है और उनकी पार्टी ऐसे एहतियात बरतेगी कि महाराष्ट्र के किसी भी नागरिक को सीएए, एनआरसी और एनपीआर से कोई परेशानी नहीं हो.

शरद पवार कह चुके हैं, सीएए लागू न करे महाराष्ट्र
पवार ने कहा, ‘शरद पवार (राकांपा प्रमुख) तथा अन्य नेताओं ने भरोसा दिलाया है कि महाराष्ट्र में किसी भी व्यक्ति को इससे (सीएए एनआरसी और एनपीआर) किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी. हम इस मुद्दे पर महाविकास अघाड़ी सरकार में चर्चा कर चुके हैं.’ उन्होंने इस मामले में और जागरुकता लाने पर जोर दिया. गौरतलब है कि शरद पवार ने पिछले वर्ष दिसंबर में कहा था कि महाराष्ट्र को 8 अन्य राज्यों की ही तरह संशोधित नागरिकता कानून को लागू करने से इनकार करना चाहिए.
सीएए से डरने की जरूरत नहीं: उद्धव ठाकरे


राकांपा नेता नवाब मलिक ने भी पिछले माह कहा था कि एनआरसी महाराष्ट्र में लागू नहीं होगा. वहीं कांग्रेस ने सीएए और एनपीआर के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव लाने की मांग की थी. दिलचस्प बात यह है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पिछले माह प्रधानमंत्री से नई दिल्ली में मुलाकात की थी और इसके बाद कहा था कि सीएए से डरने की जरूरत नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा था कि एनपीआर किसी को भी देश से नहीं निकालेगा, लेकिन उससे पहले उन्होंने कहा था उनकी सरकार प्रस्तावित एनआरसी को राज्य में लागू नहीं करेगी.

ये भी पढे़ं - अजमेर दरगाह दीवान बोले- शांति को कमजोर करने वाली चीज का इस्लाम में स्थान नहीं

चिदंबरम ने पूछा, अल्पसंख्यक CAA से प्रभावित नहीं होंगे, तो मुस्लिम बाहर क्यों
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading