अपना शहर चुनें

States

मुंबई: क्वारंटीन किए गए यात्रियों से पैसे लेकर घर भेजने वाले होटल पर BMC का छापा

होटल पर पैसे लेकर क्वारंटीन किए गए यात्रियों को भेजने का आरोप है (सांकेतिक तस्वीर)
होटल पर पैसे लेकर क्वारंटीन किए गए यात्रियों को भेजने का आरोप है (सांकेतिक तस्वीर)

Mumbai Coronavirus Cases: मुंबई बीएमसी ने सांताक्रूज स्थित साई इन होटल पर छापा मारा. होटल पर मुंबई के बाहर से आए क्वारंटाइन यात्रियों से पैसे लेकर उन्हें घर जाने देने के आरोप हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 5:23 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों (Mumbai Coronavirus Cases) को लेकर प्रशासन काफी सख्ती दिखा रहा है. इसी क्रम में मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने बुधवार को प्रशासन के अधिकारियों के साथ मिलकर क्वारंटीन के लिए आरक्षित किए गए होटल में छापा मारा. मुंबई बीएमसी ने सांताक्रूज स्थित साई इन होटल पर छापा मारा. होटल पर मुंबई के बाहर से आए क्वारंटीन यात्रियों से पैसे लेकर उन्हें घर जाने देने के आरोप हैं. होटल पर आरोप है कि उसने 4 लोगों से पैसे लेकर उन्हें बाहर या घर जाने दिया गया है. होटल की ओर से की जा रही इस बड़ी लापरवाही की जानकारी मिलने के बाद मेयर किशोरी पेडनेकर खुद होटल में पहुंची. मुंबई की मेयर ने होटल के खिलाफ और यात्रियों के खिलाफ पुलिस को सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं.

वहीं इसके अलावा बढ़ते मामलों के मद्देनजर मुंबई बीएमसी ने जून 2020 से 16 फरवरी 2021 तक मास्क न पहनने वाले 15 लाख 29 हजार 995 लोगों पर कार्रवाई करते हुए अब तक 30 करोड़ 96 लाख 21 हजार 200 रुपये का जुर्माना वसूल किया है. मुंबई बीएमसी ने पूरे मुंबई में जून 2020 से मास्क का इस्तेमाल अनिवार्य किया था यह नियम अभी तक चल रहा है. पहले बीएमसी मास्क इस्तेमाल न करने पर 1000 रुपये का जुर्माना वसूल करती थी जबकि फ़िलहाल जुर्माने की रकम 200 रुपये है.

बता दें महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में हालिया बढ़ोतरी से चिंतित मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को नागरिकों से मास्क पहनने और उचित दूरी का पालन करने जैसे निर्देशों का सख्ती से पालन करने या एक बार फिर लॉकडाउन का सामना करने के लिए तैयार रहने को कहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि यह नागरिकों को फैसला करना है कि क्या वे संक्रमण पर नियंत्रण के लिए फिर से लॉकडाउन का सामना करना चाहते हैं?



उन्होंने कहा, ‘‘राज्य के लोगों को इसका फैसला करना है कि वे लॉकडाउन चाहते हैं या कुछ पाबंदी के साथ मुक्त तरीके से रहना चाहते हैं. मास्क पहनें और भीड़-भाड़ करने से बचें अन्यथा फिर से लॉकडाउन का सामना करना पड़ेगा. ’’

पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर उन्होंने संभागीय आयुक्तों और जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक कर हालात की समीक्षा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज