लाइव टीवी

उद्धव ठाकरे सरकार में घमासान! शिवसेना कोटे से मंत्री बने अब्दुल सत्तार के इस्तीफे की खबर
Mumbai News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 4, 2020, 3:11 PM IST
उद्धव ठाकरे सरकार में घमासान! शिवसेना कोटे से मंत्री बने अब्दुल सत्तार के इस्तीफे की खबर
सूत्रों के अनुसार शिवसेना कोटे से मंत्री अब्दुल सत्तार ने इस्तीफा दे दिया है. (फाइल फोटो)

बताया जा रहा है कि कैबिनेट मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज होकर अब्दुल सत्तार (Abdul Sattar) ने इस्तीफा दिया है. हालांकि शिवसेना (Shiv Sena) और उनके परिवार ने इस्तीफे की बात से इनकार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 4, 2020, 3:11 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार को बने दो महीने भी नहीं हुए हैं, लेकिन मंत्रालयों के बंटवारे को लेकर सहयोगियों के बीच सिरफुटौव्वल का खेल जारी है. सूत्रों के अनुसार राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार (Abdul Sattar) ने नाराज होकर अपना इस्तीफा दे दिया है. अब्दुल सत्तार को शिवसेना (Shiv Sena) कोटे से ही मंत्री बनाया गया था. बताया जा रहा है कि कैबिनेट मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज होकर अब्दुल सत्तार ने इस्तीफा दिया है. हालांकि शिवसेना और उनके परिवार ने इस्तीफे की बात से इनकार किया है.

संजय राउत बोले, भरोसा है कि सत्तार नहीं छोड़ेंगे शिवबंधन
अब्दुल सत्तार के इस्तीफे पर शिवसेना से राज्यसभा सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने सधी हुई प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि, 'अब्दुल सत्तार को पहली बार में ही मंत्रिमंडल में मौका दिया गया, वे पहले से शिवसैनिक नहीं हैं. उनका इस्तीफा मुख्यमंत्री और राजभवन नहीं भेजा गया है. भरोसा है कि सत्तार शिवबंधन नहीं छोड़ेंगे.' राउत ने यह भी कहा कि, कोई भी विभाग बड़ा या छोटा नहीं होता है. उन्होंने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि, वह 5 साल तक विपक्ष में रहेगी.

बता दें कि उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल में विभागों के बंटवारे को लेकर सहयोगी एनसीपी और कांग्रेस में परस्पर खींचतान की स्थिति है. लेकिन कैबिनेट मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज होकर इस्तीफा देने वाले पहले शिवसेना कोटे से मंत्री बने अब्दुल सत्तार ही हैं.




शपथ लेने वाले 36 मंत्रियों को अभी तक नहीं बांटे गए विभाग
शिवसेना के नेतृत्व वाले महा विकास अघाडी (Maha Vikas Aghadi) सरकार में शिवसेना के अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस घटक दल हैं. नवंबर के आखिर में जब से यह सरकार बनी है, तीनों दलों के बीच विभागों के बंटवारे को लेकर लगातार खींचतान बनी हुई है. बीते 30 दिसंबर को 36 नए मंत्रियों के शपथ लेने से महाराष्ट्र (Maharashtra) में मंत्रिपरिषद के सदस्यों की संख्या बढ़कर 43 हो गई है, लेकिन इन मंत्रियों को सीएम उद्धव ठाकरे ने अभी तक विभागों का आवंटन नहीं किया है.

विभाग बंटवारे को लेकर कांग्रेस-NCP में हुई थी तीखी बहस
गुरुवार को गठबंधन के घटक दलों की पांच घंटे से अधिक समय तक चली मैराथन बैठक के बाद भी मंत्रालयों के आवंटन पर आम सहमति नहीं बन पाई थी. सहयोगी कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेताओं के बीच बैठक में इस विषय पर तीखी बहस भी हो गई थी. दरअसल मंत्रिमंडल विस्तार में 12 सीटें पाने वाली कांग्रेस ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित दो विभाग और चाहती है और वो अपनी मांग पर अड़ी हुई है.

ये भी पढे़ं- 

यमुना को इतना स्वच्छ बनाएंगे कि उसमें लोग लगा सकेंगे डुबकी: CM केजरीवाल

बोतल में नहीं दिया तेल तो कर्मी पर पेट्रोल डालकर पंप में ब्लास्ट करने की कोशिश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 4, 2020, 11:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर